blogid : 133 postid : 1004

सावधान ! बिहार जाग चुका है

Posted On: 24 Nov, 2010 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

बिहार विधान सभा चुनाव के समापन के बाद आज मतों की गणना इलेक्ट्रॉनिक मशीन से चालू कर दी गयी है और सभी सीटों पर रुझान आने भी आरंभ हो चुके हैं. अब तक नीतीश कुमार का गठबंधन 200 सीटों पर बढ़त लिए हुए है. 243 सदस्यीय विधान सभा में स्पष्ट बहुमत का संकेत मिल रहा है. लालू प्रसाद यादव तथा कांग्रेस के हौसले पस्त दिख रहे हैं.


उम्मीद यही की जा रही है कि इस बार जद(यू) और भाजपा गठबंधन पूर्ण मैजोरिटी के साथ पुनः सत्तासीन होगी और बिहार के विकास की गाड़ी सरपट दौड़ लगाएगी. वर्षों से जातिवाद की आग में झुलसते बिहार के लिए ये शुभ संकेत है कि अब उन्हें विकास का पुख्ता नारा मिल गया है और ये नारा हकीकत की जमीन पर साकार होता भी दिख रहा है.


लेकिन यदि इस बार जैसा कि उम्मीद है कि नीतीश पुनः सत्ता में आ रहे हैं तो फिर उनसे उम्मीदें भी काफी ज्यादा होंगी. सुशासन, आर्थिक विकास सहित सभी वर्गों में सामंजस्य बनाए रखना उनके लिए सबसे बड़ी चुनौती होगी. देखना ये है कि नीतीश सभी की आशाओं, उम्मीदों, आकांक्षाओं को पूरा करने तथा बिहार के पुराने गौरव को वापस लाने में कितनी भूमिका निभा पाते हैं.

| NEXT



Tags:                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

janardansingh के द्वारा
November 29, 2010

SAWADHAN BIHAR KOO TECHNICALLY BOODHOO BANAYA JA RAHA HAI ,SABHEE GHOTALAY WALLAA LOG KO MANTREE BANAYA GAYA HAI, JALDEE BHANDA PHOOTANAY WALA HAI. O SABHEE LOG PARTY MEE HAI JO PAHALAY LOO JEE KEY SANG THEY. NEETISH KA BHEE BHANANDA PHOOTANEY WALA HAI.

jack के द्वारा
November 24, 2010

सही कहा आपने ..बिहार जाग चुका है. कल तक जाति और डर की वजह से निक्ममी सरकार चुनने वाले राज्य ने अब विकास की गाडी का दामन थाम लिया है.लेकिन इस बद्लाव में हमें युवाओं का सहयोग नही भूलना चाहिए. आज के परिणामों के बाद राज्य में युवा शक्ति को नई पहचान मिलने की उम्मीद है.

    omprakash pareek के द्वारा
    November 27, 2010

    आखिर आप सही साबित हुए. लालू – पासवान एवं राहुल की गाड़ी पटरी से उतर गयी और नितीश की रेल विकास के पहियों पर सरपट दौड़ चली है. नितीश के लिए यह बड़ी चुनौती है वहीँ बी. जे. पी. के लिए फिर NDA को पुनर्स्थापित करने का एक सुनेहरा मौका है. क्या होगा. यह तो समय ही बताएगा. इब्तिदाए इश्क है, रोता है क्या/ आगे-आगे देखिये होता है क्या. oppareek43


topic of the week



latest from jagran