संपादकीय ब्लॉग

जन-जीवन को प्रभावित करने वाले मुद्दे, राष्ट्र की आकांक्षाओं को मूर्त रूप देने वाले विचार, संवेदना की धरातल पर विमर्श की गुंजाइश को जनम देता ब्लॉग

431 Posts

680 comments

Editorial Blog


Sort by:

नए सवालों में राजनीति

Posted On: 17 Feb, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

4 Comments

गठबंधन की राजनीति

Posted On: 24 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

6 Comments

कामयाबी के बाद आपाधापी

Posted On: 2 Jan, 2014  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

2 Comments

अब तो चिड़िया चुग गई खेत

Posted On: 20 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

3 Comments

निराश करती राजनीति

Posted On: 2 Dec, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

0 Comment

बड़ा प्रश्न है सुरक्षा

Posted On: 22 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

0 Comment

नरेंद्र मोदी के मददगार

Posted On: 8 Nov, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

0 Comment

निर्धनता पर राजनीति

Posted On: 21 Oct, 2013  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

7 Comments

Page 1 of 4412345»102030...Last »

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES DEVELOPMENT ROLE OF SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE/PROFFESION ,IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES POVERTY SOLUTION AND BUSINESS(INDUSTRY) ,IN INDIA HINDU RELIGION ,INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DPOVERTYABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER VERY-VERY BIG ROLE OF INDIVIDUAL CASTES SUFFICIENT NUMBER LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE PROFESSION BY MANTU KUMAR SATYAM,Religion-Hindu,Category-O.B.C (Weaker section & minority), caste-Sundi(O.B.C weaker section & minority),Add-s/o.SHIV PRSAD MANDAL, FRONT BAIDYNATH TRADING AND HARDWARE, ,AIRCEL MOBILE TOWER, Near jamuna jour pool, near ramjanki mandir,castair town,SARWAN-MAIN ROAD, ,DEOGHAR,DISTRICT-DEOGHAR, JHARKHAND-814112,INDIA . occupation- MSCCRRA study from SMUDE,SYNDICATE HOUSE ,MANIPAL KARNATAK, POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS FROM INDIAN INSTITUTE OF HUMAN RIGHTS ,NEW DELHI (SESSION-2012-14)(ONE YEAR POST GRADUATE DIPLOMA IN HUMAN RIGHTS COMPLETE)& post graduate diploma in criminal justice and forensic science from Hyderabad university center of distance education(session 2012-13) BLOG - POVERTY SOLUTION IN INDIA,IN INDIA HINDU RELIGION INDIVIDUAL CASTES POVERTY REMOVE ,POWER(DABANG),BUSINESS(INDUSTRY) LAND OWNER ,GOVT TENDER ROLE OF LAWYER AND M.B.B.S/M.D/M.S BLOG DETAIL-concerned ,political,economical and social in reference INDIA ,HINDU RELIGION caste system social structure ,caste power(DABANG),business(INDUSTRY) and development. My content in INDIA like HINDU RELIGION complicated caste system ,caste power (DABANG),development or advancement or business(INDUSTRY) in social structure. In INDIA HINDU RELIGION any caste /INDIVIDUAL CASTES sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree or profession very big and very-very IMPORTANT role of advancement or development, power(DABANG) and business are in social structure.In reference of other profession officers and politicians very - very small role or huge difference COMPARISON than LAW and M.B.B.S/M.D/M.S HINDU RELIGION complicated caste structure of caste development,POWER and business. If individual castes have sufficient number of 10% lawyer M.B.B.S/M.D/M.S the casts benefit of 10% of sufficient number. Its important in other word say it,IN INDIA,HINDU RELIGION GENERAL CASTE (BRHAMAN,BHUMIHAR,RAJPUT,KAYASTH,KSHYATRIYA) or any other caste to now time do huge scale of business ,govt tender,land owner e.t.c .Have not possible of without sufficient no. of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S degree of individual general castes, HINDU RELIGION,INDIA for the maintain of caste power, advancement /development like huge scale of business ,land owner and govt tender .Without sufficient no.of LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree HINDU RELIGION ,general caste/and other huge scale of business,INDIA( due to same of complicated HINDU RELIGION ,CASTE social structure in INDIA) have many factors /issue arises of huge scale business ,huge scale LAND OWNER ,GOVT. TENDER e.t.c.Its have to said very-very big problem or have not possible. Also it have to say in deep of collaboration of one caste to other caste, HINDU RELIGION ,INDIA have sufficient NUMBER of LAWYER and M.B.B.S /M.D/M.S. In some cases it have to seen . Increase of business but it have not increase of own caste power without sufficient no. of L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S degree In under of the self/own HINDU religion (minority CASTES ),INDIA of complicated caste structure face very -very basic problem of life concerned of other then development without sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S DEGREE. Its have not any advantage of more people and its benefit of other profession like politicians and officers .Very-very small chances to join of politicians and officers (few number) two or three)rather then more peoples caste thousands to thousands. It also have to be seen census of India of HINDU RELIGION CASTE development in social structure with time. It have to be seen in INDIA HINDU RELIGION scenario minority caste have to huge benefit in some year join the sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S/M.D/M.S degree more development like power business complicated caste social structure rather then S.C/S.T join the profession politicians and officers in long to long time /year in same conditions.Also they caste have good manage of land owner in caste participate already in past time land have not exist but acquire rather then S.C and S.T. . It have to understand on the concept of constitution of INDIA in political power increase (In political power hidden of economic power ) of backward caste in HINDU RELIGION reservation of politicians and officers. In the point of the view NORTH INDIA YADAV caste have good NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more peoples caste( not minority) , caste in INDIA. NORTTH INDIA YADAV caste have sufficient NUMBER of L.L.B/L.L.M .Also KURMI caste in BIHAR/JHARKHAND have not sufficient NUMBER but good number of lawyers. Also have some number of M.B.B.S/M.D. NOTE-In the point of view L.L.B/L.L.M and M.B.B.S/M.D/M.S not meaning of only court and medicine practice( ONLY) but also have self business by person occupied the degree more to more effective /efficient due to key point /key master of caste power,business,land owner,govt. tender.But which caste have sufficient NUMBER of lawyer and M.B.B.S /M.D/M.S , by which caste persons LAWYER and M.B.B.S/M.D/M.S degree or professionals occupied have not done self/own business in the point of diplomatic view of hidden of power of doing business(INDUSTRY) NOTE- In the point of view B.TECH/M.TECH and M.B.A have not any role of caste POWER, development and business in HINDU religion,INDIA.But only like a simple job also in simple job arises many complicated issue like Industry demand ,complicated issue from powerful castes e.t.c.But it have not problem of HINDU RELIGION more population castes.

के द्वारा:

प्रिय जागरण जंक्शन ब्लॉग , जंक्शन ब्लॉग्स की अपडेत के बाद एक पाठक और ब्लॉग लेखक के रूप में आ रही कठिनाइयों से ,लगातार मेल पत्रों में आपको रूबरू कराने के बावजूद आपकी तरफ़ से न कोई प्रतिक्रिया या संवाद का स्थापित न हो पाना दुखदायी लग रहा है । ब्लॉग प्रकाशित होने के बावजूद स्ट्रीम में न दिखाई देना , डैशबोर्ड में टिप्पणियों के दिखने के बावजूद पोस्ट पर उनका मौजूद न होना , पोस्टों की संख्या , टिप्पणियों की संख्या , टिप्पणी उत्तर बॉक्स , आदि जाने कितनी ही कठिनाइयां महसूस की जा रही हैं । सबसे दुखद तो ये है कि पोस्ट के प्रकाशन के दो दो तीन तीन दिनों बाद भी पोस्ट पोर्टल पर कहीं भी नहीं दिखाई देती है । कृपया ध्यान दें और शीघ्र इसका निराकरण करने की कृपा करें । विवश होकर पोस्ट से इतर आप तक बात पहुंचाने के लिए यहां टिप्पणी करनी पड रही है ।

के द्वारा: ajaykumarjha ajaykumarjha

राहुल गाँधी के साथ सबसे बड़ी दिक्कत उनका राजनितिक रूप से निषक्रिय रहना है वे यही आभाष देते प्रतीत होते है जैसे बिना जायके का भोजन १०- वर्षो से अधिक का संसदीय अनुभव होने के बाद भी संसद में कभी हस्ताक्चेप करते नहीं दिखाई देते है परमदु समझोते के आलावा मात्र लोकपाल पर कुछ विचित्र विचार व्यक्त करते हुए किसी के लिखे को दुहरा क्र गेम चेंजर का खुद ख़िताब ओढ़ते चले गए उनके व्यक्तिगत सोच के बारे में अभी भी सीखते नजर आते है हर जडः अपने मम्मी का पल्लू पकडे दिखी देते है उत्तर प्रदेश के चुनाव में जो वेश-भुष तथा दायोलाग बोलते नजर आये वह नेता कम विदूषक अधिक लग रहे थे किसी का घोशादा पात्र फाड़ना जिसपर अखिलेश यादव ने चुटकी भी ली की स्टेज से कूदने की बात कही जाने लगी क्या दस साल के संसदीय अनुभव के बाद भी सलमान खान एवं आमिर खान की तरह चुनाव के समय बहुरुपिया रूप धारण करना यह साबित कर्त्ता है की अभी राहुल बाबा ही बने हुए है मोदी जैसे घुटे एवं अनुभवी राजनितिक के सामने राहुल सहानुभूति तो प् सकते है और प् भी रहे है की बड़ा मेहनत क्र रहे है लेकिन वह किस कम का क्या इंदिरा गाँधी कभी लोकल में तो कभी मोटर साईकिल से छापामार शैली में किसी डिग्री कालेज के छात्र नेता लगते है इस सहारे प्रधान मंत्री पद के लिए वोट मागना एक चुटकुले से अधिक नहीं आपने बहुत नंबर दे दिए इसी तरह राजनीत में आने के पहले दिन से ही प्रधान मंत्री बल्कि प्रधान मंत्री होने के लिए ही चारो तरफ से छेका करने से कोई कुछ हो सकता है मुझे पूरा विस्वास है की अगेर सोनिया गाँधी के जीतेजी प्रधान मंत्री बन पाए तो ठीक नहीं तो राहुल जिसतरह का विचार रखते है की मई उनका भविष्य धरती पकड़ या घोड़े वाले की हो जाएगी

के द्वारा:

आज मै एक ऐसी रचना लेकर आप सब के सामने उपस्थित हुआ हूँ, जिसे पढ़कर आप सब की आँखे नाम हो जायेगी. और यही हमारे देश की कड़वी सच्चाई भी है, इस कविता के माध्यम से मै ऋषभ शुक्ला, इस समाज का निर्दयी ही सही लेकिन है तो सच. आज हमारे समाज के लोग महिलाओ के प्रती वही पुरानी सोच रखते है जो वह हमेशा रखते आये है, और आगे भी ऐसी ही सोच रखने का इरादा है. गरीब माँ-बाप अपनी बेटियों को बोझ समझते है और वह संतान के रूप में एक बेटा चाहते है, और इसके लिए वह गर्भ में ही जाच के द्वारा उन्हें यदी पता चल गया की गर्भ में बच्ची है तो उसे इस दुनिया में आने से पहले ही मार देते है, उस नन्ही सी जान को जो इस निर्मम दुनिया में आने को बेताब रहती है, उसकी सभी इच्छाओ को भी मार देते है . मै इस कविता के माध्यम से उस छोटी गुडिया के दर्द को आप सब से मुखातिब करने का प्रयत्न कर रहा हूँ. कृपया मेरी गुजारिश है की आप सब इस लिंक को देखे और उसके बारे में कम से कम दो शब्द कहे. यदी कमेंट देने में कोई असुविधा हो तो उसे लाइक करे या वोट करे. http://rushabhshukla.jagranjunction.com/?p=25 शुक्रिया

के द्वारा: ऋषभ शुक्ला ऋषभ शुक्ला

आप कह रहे है की साख के संकट से घिरी है सरकार. जबकी सरकार की साख तो बहूत पहले ही जा चुकी है. ये मै नहीं सारा देश कह रहा है. और मुझे लगता है की जितना हम और आप सब इस सरकार की साख के बारे में सोचते है उतनी दफा तो सरकार और उसके मंत्री भी नहीं सोचते है. जब हम सोचते है की सरकार जग चुकी है उसी छड एक नया घोटाला सामने आ जाता है. कांग्रेस तो एक घोटाले को छुपाने के लिए हर रोज एक नया घोटाला करती है. सरकार के मंत्री सिर्फ इसी बात का ध्यान रखने है की जनता और मीडिया किसी भी मुद्दे पर ज्यादा ध्यान न दे पाए, इससे पहले की मीडिया घोटाले की तह तक पहुचे हम एक नया घोटाला सामने ला देंगे. और अगर मीडिया जल्दी घोटाले के तह तक पहुँच भी गयी तो क्या हुआ हम उस मंत्री का इस्तीफा लेकर पुनः मामले के शांत होने के बाद फिर से सरकार में जगह दे देंगे. और फिर सभी भ्रष्टाचारी एक साथ नर लगायेंगे - जय कांग्रेस, जय भ्रष्टाचार. जय भारत, जय भ्रष्टाचारी. http://rushabhshukla.jagranjunction.com/?p=13

के द्वारा: ऋषभ शुक्ला ऋषभ शुक्ला

के द्वारा:

मेरे ख्याल में आत्म मंथन की जरुरत तो हर समय है केवल घोटालों के उजागर होने के बाद ही कोई नेता या मंत्री आत्म मंथन या आत्म चिंतन करे ऐसा कहना लाजमी नहीं आज जो कुछ देश में हो रहा है वह सब कुछ जनता के सामने है पर यहाँ की ७५ से ८० प्रतिशत जनता तो अपने रोजमर्रा की रोटी कमाने में जद्दोजहद कर रही है ऐसे में जनता से कोई उम्मीद करना की जनता भ्रष्टाचार के मुद्दे को लेकर कोई गंभीरता दिखाएगी यह एक बेकार का सोंच है यह ब्लाग यह समाचार अपने देश के कितने प्रतिशत लोग पढ़ते हैं और समझते हैं और पढने के बाद कुछ प्रतिक्रिया स्वरूप कहीं धरना प्रदर्शन करते हैं हाँ जब अन्ना हजारे ने अपना आन्दोलन भ्रष्टाचार के खिलाफ छेड़ा तो लगने लगा था अब जरुर नेता कुछ भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने की सोचेंगे पर ऐसा जनता और अन्ना का सोचना बेकार साबीत हुवा एक तरफ तो आन्दोलन चलता रहा और दूसरी तरफ नित नए घोटालों का पर्दाफाश होता रहा और ऐसा लगने लगा जैसे भ्रष्टाचार और ज्यादा कैसे किया जाये इस होड़ में इस देश के नेता जुट गए क्या कांग्रेस और क्या बीजेपी सबनो बहती गंगा में खूब नहाया खूब कमाया क्यूंकि उनको पता है यहाँ कुछ होनेवाला नहीं और जनता का क्या है ? वह तो बड़े बड़े घोटाले कबका भूल चुकी है उनमे एक घोटाला बोफोर्स का भी था क्या हुवा? उसका किसको सजा मिली? अतः इन घोटालों का भी कुछ नहीं होनेवाला और फिर से यही नेता यही पार्टियाँ चुनकर सरकार बना लेंगी और फिर से जो लोग अभी कमाने में पीछे छुट गए हैं वे कमाने में लग जायेंगे हो सकता है कुछ नए चेहरे भी दिखाई दें पर वे तो और भूखे प्यासे होंगे और उनका पेट तो बमुश्कील हीं भर पायेगा और नेताओं के बयां तो लोग सुन ही रहे हैं वे सिरे जो भी आरोप इन पर लग रहें हैं उन आरोपों को गलत आरोप कहकर जाँच करने से भी मना कर दे रहें हैं अब जब किसी मामले का जाँच ही नहीं होगा, फिर असली तथ्यों का पता किसको चलेगा? और किसको दोषी कहा जायेगा? अतः वह कहावत है न " न नौ मन तेल होगा न राधा नाचेगी " वैसे ही न जांच होगी न कोई खुलासा होगा और जनता इसे भूल जाएगी फिर चुनाव हो जायेंगे फिर सरकार बन जाएगी और जिन अधिकारों के बल बूते पर कुछ आर टी आई कार्यकर्ताओं ने ये खुलासे देश की जनता के सामने लाये उस सुचना के अधिकार को ही ये समाप्त कर देंगे ये नेता कहते हैं सौ सौ जूते खाकर भी तमाशा घुस कर देखेंगे अब जनता क्या करेगी? यह तो वक्त ही बताएगा मुझे नहीं लगता इस देश की जनता कुछ कर पायेगी और यह देश यूँ ही चलता रहेगा जनता रोज ख़बरों में आर्थिक मंदी , जीडीपी , इन्फ्लेशन इत्यादि खबरे सुनती रहेगी और अपना अपने तरीके से उनका मतलब निकालती रहेगी बस .

के द्वारा: ashokkumardubey ashokkumardubey

आदरणीय निशिकांत ठाकुर जी, इस सम्पादकीय के अक्षर-अक्षर से मेरी सहमति है, ऐसे गंभीर विषय पर अत्यंत संतुलित विचार के लिए हार्दिक साधुवाद ! किन्तु आज-कल सभ्य चेहरों में छिपे भूतपूर्व अनुभवी तथा कल्पनाशील भावी बलात्कारी हर गली-मोहल्ले में मौजूद हैं; यहाँ तक कि शासन-प्रशासन, संसद-विधान सभाओं, न्यायालयों, पुलिस-सेना, शिक्षा-मीडिया, महंत-पुजारी आदि सब के बीच इनकी उपस्थिति से इन्कार नहीं किया जा सकता | ऐसे में आप ने इन नारी-जीवन को तहस-नहस करने वालों के लिए उचित सज़ा का उल्लेख क्यों नहीं किया ? अधिकतर मामलों में बलात्कारियों को दूध से धुला मान लिया जाता है और बाकी में सांकेतिक सज़ा से न्याय की इतिश्री हो जाती है | मेरी समझ से मौत की सज़ा से कम पर समझौता करना भुक्तभोगी नारी-समाज के प्रति जीते-जी मरते रहने देने की कठोर दुर्भावना और दुष्कर्मियों के प्रति 'अच्छा कान पकड़ो' और उनके कान पकड़ लेने पर आँख के इशारे से हट जाने का संकेत देने-जैसा समर्थन है |

के द्वारा: Santlal Karun Santlal Karun

आदरणीय संजय जी, मैं आपके लेख पर प्रतिक्रिया देने की धृष्टता करने जा रही हूँ, क्योंकि मुझे आपके लेख का शीर्षक ही उपयुक्त नहीं लगा. सरकार द्वारा पांच वर्षों के कार्यकाल में आधे से ज्यादा समय घोटालों की गिनती में निकाल दिए गए. जब वक़्त था तब लोकपाल बिल और काले धन जैसे अहम् मुद्दों पर ठेंगा दिखाया गया और अब जब सूरज ढलान की और है तो कैग को उसकी औकात की याद दिलाकर व्यवस्था सुधारने की बातें की जा रही हैं. रही बात लंबित आर्थिक सुधारों में तृणमूल कांग्रेस का दबाव नहीं होने की बात तो शायद शेष बचे दिनों में सपा और बसपा जैसे दलों का दबाव बल्कि दबदबा सरकार के ऊपर रहेगा उसकी व्याख्या आप कहीं बेहतर कर सकते हैं.

के द्वारा:

aadarniy संजय जी, आपके आलेख से प्रधानमंत्री की आर्थिक सुधारों को आगे बढ़ने के लिए प्रशंसा की गयी है. किन्तु माफ़ी के साथ कहना चाहूँगा की प्रधानमंत्री जी ने आर्थिक सुधारो को दोबारा शुरू करने के लिए वाही समय क्यों चुना जब वाशिंगटन पोस्ट ने उन्हें नसीहते दी.जब टाइम पत्रिका ने उन्हें अंदर एचीवर करार दिया. जब कोयला घोटाले पर वे देश को कोई ठोस सफाई नहीं दे सके. यदि कोयला खानों और स्पेक्ट्रम की नीलामी की जाती तब गैस और डीजल पर सब्सिडी कम करने की कोई आवश्यकता ही नहीं होती. अम्रीका अपने यहाँ तमाम सब्सिडी दे रहा है और भारत पर सब्सिडी कम करने को दबाब डाल रहा है. रिटेल में वालमार्ट जैसी कम्पनियों के आने से भारत के फुटकर व्यापारी, जो असंगठित है बर्बाद हो जायेंगे, ऐसा अम्रीका में ही साबित भी हो चूका है. ये कम्पनिया किसानो का कोई हित नहीं करने वाली क्योकि इनका एक मात्र उद्देश्य लाभ कमाना होता है. प्रधानमंत्री भ्रष्टाचार, महंगाई, को रोकने के लिए इतने प्रयास क्यों नहीं करते जितने सब्सिडी कम करने या विदेशी कम्पनियों को भारत का फुटकर व्यापर सोपने के लिए करते है. सदर, राजीव वार्ष्णेय

के द्वारा: Rajeev Varshney Rajeev Varshney

आरक्षण न तो सवर्णों का त्याग है और न पश्चाताप और न ही मजबूरी | मजबूरी का नाम तो कभी महात्मा------हो ही नहीं सकता | क्योंकि महात्मा का लोग अर्थ समझते हैं महान आत्मा और जिसकी और इशारा है वह -------महात्मा था ही नहीं | आरक्षण यदि सवर्णों का त्याग होता तो दलितों को यह हजारों साल पहले मिल गया होता | आरक्षण यदि सवर्णों का पश्चाताप होता, तो भी यह दलितों को हजारों साल पहले मिल गया होता आरक्षण यदि सवर्णों की मजबूरी होती तो भी यह दलितों को हजारों साल पहले मिल गया होता | आरक्षण यदि मजबूरी का नाम महात्मा------होता तो गाँधी इसका विरोध कभी नहीं करते ! चूँकि दलितों को आरक्षण तो १९३१ में ही अंग्रेजों ने दे दिया था | राजनैतिक आरक्षण तब दिया गया जब दलितों की बराबर की हिस्सेदारी की मांग डॉ बी आर अम्बेडकर ने अंग्रेजों से की थी और अंग्रेजों ने इसे लागु करने का मन भी बना लिया था | किन्तु तथाकथित गाँधी ने सितम्बर १९३२ में आमरण अनशन करके दलितों की हिस्सेदारी की मांग को दरकिनार करा दिया | आरक्षण का विरोध व् समर्थन करने वाले सभी को यह समझना जरूरी है की आखिर आरक्षण क्यों दिया गया ? शायद इस प्रश्न का उत्तर गिने -चुने लोग ही जानते होंगे | मेरे पास इसका उत्तर आज भी है किन्तु मैं इसका उत्तर इस लेख में नहीं देना चाहता | फिर भी ऊपर सुझाये गए मत से मैं सहमत नहीं हूँ क्योंकि जब तक इस देश में जाति व्यवश्था कायम रहेगी तब तक अछूतपन बना रहेगा और जब तक अछूतपन रहेगा तब तक बराबरी नहीं आ सकती ! फिर भी आरक्षण का विरोध करने वालों को याद रखना चाहिये कि केवल राजनैतिक महत्वाकांक्षा की खातिर झूंठ का सहारा क्यों लिया जा रहा है कि प्रमोशन में आरक्षण असवैधानिक है ? उनका यह कहना हास्यापद है कि प्रमोशन में आरक्षण मिलने से जूनियर, सीनियर हो जायेगा और सीनियर, जूनियर हो जायेगा | विदित रहे कि सरकारी नौकरियों में प्रमोशन चरित्र प्रविष्टी के आधार पर होता है अर्थात किसी दलित का प्रमोशन भी तभी होगा जब उसकी चरित्र प्रविष्टी अच्छी होंगी | फिर किसी सामान्य व्यक्ति की योग्यता कैसे प्रभावित हो सकती है ? प्रमोशन में आरक्षण श्री मोहनदास करमचंद गाँधी व् डॉ० भीमराव अम्बेडकर के बीच २३ सितम्बर १९३२ में हुए पूना पैक्ट के अनुसार दलितों का अधिकार है और यह अधिकार मिलना ही चाहिए | साथ ही एस० सी०/एस०टी० की भांति उच्च पदों पर पिछड़े वर्ग का पर्याप्त प्रतिनिधित्व न होने के कारण पिछड़े वर्ग का भी प्रमोशन में आरक्षण का प्राविधान होना चाहिए | प्रमोशन में आरक्षण का विरोध करने वालों को भी सदबुद्धि से दलितों के साथ साथ पिछड़ों को भी प्रमोशन में आरक्षण मिले, यही मांग करनी चाहिए | प्रमोशन में पिछड़े वर्ग को भी आरक्षण मिले इस मांग का पूरा दलित समाज समर्थन कर रहा है | यदि उपरोक्त मांग आरक्षण विरोधियों को अच्छी न लगे तो दूसरा विकल्प है कि देश की धन-धरती, शासन प्रशासन, सेना, न्यायपालिका, व्यापार और मीडिया पर काबिज लोग एक बार दलितों को देश की धन -धरती, शासन प्रशासन, सेना, न्यायपालिका, मीडिया और व्यापार में आबादी के अनुपात में बराबर की हिस्सेदारी दे दो |   यदि आरक्षण विरोधियों को दूसरा विकल्प भी अच्छा नहीं लग पा रहा हो तो तीसरा विकल्प है कि फिर पूरे देश में अंतरजातीय विवाह अनिवार्य कर २० साल के अन्दर जाति नाम का समूल नाश कर जाति व्यवस्था ख़त्म कर समता मूलक समाज बना दो | शायद फिर दलितों को प्रमोशन में आरक्षण और नौकरियों में आरक्षण की कोई जरूरत नहीं पड़ेगी | यदि आरक्षण विरोधी उपरोक्त तीनो विकल्प में से कोई भी मानने को तैयार नहीं है तो फिर देश के मूलनिवासी दलितों और पिछड़ों को तीसरी आज़ादी की लड़ाई के लिए तैयार हो जाना चाहिए | -धर्मेन्द्र प्रकाश, अध्यक्ष, भारतीय मूलनिवासी संगठन |

के द्वारा:

महोदय, कृषि प्रधान देश और कृषक बेहाल कैसी विडम्बना है ! किसी किसान द्वारा सूखा / अतिवृष्टी / बाड़ / विद्युत् संकट / उर्वरक संकट / डीजल संकट जैसे कई संकटों से जूझने के बाद फसल पैदा की गई हो और उसी फसल को लेकर बाज़ार में बिचौलियों के मध्य उन्हीं की शर्तों पर फसल को बेचने की बाध्यता हो ऐसे में उसका दुःख उसके अतिरिक्त कोई नहीं समझ सकता ! देश आज़ाद हुए 66 वर्ष हो गए लेकिन हमारे कमबख्त नेतृत्व ने किसान के हितों को सदैव अनदेखा किया है ! लगभग पौनी सदी बीत गई लेकिन ये दुष्ट प्राकृतिक आपदाओं से निपटने की कारगर योजनायें तक नहीं ला पाए ! जल संरक्षण जैसे उपाय कागजों तक ही सिमित रह गए ! कृषि की उच्चय तकनीक का लाभ केवल चंद लोंगों तक ही पहुँच पाया ! इसमें सारा का सारा दोष देश के भ्रष्ट नेतृत्व का ही है !

के द्वारा: rajuahuja rajuahuja

हेल्प फॉर जस्टिस Sir Please Help me IS REQUEST KO HON'BLE PRESIDENT OF INDIA AND HON'BE CHIEF JUSTICE OF INDIA TAK PAHUCHANE KI KRIPA KARE ME AAPKA ATI ABHARI RAHUNGA THANKS ME IS DESH KA EK GARIB IMANDAR LADKA HU JO PICHLE 2 SAAL SE IMANDARI KI GOVT. JOB LAGNE KE BAAD B JOINING KA WAIT KR RHA HU SIR MERI AUR WAKI CANDIDATE KI MAINPURI DISTRICT COURT ME CLERK KE POST PAR SELECTION HUA THA AUR JOINING LETTER B DIYA GYA JOINING K LIYE BULAYA GYA BUT HUME AFTERNOON K BAAD LOTA DIYA GYA AUR JO CANDIDATE HON'BLE ALLAHABAD HIGH COURT NE ISI CLERK K POST SE PEHLE BARKHAST KR DIYE THE UNHONE HON'BLE SUPREME COURT OF INDIA ME PETITION DAAL DI AUR EK CASE TO HUM JEET GYE BUT EK CIVIL APPEAL NO. 2882/2012 PICHLI 2-03-2012 KI HEARING K BAAD AAJ TAK USKI DATE N LAYAGI JA RHI JISKE KARAN MUJE BHUT MENTALLY PROBLEM HO R H AUR ME TO GARIB LADKA HU MERI MOTHER KO HEART KI PROBLM HAI AUR FATHER KO DIABETES KI PROBLEM HAI PHIR B WO JOB KRNE JATE H BUDAPE ME AUR MENE UNKA SAHARA BANNE KI SOCHI TO AISE JESE MEHNAT KRKE IMAANDARI SE JOB LAGWAYI TO USKI JOINING K LIYE AAJ TAK TARAS RHA HU AGAR MERE PAAS PESE HOTE TO KISI B DEPARTMENT ME RISWAT DEKR JOB LAGWA LETA AUR AARAM SE SARKARI NAUKRI KR RHA HOTA TAB YE PROBLEM N JHELNI PDTI JO AB JOB LGNE KE BAAD B JHELNI PAD R H IS BHRASTH SAMAY ME HUM JESE GARIB IMANDAR LOGO KI KOI JARURAT N H SIR ME AAPSE REQUEST KRTA HU MUJE BHUT JYADA ECONOMICALLY AUR MENTALLY PROBLEM JHELNI PAD RAHI HAI MUJPE AB APNE GHAR KI HALAT AUR JYADA GIRTE HUE N DEKHI JA SAKTI ME GARIB HU AUR DUSRA GENERAL CATEGORY ME AATA HU TO HON'BLE COURT KI FREE CASE LADNE KI SUBIDHA B BDI MUSKIL SE HI MILEGI TO HUM JESO K LIYE KAHA H SAMANTA AUR JUSTICE? AUR MENTALY DISTURBANCE K WAJAH SE DUSRE EXAM KI PREPARATION B N HOTI KI JOB LAGTE HUE B N MILI AUR AGAR JOB KI KARU B TYARI TO 400 YA 500 YA 1000 RUPEE EXAM FEE KAHA SE LAU BHARNE PLEASE SIR HELP ME PLEASE SIR HELP ME HON'BLE PRESIDENT OF INDIA AND HON'BLE CHIEF JUSTICE OF INDIA SIR AGAR AAP MADAD NAHI KAR SAKTE TO ICHCHA MRITYU DENE KI KRIPA KARE DHANYABAD

के द्वारा:

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा: melissa melissa

खाली!! मेरा नाम मेलिस्सा है मैं लंबा, अच्छी लग रही है, संपूर्ण शरीर आंकड़ा और सेक्सी हूँ. मैं अपने प्रोफ़ाइल देखा और आपसे संपर्क करने के लिए खुश था, मुझे आशा है कि आप सच्चे प्यार, ईमानदार और देखभाल व्यक्ति है कि मैं 4 देख रहा है हो जाएगा, और मैं कुछ खास करने के लिए आप मेरे बारे में बताना है, तो मुझे अपने ईमेल के माध्यम से सीधे संपर्क करें पर पता (annanmelissa@hotmail.com) इतना है कि मैं भी आप के लिए मेरी तस्वीर भेज सकते हैं सीधे. का संबंध है मेलिसा Hallo!!! My name is Melissa I am tall ,good looking, perfect body figure and sexy. I saw your profile and was delighted to contact you, I hope you will be the true loving, honest and caring person that I have been looking 4, And I have something special to tell you about me, So please contact me directly through my email address at (annanmelissa@hotmail.com) so that I can also send my picture directly to you. regards Melissa

के द्वारा:

श्रीमान जी आपने देश की एक बहुत ही गंभीर समस्या की ओर इंगित किया है, आज देश में एक आम भावना बन गयी है की शांतिपूर्ण विरोध का कोई मतलब नहीं है , ऐसा उस देश मर हो रहा है जो अपने को गाँधी जी का अनुयायी मानता है, लेकिन यही वास्तविकता है. यदि किसी वैधानिक मांग के लिए हजारो लोग भी शांतिपूर्ण आन्दोलन करते है तो सत्ताधारी उनका मजाक उड़ाते है ओर मीडिया नजरअंदाज करता है. वही यदि २० लोग भी कही आगज़नी करते है तो ब्रेअकिंग न्यूज़ बन जाती है और सत्ताधारी जन्भाव्नाओ का आदर करने का राग अलापने लगते है. मानसिकता को बदलना पड़ेगा और हिंसक तत्वों का प्रोत्साहन बंद कर इमानदार प्रयास को सहयोग देना होगा.

के द्वारा:

के द्वारा:

ठाकुर साहब,संकट लेकतन्त्र का नहीं बल्कि सभ्यता का उत्पन्न हो रहा है ।समझ में नहीं आता कि क्या राजनीतिक पार्टियों की कोई बिचारधारा है भी या नहीं,शायद नहीं ।ऐसा लगने लगा है कि कुछ लोगों ने सत्ता को अपनी वपौती मान लिया है और इसके लिए वे जाति,धर्म,सम्प्रदाय त़था पैसे के आधार पर कुछ भी हासिल करना चाह़ते है ।इस सबके लिए अब केवल राजनेताओं को दोषी नहीं ठहराया जा सकता ।वास्तव में इसके लिए हम सभी स्वनामधन्य प्रबुद्ध और जागरूक लोग दोषी है ।अब न केवल उपयुक्त समय आ गया है,बल्कि देर भी हो रही है,यदि इस बार जाति, धर्म इत्यादि से ऊपर ऊठ कर अपने बहुमूल्य वोट को सार्थकता नहीं प्रदान की जाएगी । विश्लेषक ।

के द्वारा: vishleshak vishleshak

दिगविजय सिंह लगता है कि भोदू बाबा को समझा दिए है कि अगर अल्पमत की सरकार बनती है तो आप प्रधान मंत्री मत बनिएगा दिगविजय को लगता है कि इन हालत में मनमोहन सिंह वाली पगड़ी राहुल गाँधी मेरे सर पर रखेगे इसी लिए अपना मन-सम्मान ,प्रतिष्ठा किसी का ख्य भूल चुके है अपने स्वार्थ में इतने अंधे हो गए है कि उन्हें यह भी नहीं महसूस हो रहा है कि गली के आवारा कुत्तो के भूकने से अधिक महत्व नहीं मिलने वाला वह जितना भूक रहे है उतना ही मुसलमानों को चिढ हो रही है कि ये साला आज तक कुछ किया नहीं इन्ही कांग्र्रेसियो की वजह से आज मुख्य धरा से भी कट दिया है ओउर आज कोई प्रगतिशील कार्यक्रम लाये कुछ कर दिखाए तो सिर्फ आर.आर.एस.का भय दिखा क्र अपना उल्लू सीधा करना चाहता है बिहार में मुसलमानों के इलाको से भ.ज.पा.को उसी तादाद में वोट मिले थे अब कांग्रेस की पोल खुल गयी है अन्ना टीम पर बयानबाजी कर विदुसक मी भूमिका में नजर आते है जिससे राहुल का गंभीर मुद्दा भी हवा-हवाई हो जाता है इनके चुटकुले राहुल को भो चुटकला बना रहा है अन्ना टीम को लांछित कर अपना नंगापन उघाड़ रहे है आन्दोलन के चंदे का सवाल उठा खुद फस गए जब केजरीवाल ने कांग्रेस से चंदे का हिसाब तलब किया श्री श्री रविशंकर को किसी का मुखौटा कहना राहुल,सोनिया को कही इतना भरी न पद जय कि जिस तरह दुनिया में तानाशाहों को मागे शारद नहीं मिल रही है तो यही हल रहा तो कुछ भी हो सकता है. क्योकि अब पानी सर से उपर चला गया है सोनिया गाँधी को भारतीयता का ढोग नहीं कराती तो तत्काल दिग्गी की जुबान पर लगाम लगाये नहीं तो अन्ना ओऊ श्री श्री जैसे संतो का अपमान जनता एक हद तक ही बर्दास्त करेगी.ओउर बाध्य कर सोनिया को पुराने क्रिस्चिय्न्ति में ही जगह मिलेगी.

के द्वारा:

राजनीतिक नेतृत्व को आतंकवाद के खिलाफ सख्ती बरतने का सुझाव दे रहे हैं निशिकान्त ठाकुर...वाजिब बात है।  आपके सुझावों में काफी ताकत है। इसे क्रियान्वित किया जा  तो संभव है कि काफी हद तक पाकिस्तान प्रायोजित आतंकी  गतिविधियों पर रोक लग सके। आपके सुझावों से सहमत होते  हुए आपकी ही बातों को आगे बढ़ाते हुए कहना चाहूंगा कि बड़ी  आतंकी गितिविधियों पर रोक लगाने में सक्षम अधिकारियों को  वाजिब पुरस्कार मिलना चाहिए, वहीं आतंकी गितिविधियों में  शामिल आतंकवादियों को माननीय न्यायपालिका से मिली सजा  को क्रियान्वित किये जाने की जरूरत है। संसद की सुरक्षा या  मुम्बई में शहादत देने वाले जवानों को मुझे लगता है, हम सच्ची  श्रद्धाजंलि तक नहीं दे सके हैं..... आदरणीय निशि कान्त ठाकुर जी आपसे निवेदन है कि कम से कम हम जैसे लोगों के  विचारों पर प्रतिक्रिया दें बात कुछ आगे बढ़े। प्रतीक्षा में....     

के द्वारा: pramod chaubey pramod chaubey

भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलनरत अन्ना और उनके साथियों को राजनीति के पचड़े में फंसते देख रहे है राजीव सचान.....वास्तविकता है। एक मां के कोख से  पैदा हुए लोगों के विचारों में मतभेद होता है। टीम अन्ना इससे नहीं बच सकती थी। अभी तो परेशान कांग्रेस ने कुछ ऐसा ही किया।  देश में हुकूमत यूपीए की है, राजग की नहीं। ऐसी दशा में स्पष्ट मत  से भ्रष्टाचार के खिलाफ पूरे देश में बिगुल फूंकने पर यूपीए के सबसे  बड़े घटक दल कांग्रेस को पीड़ा होगी। लोकपाल और जन लोकपाल के सवाल पर कांग्रेस का मत स्पष्ट नहीं है तो अन्ना टीम के कमजोर होते ही  अन्य दल भी इससे मुंह मोड़ लें तो आश्चर्य नहीं होना चाहिए। 

के द्वारा: pramod chaubey pramod chaubey

के द्वारा:

यह तो स्पष्ट है कि जिस प्रकार स्पेक्ट्रम घोटाले पर सरकार बचाव की मुद्रा में है और डी.एम्.के. के साथ व्यवहार कर रही है उससे यही आभाष होता है कि बात खाली राजा की नहीं इसमें कांग्रेस ने भी हिस्सा बटाया है क्योकि यह मामला २ साल से चल रहा है और प्रधानमंत्री से लेकर सभी शुरुआत से ही राजा को बचाते रहे है हमारे विश्व के सबसे इमानदार मनमोहन ने भी उन्हें क्लीन चिट दी वही साबित करने के लिए बहुत है कि जम कर लूट और बटवारा हुआ है अब एक-एक कर परते खुलती जा रही है वह तो सर्वोच्च न्यायलय के डंडे के चलते आज राजा जेल में है और मनमोहन तथा चिदंबरम को गवाही के लिए न्यायलय में माग की है,और जैसा झगडा-रगडा चल रहा है और महारानी को हस्तचेप करना पड़ा वह भी इसी तरफ इशारा करता है कि मुख्य झगडा बटवारे का ही है.

के द्वारा:

सच्चान जी , भारत के लोकतंत्र का एक दौर ऐसा भी था जब लोग अपनी नैतिक ज़िम्मेदारी मान कर बड़े बड़े ओहदों से इस्तीफा दे देते थे !जब की प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप में भी उनका कोई दोष नहीं होता था !लेकिन अंतरात्मा नैतिक जवाबदेही देती थी ! जिन्दा था ज़मीर उनका ! आज उसी लोक तंत्र में भ्रस्टाचार के आरोप पर आरोप लगें ,साबित भी हो जाएँ लेकिन कुतर्कों के बल पर ,बेशर्मी से आँखें बंद करते जनप्रतिनिधि देखे जा सकते हैं !यह तो हद ही हो गई न ?पूरी की पूरी सरकार पर सर्वोच्य न्यायालय की टिपण्णी आखिर क्या साबित करती है ? शास्त्र कहते है ,जब काफी अनुनय विनय के बाद भी हठी समुद्र मार्ग देने को राज़ी नहीं हुआ तो रघुवर ने बाण संधान लिए ! ",भय बिनु प्रीत न होई गोपाला " इतिहास साक्षी है महात्मा गाँधी ने मात्र सत्याग्रह अथवा अनशन का ही रास्ता नहीं चुना उनके आन्दोलन में नमक कानून तोडना भी था ,असहयोग भी था ! माना तब लोकतंत्र नहीं था !लेकिन आज की तानाशाही को क्या आप लोकतंत्र की संज्ञा देंगें ? ऐसी सरकार जो अवाम के मूल भूत अधिकारों का हनन करती हो , जिसे अवाम की कोई फिक्र न हो !जो सत्ता को जन्म सिद्ध अधिकार माने !क्षमा कीजिए यह लोकतंत्र नहीं बस तंत्र ही तंत्र है ,गुलाम मानसिकता वाला तंत्र ! ऐसे में यदि अवाम का आक्रोश अन्ना की आवाज़ में फूटता है तो कुछ लोंगों को पीढा होती है !उन्हें देश के हालात पर पीढा नहीं होती !आकंठ भ्रस्टाचार में लिप्त व्यवस्था पर पीढा नहीं होती !लोकतंत्र की मर्यादा का पाठ पढ़ाने वाले कितने लोकतान्त्रिक है यह जगजाहिर है !

के द्वारा: rajuahuja rajuahuja

लोकपाल बिल का जो प्रारूप हमारे विधिवेत्ताओं,समाजसेवियों तथा अन्य गणमान्य व्यक्तियों द्वारा प्रारम्भ में तैयार किया गया था वह सर्वप्रथम १९६८ में पारित होने के लिए` संसद में प्रस्तुत किया गया लोकसभा में पारित होने के पश्चात भी लोकसभा भंग हो जाने के कारण इस बिल का भविष्य खटाई में पड़ गया,तदोपरांत भी १९७१,,१९७७,१९८५,१९९६ ,१९९८,२००१,२००५ तथा २००८ में इसको आगे बढ़ाने के प्रयास हुए परन्तु कुछ तो प्रयास आधे अधूरे और कुछ खोटी नियत सत्ताधारियों की अतः इसकी यात्रा अधर में ही लटकी रही. लोकपाल बिल का स्वरूप इस प्रकार था इस कानून के तहत केंद्र में लोकपाल और राज्यों में लोकायुक्त का गठन होगा। यह संस्था चुनाव आयोग और उच्चतम न्यायालय की तरह सरकार से स्वतंत्र होगी। किसी भी मुकदमे की जांच एक साल के भीतर पूरी होगी। ट्रायल अगले एक साल में पूरा होगा। भ्रष्ट नेता, अधिकारी या जज को 2 साल के भीतर जेल भेजा जाएगा। भ्रष्टाचार की वजह से सरकार को जो नुकसान हुआ है अपराध साबित होने पर उसे दोषी से वसूला जाएगा। अगर किसी नागरिक का काम तय समय में नहीं होता तो लोकपाल दोषी अफसर पर जुर्माना लगाएगा जो शिकायतकर्ता को मुआवजे के तौर पर मिलेगा। लोकपाल के सदस्यों का चयन जज, नागरिक और संवैधानिक संस्थाएं मिलकर करेंगी। नेताओं का कोई हस्तक्षेप नहीं होगा। लोकपाल/ लोक आयुक्तों का काम पूरी तरह पारदर्शी होगा। लोकपाल के किसी भी कर्मचारी के खिलाफ शिकायत आने पर उसकी जांच 2 महीने में पूरी कर उसे बर्खास्त कर दिया जाएगा। सीवीसी, विजिलेंस विभाग और सीबीआई के ऐंटि-करप्शन विभाग का लोकपाल में विलय हो जाएगा। लोकपाल को किसी भी भ्रष्ट जज, नेता या अफसर के खिलाफ जांच करने और मुकदमा चलाने के लिए पूरी शक्ति और व्यवस्था होगी। सम्पूर्ण मशीनरी के आकंठ भ्रष्टाचार में डूब जाने के कारण कुछ विचारकों ऩे भ्रष्टाचार के विरोध में झंडा उठाया और सक्रिय हुए.वेबसाईट,समाचारपत्र तथा अन्य माध्यमों से यह मुहीम आगे बढी तथा इसका संशोधित रूप तैयार किया गया.

के द्वारा:

के द्वारा:

हम कैसा इतहास बना रहे हैं I अपने देश के कुछ समुदायों को खुश करने के लिए राजनीतिज्ञ चाहे वो किसी भी पक्ष का समर्थन कर रहे हों , पुरे देश की एकाग्रता तो को भंग कर रहे हैं और इस काम मैं पूरी तकक्त से जुढ़े हैं.I यह राजनीतिज्ञ हम मैं से ही हैं I शायद हम ही हैं ? तो हम काया करें I सरकारे हमरी प्रितिबिम्ब हैं तो उन का हर कार्य कौन कर रहा है शायद आप समझ गए हैं I राजनीती का कोढ़ हमें लिले जा रह है और हम मौन देखने मैं व्यस्त हैं I समाधान क्या है क्या हमें लगता है कि हमें दर्शक ही रहना है I क्या हम किसी काम के हैं I यह प्रशन हम अपने से तब पूछें जब हम मैं बुधि हो I हमारी बुधि अभी निद्रावस्था मैं है I अभी ऐसा कुछ ? नहीं हुआ के यह बुधि जागे ? भारत वर्ष पिछले हमारी याद के वर्षों मैं इंडिया हो गया और इस पर भी हमें तोढ़ने कि कोशिश हो रही है बर्मा कटा अफगानिस्तान कटा पाकिस्तान कटा बंगलदेश कटा कश्मीर मिजोरम अरुणांचल काटने कि रह पर हैं बस एक आधी सदी कि बात है I परन्तु हमारी बुधि अभी निद्रावस्था मैं है रहने दो , रहने दो , रहने दो अपनी बुधि को सोने दो इसे आराम कि जरुरत है बहुत थक गयी है शायद ?? ? दुखी मत हो

के द्वारा:

हम कैसा इतहास बना रहे हैं I अपने देश के कुछ समुदायों को खुश करने के लिए राजनीतिज्ञ चाहे वो किसी भी पक्ष का समर्थन कर रहे हों , पुरे देश की एकाग्रता तो को भंग कर रहे हैं और इस काम मैं पूरी तकक्त से जुढ़े हैं.I यह राजनीतिज्ञ हम मैं से ही हैं I शायद हम ही हैं ? तो हम काया करें I सरकारे हमरी प्रितिबिम्ब हैं तो उन का हर कार्य कौन कर रहा है शायद आप समझ गए हैं I राजनीती का कोढ़ हमें लिले जा रह है और हम मौन देखने मैं व्यस्त हैं I समाधान क्या है क्या हमें लगता है कि हमें दर्शक ही रहना है I क्या हम किसी काम के हैं I यह प्रशन हम अपने से तब पूछें जब हम मैं बुधि हो I हमारी बुधि अभी निद्रावस्था मैं है I अभी ऐसा कुछ ? नहीं हुआ के यह बुधि जागे ? भारत वर्ष पिछले हमारी याद के वर्षों मैं इंडिया हो गया और इस पर भी हमें तोढ़ने कि कोशिश हो रही है बर्मा कटा अफगानिस्तान कटा पाकिस्तान कटा बंगलदेश कटा कश्मीर मिजोरम अरुणांचल काटने कि रह पर हैं बस एक आधी सदी कि बात है I परन्तु हमारी बुधि अभी निद्रावस्था मैं है रहने दो , रहने दो , रहने दो अपनी बुधि को सोने दो इसे आराम कि जरुरत है बहुत थक गयी है शायद ?? ? दुखी मत हो

के द्वारा:

रामदेव पर की गयी कार्यवाही से यह स्पस्ट हो गया है की सरकार की मानसिकता है क्या. क्या सरकार को यह शोभा देता है की वह रात के अँधेरे में गुंडों की तरह पेश आये . जिस आन्दोलन में आम नागरिकों की माँ बहेने भी शामिल हो और उस जगह की बिजली रात में काट दी जाये और पुलिस वालों को उन पर आतंक फ़ैलाने के लिए छोड़ दिया जाये. आंसू गैस के गोले व लाठी चार्ज किये जाये . ये है आम आदमी की सरकार व उसका क्रूर चेहरा . आखिर कार्यवाही क्या रात में ही करनी जरूरी थी खास कर जब सरकार को मालूम था की कई माँ बेहेने भी उसमे शामिल हैं. इतना भी नहीं सोचा की इतने लोग रात में भाग कर कहाँ जायेंगे . में यह बात बाबा का समर्थक होकत नहीं कह रहा हूँ बल्कि एक नागरिक होकर अपनी सरकार से पूछ रहा हूँ की अगर बाबा को गिरफ्तार ही करना था तो दिन में करते , रात में बिजली काट कर आम लोगो को दौड़ा कर नहीं. क्या दिन में कार्यवाही करने की हिम्मत नहीं थी अपमे . या आप कोई गलत काम करने गए थे जिसके लिए आपको रात के अँधेरे की जरूरत थी. एक पार्टी जिसकी मुखिया एक महिला है उससे यह उम्मीद नहीं थी. इस मुद्दे पर अपनी राय जरूर दे .

के द्वारा:

के द्वारा:

एस.पी.सिंह जी, आपतो कांग्रेस और अन्य तथाकथित पन्थानिर्पेचको वाली भाषा बोल रहे है भ्रष्टाचार और काले धन की समस्या पूरे देश की है.और आप जैसे लोग आर.एस.एस.तथा सांप्रदायिक शक्तिओ का रोना रो रहे है अरेभई देश में कालाधन वापस आये और भ्रष्टाचार के विरुध्ध सख्त कानून बने इसमे संप्रदाय और जातिवाद कहा से आ गया क्या देशद्रोहियो को जो लाखो करोड़ का कला धन विदेशो में जमा किये है उन्हें वापस लेन की जिम्मेदारी से अगेर किन्ही अज्ञात कारडो से सर्कार इंकार कर रही है और उन अपराधियो का नाम तक बताने से मन कर रही है तो हम युही हाथ पर हाथ धरे बैठे रहे या इसके विरुध्ध आवाज उठाये चाहे आर.एस.एस.हो या भा.ज.पा. इससे क्या फर्क पड़ना है मुख्य बात तो भ्रष्टाचार और काले धन की वापसी का है. कृपया आप जैसे लोग जो हर बात में सांप्रदायिक एंगिल खोज लेते है और हाय तोबा मचाने लगते है यह प्रवित्त आत्मघाती है इससे बचाना चाहिए.

के द्वारा:

बाबा रामदेव आगामी 4 जून को दिल्ली के जंतर मंतर पर भ्रष्टाचार और काले धन को वापस लाने के लिए एक व्यापक सत्याग्रह आंदोलन करने वाले है.आन्दोलन शुरू भी होगा और समाप्त भी हो जायेगा पर न तो भ्रष्टा-चार और न लोगो की धन बटोरने की पिपाशा कभी समाप्त हुई थी और न कभी समाप्त होगी - कारण है व्यक्ति का चरित्र जब तक देश के नागरिक का चातिर्त्र ही नहीं होगा कोई कितना बड़ा कानून बना लो कुछ नहीं होने वाला - जहाँ तक बात बाबा राम देव और अन्ना हजारे के आन्दोलन की है क्या यह दोनों उसी व्यस्था के शिकार नहीं है कोई भी प्रबुद्ध व्यक्ति यह अच्छी तरह से समझ सकता है की जब दो लोगों का उद्देश्य एक है तो अलग अलग लड़ाई क्यों भले ही आम जनता इससे अनभिग्य हो -- अन्ना हजारे के आन्दोलन के दौरान लगभग ८७ लाख रुपया दान/चंदे के रूप में मिला जिसमे मोटा दान कंपनियों के द्वारा ही दिया गया था और बाबा राम देव की संपत्ति भी ११०० करोड़ के ऊपर ही होगी जिसमे ११ लाख से लेकर ११ हजार के दान कर्ता शामिल है क्या बाबा यह दावा कर सकते है की इस दान में कला धन शामिल नहीं है या यह बताएं की इसमें कितने गरीब मजदूरों का दान है -- कुल मिला कर यह दोनों लोग पूंजीपतियों की चालाकी का शिकार होकर केवल सरकार के विरुद्ध विरोध दिखा रहे है - दूसरी बात यह है की बाबा के चेले/सहायक बाल किशन ने स्वयं ही यह स्वीकार किया है की बाबा के विरुद्ध आयकर की ख़ुफ़िया जांच चल रही है इस लिए यह सब पेश बंदी की जा रही है - मै केवल एक उदहारण देना चाहता हूँ की जब दोनों लोगों ( अन्ना और बाबा ) का उद्देश्य एक है तो आन्दोलन अलग अलग क्यों ? क्या यह व्यक्तिगत अहम् का सवाल नहीं है या यह हो सकता है यह दोनों लोग कही तीसरी जगह से गाइड किये जा रहे है - चूँकि यह एडिटोरियल ब्लाग है इस लिए मै यह दृढ़ता पूर्वक कह सकता हूँ की इसके पीछे तीसरी शक्ति आर एस एस ही है क्योंकि आप देखिये अन्ना और बाबा दोनो के पीछे देश के करोड़ों लोग है जैसे की दावे किये जाते है लेकिन आर एस एस की उपस्थिति कहीं नहीं है क्या यह आश्चर्यजनक नहीं है यह केवल केंद्र की सरकार को कार्यकाल पूरा न करने देने के लिए अस्थिर करने के लिए सबकुछ किया जा रहा है ? आप देखिये की केंद्र की सरकार के चार वरिष्ठ मंत्री बाबा को मिलने के लिए हवाई अड्डे पहुँच जाते है लेकिन घंटो बात होने के बाद भी बाबा साफ़ नहीं बोलते मतलब साफ़ है कहीं से आदेश लेने हैं -- बाबा ने कल दावा किया है की उन्होंने एक महीने के लिए स्थान बुक कराया है पर मेरा मानना है की आन्दोलन केवल एक दिन में ही समाप्त हो जायगा अगर नहीं तो एक महिना तो बिलकुल ही नहीं चलेगा ? एस.पी.सिंह, मेरठ

के द्वारा:

जिस देश में राजनैतिक सत्ताधारी पार्टियाँ केवल अपनी सरकार चलाने के लिए केवल एक मात्र उद्देश के लिए ही प्रत्येक कदम बढाती हों, जिस देश में प्रत्यक्ष प्रमाणित जिम्मेदारी से किस तरह पल्ला झाड़ा जा सके, यह राजनैतिक कुत्सित चातुर्य फैशन बन गया हो, जहां खाद्यान मंत्री बढती खाद्य वस्तुओं की कीमतों पर खुद के ज्योतिषी ना होने की बात कहकर पल्ला झाड सकता हो, जहां सी वी सी की अवैध नियुक्ति को सुप्रीम कोर्ट के अंतिम आदेश से पहले तक डिफेंड करने वाली केंद्र सरकार हो, और अंतिम आदेश के बाद केंद्र सरकार और प्रधानमन्त्री जानकारी ना होने का हवाला देते हों, दे सकते हों, जहां विपक्ष का विरोध एक दिन का हल्ला हो, जहां किसी मुद्दे पर सशक्त दिखने वाला विपक्ष ही कुछ समय बाद \'\'अब वक़्त बीती बातों को भूलकर कर आगे बढ़ने का है\" कहकर जनता के विश्वास को ठगने जैसा लगे, जहाँ घोटाले ही देश का नाम सुर्ख़ियों पर लाते हों, जहाँ पन्द्राह हजार लाशें एक रात में बिछाने के पीछे रहे अआरोपी एंडर्सन को रेड कारपेट तत्काल मिला हो लेकिन विक्टिम्स को बीसों साल बाद न्याय के नाम पर कुछ मिला हो, क्या न्याय मिला है? सवाल आज भी घटना को घूरता सा देखता हो, इस सबसे ऊपर इस देश की अस्सी प्रतिशत जनता के पास इस व्यवस्था को सुधारने के सारे विकल्प, सुबह और शाम की रोटी की व्यवस्था में mitt jaata है, और bees प्रतिशत log chuni सरकार में mohron की तरह मंत्री baithaalte हों, wahaan यह title की saksham देश का aksham netratwa galat है, balki यह के \'\'aksham देश का saksham netratwa\'\' kahna sahi और praasangik hoga, jai hind,

के द्वारा:

संपादक जी सुन्दर सार्थक लेख -भूमि अधिग्रहण का ये पुराना कानून न जाने कब तक लागू रहेगा -यहाँ तो यही एक समस्या है कुछ बन गया तो बन गया उसी लीक पर चलते रहेंगे -न कोई आगे बढ़ने वाला न राह दिखाने वाला -मजा इसका कम्पनियाँ और बिल्डर ले रहे हैं और मर रहे हैं किसान -किसी किसी राज्य में तो बिजली के खम्बे और न जाने क्या क्या मुफ्त में लगाये जाते हैं न कोई अधिग्रहण न कोई वाजिब फसल और पेड़ का पैसा -इन सब में मूल्य बढ़ोत्तरी तो अवश्य ही किया जाना चाहिए सबसे अधिक नाराज करने वाली बात यह है कि किसानों की उपजाऊ भूमि उद्योग, सड़कें, टाउनशिप आदि के लिए सरकार ले तो लेती है लेकिन इसके संबंध में दिया जाने वाला मुआवजा किसानों के हित में नहीं होता. आइये सब मिल इस पर गंभीरता से विचार करें और आवाज उठाते रहें ताकि भूमि अधिग्रहण का बिल तो पास हो

के द्वारा:

अन्ना हजारे भ्रष्टाचार के विरोध तब खड़े हुए जब प्रतिदिन एक नया घोटाला सामने आ रहा था | जनता को रहनुमा की तलाश थी वो अन्नाजी के आने से पूरी होगई | कांग्रेस की सरकार तो घोटालों का सोत्र बन चुकी है जैसे गंगा का गंगोत्री और यमुना का यमुनोत्री | मनमोहन सिंह जी तो बापू के तीन न होकर चार बंदरो सामान बर्ताव कर रहे है | तीन बंदरो के सन्देश जगविदित है | चोथा बन्दर संदेश दे रहा है सुनो या ना सुनो, देखो या ना देखो मगर किसी को कुछ कहना नहीं है | जैसा आप कह रहे है कांग्रेस का विकल्प भारतीय जनता पार्टी ही है बिलकुल ठीक है |भारतीय जनता पार्टी में ए.राजा,शरद पवार जैसे नेता नहीं है ना ही दिग्विजय सिंह जैसे बेहूदा बयान देनेवाले है |उनके सहयोगी भी करूणानिधि और पवार ना होकर नतीश जैसे नेता है | लालू जी तो उनसे दूरी बनाकर ही रहंगे | इस लिए जनता को भारतीय जनता पार्टी को सता में लाना चाहिए और अन्ना जी ,रामदेव जी किरण बेदी तथा अन्य भ्रष्टा चार विरोधिओं को देश हित में बीजेपी का सहयोग करना चाहिए |

के द्वारा:

विजय जी मै आपके माध्यम से माननीय स्वास्थ्य मंत्री भारत सरकार और मानव संसाधन विकास मंत्री जी से कुछ प्रश्न पूछना चाहता हु . वेसे तो आपका और भी बहुत सारे लोगो का इन प्रश्नों से जादा लेना देना नही होगा fir भी अगर आप इन प्रश्नों को उचित मंच पर उठायेगे तो हजारो विदेश में सिक्षा पाए बच्चे आपके बहुत आभारी रहेगे हमारे देश में आवाज भी सक्षम लोगो की ही सुनी जाती है, इन बच्चो की आवाज उठाने वाला कोयी है ही नही, इसलिए बेचारे कुछ समर्थ लेकिन असंवेदनशील नेताओं के बनाए नियमो की चक्की में पिसे जा रहे hai Everything is not fine in MCI and National board of Examination who conduct examination for Foreign Medical Graduates. If you think everything is trasparant there, and they are very honest and the such screening examination is REALLY SO NECESSARY for Foreign Medical Graduates, Why students are not enabled to cross check their answer sheets (ORS) for any marking error with answer key put by NBE? Why MCI or NBI not supposed to give any information regarding examination or examination results to the students? Why there is no provision for reevaluation? If you think the foreign students are REALLY weaker than Indian Medical Graduates or the lavel of study is poorer in other countries than India, why you allow students to go other countries? If you think Indian Medical Graduates are wiser than Forein Graduates, then why you do not conduct such an examination for them also? Why you just destroying the carriers of thousands of students? Everytime thousand of students can not qualify examination just by 10-20 marks, why you don’t revise your criteria? In India passing percentage is 33% for all the examinations, if it is only screening examination why 50% marks are required in place of 33%? Do this examinations pattern or result is affected by the community of private colleges in India?

के द्वारा: keshavpandey keshavpandey

आदरणीय श्री निरंजन कुमार जी सादर प्रणाम  आपने सच कहा है कि हमें सच्चाई का साथ देना चाहिए। तात्कालिक लाभ के चक्कर में तथाकथित मीडिया के  लोगों को जनता पहचानती है। किसी को इस बात का भ्रम हो  सकता है कि असली ताकतवार वहीं है परन्तु ऐसा नहीं है। भ्रष्टाचार के खिलाफ पूरे देश में माहौल बन चुका है।  अन्ना हजारे जैसे चरित्रवान इंसान को पाकर देश की जनता उठ खड़ी हुई है। हम अगर सच्चाई को दबाने की  कोशिश करेंगे तो खुद दबकर रह जायेंगे और सच्चाई को दबाने  की कोशिश में सदा सदा के लिए जन मानस के निगाहों से उतर  जायेंगे। ऐसी स्थिति रही तो ऐसे लोग या ऐसी संस्थाएं अपनी निगाहों में भी गिरेंगी। सच के साथ देने में ही भलाई है, भले परिणाम तात्कालिक अपने पक्ष में न हो परन्तु इंसान खुद अपने से हारता नहीं है। इंसान की असली हार तो तभी है जब वह वह खुद अपनी निगाहों में हार जाय।  

के द्वारा: chaturvedi pramod chaturvedi pramod

महानुभाव ;जय हिंद ! विचारपरक लेख ! साधुवाद ! मैं भी विगत बीस सालों से इस दिशा में कार्यरत हूँ किन्तु लोंगों का सहयोग प्रशंसा से अधिक कुछ ना मिलने से निराश भी ! इसी विषय पर " मेरा राज देश पर तो देश का दुनियां पर " [ जिसके कारण मुझे राष्ट्रीय रत्तन आवर्ड २०१० हेतु नामांकित किया गया ] कई दिनों से प्रतिक्रियाविहीन ' जाज ' मंच पर है .मेरी अपनी वेबसाइट भी इसी प्रयोजन को समर्पित है जिसपर भारतीयों से अधिक विदेशी पाठकों की उपस्थिति रहती है [?]. जब तक हम स्वयं जागना नहीं चाहेंगे कोई बाहरी शक्ति हमें हमारे पैरों पर खड़ा नहीं कर सकती !सभी के आदर्श तो भगत सिंह ,चन्द्र शेखर आज़ाद, महात्मा गाँधी आदि हैं किन्तु केवल दूसरों को बताने के लिए ही स्वयं अपने लिए अनुकरणीय नहीं !वास्तविक बदलाव चाहिए तो कम से कम एक आदर्श तो इन महान व्यक्तित्वों का अपनाएँ ! अन्यथा व्यर्थ गाल बजने से कुछ लाभ नहीं होने वाला !

के द्वारा: charchit chittransh charchit chittransh

आदरणीय भरत जी नमस्कार. ..ऐंसी सरकारों को चुनने के लिए इस देश के नागरिकों हेतु एक शेर की एक लाइन याद आ रही है कि... " मुल्क उस बिरहमन कि तरह अपने किये पे परेशां है..".. जंगल में एक ब्रह्मण को पिंजरे में बंधे शेर पर दया आ गयी और उसने उसे आजाद कर दिया ..लेकिन शेर उशी को खाने कि सोचने लगा..तब ब्रह्मण को समझ आया कि उसने गलती कि है..एक लोमड़ी कि चतुराई ने उस ब्रह्मण को बचाया.... इस देश कि जनता तो वोटिंग मशीन में नेकी का बटन दबा के आई थी फिर ये बड़ी उनके हाथ क्यों आ रही है..सरकार में आते ही नेता कैसे भी हो जनता को लूटने कि सोचने लगते हैं...और वोते मांगने के समय बड़े बड़े वादे किये जाते हैं ..किसी ने सही कहा है कि .. नेता रोये पांच दिन और जनता रोये पांच साल..

के द्वारा:

आदरणीय मिश्र जी  सादर प्रणाम  लाल दुर्ग की दरकती दीवारें-  सामयिक और यथार्थ परक  लेख से बंगाल की वास्तिवक स्थितियों से परचित कराया है। लाल दुर्ग के भीतर छोटे-छोटे अनेक लाल दुर्ग भी हैं,  जिनसे न तो माकपा बचने वाली है और न ही त्रृणमूल  कांग्रेस बचने वाली नहीं हैं। इसका असर चुनाव पर और  चुनाव के बाद भी रहेगा। तरबूजी गठजोड़ में यथार्थ में  बहुत अधिक बदलाव की उम्मीद मुझे नहीं है।  दीवारें दरकेंगी पर उस पर लाल गारे के ही लगने की  उम्मीदें हैं, जिन्हें व्यवस्था पर भरोसा भी नहीं है। रिस्क भी है और खतरनाक भी है। फिर भी नई आस में... प्रमोद कुमार चौबे ओबरा सोनभद्र   

के द्वारा:

आदरणीय मिश्र जी  सादर प्रणाम  लाल दुर्ग की दरकती दीवारें-  सामयिक और यथार्थ परक  लेख से बंगाल की वास्तिवक स्थितियों से परचित कराया है। लाल दुर्ग के भीतर छोटे-छोटे अनेक लाल दुर्ग भी हैं,  जिनसे न तो माकपा बचने वाली है और न ही तृणमूल  कांग्रेस बचने वाली नहीं हैं। इसका असर चुनाव पर और  चुनाव के बाद भी रहेगा। तरबूजी गठजोड़ में यथार्थ में  बहुत अधिक बदलाव की उम्मीद मुझे नहीं है।  दीवारें दरकेंगी पर उस पर लाल गारे के ही लगने की  उम्मीदें हैं, जिन्हें व्यवस्था पर भरोसा भी नहीं है। रिस्क भी है और खतरनाक भी है। फिर भी नई आस में... प्रमोद कुमार चौबे ओबरा सोनभद्र   

के द्वारा:

आदरणीय अरविंद केजरीवाल जी,  सादर प्रणाम भ्रष्टाचार के खिलाफ अन्ना हजारे का आमरण अनशन स्तुत्य है, वन्दनीय है। पूज्यनीय गांधी बाबा के बेहतर  हथियार का इस्तेमाल करने जा रहे अन्ना जी को सूर्य  और चन्द्रमा की उम्र पहले ही मिल चुकी है। भविष्य में  शारीरिक तौर पर हमारे बीच न होते हुए भी वे सदैव हम  सबके बीच रहेंगे। शऱीर तो सभी को त्यागना है, उसकी बातें हम नहीं करते और न ही राष्ट्र हित में अन्ना जी को  शरीर से कोई मतलब होगा पर हमारी(देशवासियों की) बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। देश के प्रधानमंत्री वीपी सिंह के समय में आरक्षण सुधार के सवाल पर देश के सैकड़ों युवाओं ने आत्मदाह(अहिंसात्मक आंदोलन का चरमोत्कर्ष) तक किया। इसके बाद के आन्दोलनों में बड़े पैमाने पर आत्मदाह जैसी घटनाएं नहीं हुई। इसे हमारे जैसा व्यकि्त अच्छा मानता है पर क्या आन्दोलन थम गये.... नहीं व्यवस्था के खिलाफ अब भी आन्दोलन हो रहे हैं पर इस व्यवस्था पर भरोसा  छोड कर.... अरब देशों की क्रांतियां और देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ अन्ना जी की भूख हड़ताल में साम्यता की संभावनाओं (आजादी के पूर्व चौरा चौरी काण्ड जैसे परिवेश) से इंकार नहीं किया जा सकता है...वहीं संभव है कि अन्ना जी के  आमरण अनशन से युवाओं में फिर से भूख  हड़ताल से व्यवस्था में बदलाव के विश्वास जगे।  कुछ सवाल हैं- (1)भ्रष्टाचार में डूबी हुकूमत भ्रष्टाचार के खिलाफ कुछ निणार्यक कदम बढ़ा सकेगी. (2) क्या आदरणीय अन्ना जी का जीवन यूपीए के जीवन से अधिक महत्त्वपूर्ण नहीं है. भूख हड़ताल के फैसले पर कुछ नहीं कहना है,  क्योंकि फैसला अन्ना जी ने ले लिया है।  नई सुबह की उम्मीद में..... मेरी बातें पूज्यनीय  अन्ना जी तक अवशय पहुंचाने की कृपा करें। भ्रष्टाचार के खिलाफ पूज्यनीय अन्ना जी को  मेरा युगों-युगों तक  समर्थन. प्रमोद कुमार चौबे ओबरा सोनभद्र मो.09415362474

के द्वारा:

आदरणीय गुप्त जी  सादर प्रणाम,  देश की समस्या का समाधान ढूढते- ढूढते कांग्रेस  खुद समस्या बन गयी है। अब हमें समाधान की पहल करनी होगी। समाधान में नम्बर वन कौन है.  कांग्रेस नहीं तो भाजपा। कांग्रेस में मनमोहन  को हम सभी देख रहे है, जिन्हें भ्रष्ट्राचारों की जानकारी नहीं है और भाजपा में लालकृष्ण आडवानी। आदरणीय आडवानी जी जो कभी जिन्ना को द्वि राष्ट्रवाद के सिद्धान्त के विपरीत बताने से नहीं हिचकते और अयोद्धया के मामले में विरोधाभाषी बयान देने से पीछे नहीं रहते। ऐसा नहीं है कि विकल्प नहीं है पर उसे सामने लाये जाने की जरूरत है। हम नहीं लायेंगे तो आगामी लोकसभा चुनाव में (हम) जनता कुछ न कुछ करेगी।  -प्रमोद कुमार चौबे ओबरा सनभद्र      

के द्वारा:

सबसे पहले तो वोट देने का अधिकार निम्न व्यक्तियों को होना चाहिए (१) कम से कम २१ साल का होना चाहिए (२)कम से कम डिग्रीधारी होना चाहिए (३) आयकर डाटा होना चाहिए (४) मतदाता के उपर कोई भी अपराधिक प्रकरण नहीं होना चाहिए पिरात्याशी की योग्यता निम्न होना चाहिए (१)कम से कम २५ साल का होना चाहिए (२) कम से कम डिग्री धरी होना चाहिए (३) आयकर डाटा होना चाहिए (४) पिरातियाशी के उपर कोई भी प्रकरण दर्ज नहीं होना चाहिए (५) प्रत्याशी की उम्र ५५ साल से अधिक नहीं होना चाहिए (६) जीतने वाला कम से कम 51% मत पिराप्त करना चाहिए (7) जब पिरात्याशी शपथ गिर्हन करे उससे पहले उसकी साड़ी संपत्ति पिर्तिबंदित होना चाहिए (८) जब तक वह संसद /विधायक रहे तब तक उसे ओउर उसके परिवार के किसी भी सदस्य को संपत्ति की खरीद अवाम बिक्री पर पूरी तरह से रोक होना चाहिए (९) ओउर yadi वह अपने कार्यकाल में कोई गलत कार्य करता प्या जाये तो उसे एक मतदाता के लिए एक साल के हिसाब से कद की सजा होना चाहिए चाहे फिर उस व्यक्ति को miratuparyant तक कद में रखना पढ़े . देश से bhirastachaar तवी मिट पायेगा.

के द्वारा:

के द्वारा: Rachna Varma Rachna Varma

भारतीय संविधान एवं राजनैतिक व्यवस्था में मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है. क़ानून को बनाने वाले शासक भी हो सकते हैं - यही है मूल समस्या. विधायिका और सरकार को अलग करने की जरूरत है. जो संसद का सदस्य हो वह कैबिनेट का सदस्य नहीं होना चाहिए. प्रधामंत्री का चुनाव सीधे जनता के द्वारा होना चाहिए. संसद की सदस्यता छोड़ने के बाद भी कम से कम एक वर्ष तक कैबिनेट/सरकार में किसी भी पद पर पाबंदी होनी चाहिए. प्रधानमंत्री भी एक ही व्यक्ति दो बार से ज्यादा न बन सके ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए. जब तक इस तरह के मूलभूत सुधार जन आन्दोलन के द्वारा नहीं लाये जायेंगे तब तक इसी प्रकार जनता को धोखा दिया जाता रहेगा. यह एक शर्मनाक परिस्थिति है.

के द्वारा:

राजीव जी सादर प्रणाम । सर जहां बुद्धि रूक जाती है वहां आपके लेख हमें रोशनी दिखते हैं । बेसब्री से इंतजार रहता है जागरण के संपादकीय पृष्ठ पर छपने वाले आपके लेखों का । पूरी बौद्धिक खुराक मिल जाती है । साथ ही यह सीख भी कि लड़ाई अधूरी नहीं छोड़नी चाहिये । . पी जे थामस की विदाई में माननीय सुप्रीम कोर्ट का पूरा देश आभारी है लेकिन इसके साथ साथ हम आपके भी आभारी हैं कि इस बाजारू मीडिया में आप जैसे कुछ लोगों ने ही सत्य की लड़ाई पूरी ताकत से लड़ी । जब दूसरे प्रधानमंत्री का गुणगान करते नहीं थकते थे तब आप उनकी मनमोहनी सूरत के पीछे छिपे चेहरे को उजागर कर रहे थे । पृथ्वीराज चव्हाण तो मात्र एक मुहरा हैं । मनमोहन को संसद में यह बताना चाहिये कि वे वास्तव में किसके सामने मजबूर थे । . साथ ही के जी बालकृष्ण का मुद्दा भी महत्वपूर्ण है । एक भ्रष्ट पूर्व मुख्य न्यायाधीश क्या अब भी महत्वपूर्ण पद पर आसीन रहेगा । इस लड़ाई में हम आपके साथ है ।

के द्वारा:

लोकतंत्र का तकाजा है कि भ्रष्टाचार और काले घन के मुद्दे पर लोकतंत्र में जिम्मेदारी कबूल करने तथा इसे रोकने में नाकाम रहने पर नैतिकता का तकाजा है कि प्रधान मंत्री अपने स्तीफे कि पेशकश करते यह इस लिए भी आवश्यक हो जाता है कि मनमोहन सिंह आम जनता का प्रतिनिधित्व नहीं करते वे विशेष रूप से आपातकालीन स्थितिओ में हे इस पद पर बिठाये गए है और बिना किसी भ्रष्टाचार के खुलासे से पूर्व राहुल गाँधी के लिए हमेशा अपनी कुर्शी खली करने कि पेशकश करते रहे है. क्या इस देश की मर्यादा जिसके हितो की दुहाई देते हुए विरोधी दलों को जिम्मेदार बता कर अपना मुह आईने में कैसे देखते होगे और अपनी ईमानदारी जिसकी तारीफ विरोधी भी करते उस चहरे पर खुद द्वारा लगाये गए भ्रष्टाचारियो को आश्रय देने के इल्जामो की कालिख भी उनकी आत्मा के स्वाभिमान को कचोटती नहीं होगी. सिर्फ इमानदार होना ही काफी नहीं ईमानदारी को जनता के निगाहों में दिखाना भी चाहिए. उन्हें सोचना चाहिए कि सिर्फ एक परिवार की चापलूसी में देशके चरित्र को पूरे विश्व की निगाहों में धूमिल करने की जिम्मेदारी सिर्फ और सिर्फ प्रधान मंत्री की होती है राहुल गाँधी तथा सोनिया गाँधी की चरदवंदना के चुटकले वैसे ही देश-विदेश में चटकारे ले कर सुनी और सुने जाती है और सुने जाती है अगेर मनमोहन के अन्दर नैतिक ईमानदारी हो तो महात्मा गाँधी के देश में जिसके रायलिती से काग्रेस जनता को मुर्ख बना कर सत्ता की दावेदार होने का दावा करती रही है उनकी आत्मा और विचारो को सरेआम बलात्कार करने के अभियुक्त बनाने से बेहतर होगा की वे पद से तत्काल प्रस्थान करे. संपादको की जीहुजूरी कर अपना चेहरा उनकी रुमाल से पोचाने की कोशिशो को जनता खूब अच्छी तरह देख-सुन रही है इन दिखावटी प्रयासों से इन दागो को धोने के प्रयासों में में मनमोहन सिंह का व्यतित्व घ्रिदित तरह से जनता के सामने प्रगट हो रहा है मई भी उनके कर्तव्य निष्ठां और ईमानदारी का प्रशंशक हु लेकिन देखते हुए गन्दगी में लोट-पोत होना और अपनी अम्जोरियो के लिए दूसरो को दोषी बताना मनमोहन को एक निरीह और बेबस व्यतित्व का प्रतिक दिखाई देता है जिसे देख हमलोगों को शर्म आती है इसी से जाहिर होता है कि यह कोई मरे हुए जमीर का बदबूदार संस्करण है/ आक्थू -----|

के द्वारा: shuklaom shuklaom

महोदय जी विनम्र अभिवादन, आपके विचार जान कर अच्छा लगा आपने तो जड़ को पहचान लिया बधाई हो. पर यह देश का दुर्भाग्य ही कहा जाएगा की सुधारबादी दल और सुधारबादी लोग पैदा नहीं हो पाए लोग आये और अपना उल्लू सीधा कर के चले गए. पर देश में कभी सुधार के लिए बाताबरण नहीं बन्ने नहीं दिया गया या यह कह सकते है की मजबूरी में सरकार बनी और चली. या निहित स्वार्थी लोग आये और चले गए. चरित्र निर्माण का जिम्मा हमारे आदर्श नेताओ और शिक्षाबिदो पर धर्मगुरूओ पर होती है पर वह ही अपनी जिम्मेदारी नहीं निभा पाए तो चरित्र निर्माण क्या संभव है आज जब कोई सच बात या मुद्दा उठाने की बात होती है तो राजनीत पहिले शुरू हो जाती है पुरे देश को खेमे में बाँट दिया जाता है और उनको मदद दे रहे है हमारे ही अपने लोग. बढिया है मुबारक हो. आगे भी आपके चिंतन पूर्ण लेख मिलते रहेंगे आशा है पुनः अभिबादन.

के द्वारा:

बलबीर जी ये ऐसे नहीं रुकने वाला हमें खुद से ही सवाल पूछना है की हिन्दू ही क्यों मतांतरित होते है दुसरे धर्म क्यों नहीं? क्या फिर से समय आ गया है आत्म मंथन का की हमें कुछ और बदलाव लेन है अपने धर्म में? एक समस्या जिसकी और मई आपका ध्यान खीचना चाहता हु वो ये है की यदि मतांतरित व्यक्ति यदि वापस हिन्दू धर्म में आना चाहे तो कैसे आये? किस जाति में आएगा? और यदि लोग मतांतरित हो रहे है तो हजारो लाखो की संख्या में देश के साधू संत क्या कर रहे है? उनके लिए सकाम संन्यास लेने का समय नहीं है क्या? अभी भी वो लोग मठो के आपसी झगड़ो से निकल कर धर्म का काम नहीं करने वाले? जैसा की आपने विवेकानंद जी की बात कही तो क्या हर हिन्दू का कर्तव्य नहीं है की इस मतान्तरण को रोके? या फिर हमें उस जगह तक आना है की एक नया गुरु तेग बहादुर हमारे धर्म को बचाने को अपना बलिदान दे?

के द्वारा:

ये बड़ा ही अद्भुत होगा यदि शोले फिल्म का पुनर्निमाण हो और दर्शक देखें की कालिया आदि सहयोगियों के डाकू होने के पश्चात भी सरदार गब्बर सिंह इमानदार और निर्दोष या कहें सर्वथा दाग-मुक्त हों और वे प्रत्येक लूट के लिए अपने साथियों को जिम्मेदार ठहराते हुऐ कभी उन्हें भूलवश जिम्मेवार बताते कभी उन्हें निर्दोष बताते कभी उनके विरुद्ध साम्बा जांच आयोग बिठाते नजर आयें . एक फिल्म कथानक के दृष्टिकोण से सभवतः ये रोमांचक हो किन्तु वर्तमान रास्ट्रीय पटल पर ये चित्र कितना विदाम्बनापूर्ण हे कहना कठिन हे . शोले के समय नायक एवं खलनायक में स्पस्ट भेद की आदि जनता को ये रोमांच फिल्म अर्जुन में एक नए रूप में मिला था जब एक सज्जन चोग्लय का खलनायक रूप उभरते ही जनता जोर का झटका खाती हे . उस समय अविश्वाश का ये नया रूप फिल्म में देखने वाली जनता आज चहुँ और से ना जाने कितने ही दोगलों - चोगलों से भरी हे कल को जिनका असली रूप सामने आने पर जनता का अविश्वाश नए शिखरों को छुएगा . आज प्रधानमन्त्री , रस्त्रियापति ( क्षमापूर्वक ) , राज्यपाल , मुख्या सतर्कता अधिकारी , चुनाव आयुक्त , न्यायाधीश , मंत्री , मुख्यमंत्री , केंद्रीय जांच ब्यूरो समेत समस्त रास्ट्रीय के चरित्र की विश्वश्नियता संदेह के घेरे में हे

के द्वारा:

तरुण जी आप के लेख में बहुत सारी समस्याओ को एक साथ लिया गया है....कुल मिला कर बात सिर्फ इतनी है की भारत समस्याओ का देश है किन्तु करे तो क्या करे? बहुत कुछ गलत हो रहा है ये हम सभी जानते है और कहते भी है. आप जैसे सुधी लेखक अपने लेखो के द्वारा काफी कृत्यों का खुलासा भी कर देते है और समाज को सोचने की दिशा भी दे देते है पर मूल प्रश्न अभी भी ज्यो का त्यों खड़ा अहि की करे तो क्या? मतदान का अधिकार ५ सालो में एक बार आता है पर वो भी सटीक नहीं है क्यों की हमें नीम और करेले में एक का चुनाव करने को कहा जाता है........सूचना का अधिकार आया तो बड़े जोर शोर से था पर अब उसमे भी संशोधन की बात हो रही है जो की अधिकार के उपयोग को ख़तम ही कर देगी. तो फिर अब और रास्ता क्या बचा? सच मानिये तो निराशा का अन्धकार अपना दायरा बड़ा करता जा रहा है. अब तो लोग भी कहने लगे है की इस देश का कुछ नहीं हो सकता. किन्तु इस सब के बाद भी एक बात कहनी है हमें. भारत बहुत अजब देश है. यहाँ मुट्ठी भर विदेशी इसे सदियों गुलाम बना सकते है और फिर मुट्ठी भर क्रांतिकारी इस देश का स्वरुप बदल सकते है. सिर्फ एक शंकराचार्य वैदिक धर्म को पुनर्जीवित कर सकते है और एक अकेले चाणक्य सामान्य सैनिक को सम्राट बना सकते है. बात सिर्फ इतनी है की निराशा में भी आशा की एक किरण अवश्य है और वो बस इस देश की जनता से है. भ्रस्टाचार से कराहती जनता जिस दिन उठ खडी हुई तो वो विदेशियों का अनाचार हो या अपनों की थोपी गयी इमरजेंसी; कुछ भी टिक नहीं पाती.

के द्वारा: anoop pandey anoop pandey

भाजपा के अधिकतर शीर्ष नेता यह गर्व के साथ कहते हैं की वह आर एस एस के प्रचारक रहे हैं और आर एस एस ही उनका मूल है और रहेगा ....तब आप कहना क्या चाह रहे हैं और किसकी ओर से ...? लेख विसंगतियों से भरा है : १. असीमानंद कथित तौर पर उग्रवादी हिंदू कार्यकर्ता है। वह संदिग्ध आतंकी के रूप में हिरासत में हैं। २. उनके द्वारा बयान किए गए घटनाक्रम को फर्जी नहीं बताया जा सकता है। (तात्पर्य कि आप इसे तथ्य मानते हैं ) ३. 2004 के आम चुनाव के बाद से भाजपा में आरएसएस से दूरी बनाने की आवाजें उठ रही है। दुर्भाग्य से, आरएसएस के दबाव में ये आवाजें मुखर नहीं हो पाई है। (आपकी मानें तो भाजपा आर एस एस से पीछा छुडाना चाहती है ) अब देखिये: सरकारी संस्थाएं पहले मुस्लिम युवकों को पकड़ती हैं और उन्हें जेल में यन्त्रणा देती हैं - कांग्रेस सरकार जब कई राज्यों में विधान सभा चुनाव नज़दीक आये तो यह लोग एक हिन्दू को पकड़ते हैं और अब मुस्लिम युवक को छोडने लगते हैं - कांग्रेस सरकार प्रश्न है कि क्या इस सरकार के लिए नियम क़ानून का कोई मतलब है कि नहीं ? क्या हिन्दू, क्या मुसलमान - धर्म से कोई आतंकी बनता है क्या ? सामान्य जनता के कोई मौलिक अधिकार हैं कि नहीं ? कांग्रेस सरकार किस आधार पर मुस्लिम युवकों को पकड़ कर जेल में डाले रखती है ? उनका पूरा जीवन कलंकित करने का इन्हें क्या अधिकार है? इस घटनाक्रम से यह सिद्ध हो गया है कि सरकार बिना पक्के सबूत के मुस्लिम युवकों को जेल में सड़ा रही थी. यदि असीमानंद की गिरफ्तारी नहीं होती तो क्या होता ? बेचारे निर्दोष लोग यूं ही जेल में पड़े रहते ! इन लोगों की कौन सी बात सत्य है ... पहले गलत थे और अब भी चाल नहीं चल रहे हैं यह कौन जानता है ? लगता है कि कांग्रेस दोनों ही समुदायों के साथ खेल रही है - भेद की राजनीति . भावुक लोग एक दूसरे के विरुद्ध होकर लड़ बैठते हैं. फिर वोट बंटते हैं और कांग्रेस का कुशासन चलता है .

के द्वारा:

एक देश जो विधि के शासन को सुनिश्चित नहीं कर सकता वह जटिल सुरक्षा चुनौतियों से कारगर तरीके से शायद ही निपट सके। फिर भी सुरक्षा परिषद् की स्थाई सदस्यता की कामना है | आगे क्या कहूँ ? नीचे स्तर ( नीच भी कहा जा सकता है ) पर क्या हालात हैं ?? मोटा सा, छोटा सा अंदाजा = पूरे भारत में एक लाख से ज्यादा water guards तैनात हैं | हर वाटर गार्ड , अपने अपने इलाके में , लापरवाही से, लीक होने वाले नलों और पाईपों से , हर रोज़ ५०० रु से ज्यादा चूना देश को लगाता है | कुल कितना ??= एक दिन में = ५०००००००० रु एक साल में = ५०००००००० * ३६५ = १८२५०००००००० रु ( अठारह हजार दो सो पचास करोड़ रुपय सालाना) | स्ट्रीट लाइट दिन में भी जलती छोड़ने वाले =???? पटवारी aadi , जो करोड़ों की जमीन चंद दारु के घूँट पीकर encroachment होने देते hain ???? जंगलात के कर्मचारी २५ - २५ लाख में एक एक बाघ का सौदा कर लेते हैं = ?????? कहाँ तक गिनूँ शाम हो चली है इस देश की रक्षा करने वालों की चर्चा करते तो उनगलियन कांपने लग गयीं हैं ???????????

के द्वारा:

हम स्कूल न जा कर पास के जंगल में छुपा छुपी आदि खेल कर शाम को घर आ जाते थे | एक दिन मैं एक चट्टान के पीछे रेत के ऊपर लेट कर छुप गया | मेरे कपड़े भी रेत जैसे ही गंदे थे तो पूरा यकीन था के दोस्त लोग मुझे नहीं ढूंड पाएंगे | पर एक मधुमक्खी नें सारा खेल बिगाड़ दिया | कभी नाक, कान, आँख मुंह या हाथ में खुजली कर के मुझे इतना तंग कर दिया के मुझे हिलना ही पड़ा | पकड़ा गया | मुझे गुस्सा आया एक हाथ मार कर मधु मक्खी को नीचे गिरा कर बूट से कुचल कुचल कर मार डालने के सुख का आनंद मनाने ही जा रहा था कि रेत में फुर फुर हुई और वह फुर्र्र से उड़ गयी | मैं हतप्रभ सा अवाक सा घुटनों के बल उस की जिजीविषा को सलाम करने कब झुक गया मुझे खुद भी याद नहीं | सम्पादक महोदय ये सोच रहे होंगे के चर्चा कहाँ का था और ज़िक्र कहाँ का ? चीन की भी सं १९२४ से पहले changkaishek नें ये ही हालत कर रखी थी | सिर्फ २५ साल में, १९४९ के आते आते चीन आज़ाद हुआ | द्वितीय विश्व युद्ध में उस नें एक राष्ट्र के तौर पर भाग लिया, जापान के कब्जे से पूरा पूर्वी चीन आजाद करवाया | आज चीन दुनिया का सबसे ताकतवर देश है | अमरीका नें जो मुकाम ३३६ साल में पाया वो चीन नें, जिसे दुनिया सोया हुआ अजगर कहती थी , २५ साल में हासिल कर लिया | उसे इतराने का हक है | किसी को जलन क्यों हो ??? सीख लेनी चाहिए या जलन करनी चाहिए ?? ये हम भारतियों को सोचना चाहिए | हमने लामाओं को शरण दी, अच्छी बात है | क्या मदद की ?? अपने गले में सांप डाला , वोह भी जिंदा, ??? सुरक्षा परिषद की नम्ब्र्दारी के कुछ पैमाने हैं, eligibility है | जिन देशों नें द्वितीय विश्व युद्ध में जर्मनी जापान को मात दी वो ही eligible हैं | भारत तो देश था ही नहीं महज़ अंग्रेजों की कोलोनी था | जितना वक़्त , पैसे , और मेहनत security counsil का मेम्बर बनने के अभियान के लिए खर्च किया उतना अगर खुद को बली, महाबली, खली बनाने में लगाये होती तो दुनिया खुद ही निमंत्र्ण भेजती, आओ प्यारे भारत आओ, विश्व की सुरक्षा के लिए आपकी नित्तंत आवश्यकता है | जो हमारी पीठ में छुरा भोंकते आ रहे हैं उनसे ये आशा ही नहीं याचना करना, कहाँ का आत्मसम्मान और बुधीमत्ता है ??? मुआफ कीजिएगा | मैं कुछ ज्यादा तो नहीं कह गया???

के द्वारा:

बहुत ही उत्तम विचारधारा ! नित्तांत, अपरिहार्य आवश्यकता है के देश के युवा राजनीति में नेत्तृत्व के स्टार पर सक्रिय हों | परन्तु समस्या दो धारी तलवार जैसी है | जो राजनेताओं के बच्चे हैं उन्हें उस पैसे को 'manage' करने से ही फुर्सत नहीं मिलती ताकि देश की भलाई के बारे में भी कुछ सीख सकें या सोच सके | उन्हें तो एकेडेमिक डिग्रियां भी 'भारी जोड़ तोड़'कर हासिल करनी पड़ती हैं | परन्तु फिर भी पापा मामा के बाद ही तो वो अपना देश सम्भालेंगे | तब तक वो खुद भी बुजुर्ग हो जाते हैं | चाहें भी तो बूढों को जल्दी रुखसत नहीं कर सकते क्योंकि अपने parents हैं | जो हकीकत में मेहनती लोग हैं और देश के लिए कुछ करने की कूवत रखते हैं, जवान हैं परन्तु कोई launch करने वाला नहीं है उन्हें जनता वोट ही नहीं देते | अगर अपने बूते कुछ करना भी चाहें तो गुंडे चुनाव का नतीजा निकलने से पहले ही अगली दुनिया का टिकट काट देंगे | ऐसे में उन्हें दुबके रहना ही श्रेयस्कर लगता है | अब कुछ साल और की देर है ये अग्रेजी कहावत चरितार्थ होने वाली है, "when the country is taken over by dogs, cats should sleep on trees and walk on the fences."

के द्वारा:

बहुत ही सटीक और इमानदार विश्लेषण!! सोचना ये भी उचित रहेगा कि अगर मनमोहन न होते तो कौन ?? और अगर उनके आलावा जो होता वो क्या करता और हालात क्या होते | सचाई ये है के हमारे देश में कितना भी इमानदार व्यक्ति प्रधानमंत्री बन जाये, वो जितना ज्यादा इमानदार होगा उसे उतनी ही ज्यादा मुश्किलों का सामना होगा | जो सरकार में सहयोग देने आगे आते हैं वोह मुफ्त में नहीं कुछ न कुछ लूटना चाहते हैं| मनमोहन जी नें काफी दिन तक राजा को लेने से मना किया था फिर भी लेना ही पड़ा | मजबूरी देशहित में भी थी | अगर एक बार फिर चुनाव होते तो शायद मनमोहन जी का व्यक्तित्व तो चमक जाता लेकिन उसके लिए देश को चुनाव के खर्च की भारी कीमत भी चुकानी पड़ती | धन्यवाद |

के द्वारा:

आलोचना में व्यक्तिगत घ्रीणा, द्वेष, ईर्षा, अभद्रता, के स्थान पर अगर समद्रष्ट होकर विचार व्यक्त किये जाएँ, दूसरे के विचार भी सहनशीलता से सुने जाएँ तो व्यक्तित्व की सुन्दरता स्वयं ही दिख जाती है | देश के उच्चत्तम प्रशासनिक पद पर आसीन व्यक्ति के प्रति कैसी भाषा का चुनाव करना चाहिए ये भी ध्यान रखा जाये | १२० करोड़ लोगों में से ६० - ७० करोड़ से ज्यादा लोगों ने जिसे स्वीकार किया है उनके प्रति अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल न करना भी शालीनता और भद्रता की निशानी होती है | ये नियम मैं अपने लिए बयान कर रहा हूँ | कुछ लोगों पर तो ऐसे नियम लागू होते ही नहीं हैं | जिन तथ्यों का हमें कोई सबूत आज तक नहीं मिला और जिन तथ्यों को सरकार भी उजागर नहीं कर पाई जो हमारी पसंद की थी और काफी अरसा कुर्सी पर काबिज रही उन तथ्यों पर माथा पची करते रहना खुद की सेहत के लिए अच्छा नहीं होता |

के द्वारा:

जो लोग निरंतर ये राग अलापते रहे के हमें सत्ता मिले तो तुरंत बोफोर्स के दोषिओं को सजा देंगे, उन्हें हमने चुना सत्ता दी, ५ साल से ज्यादा सत्ता का सुख भोगने में रहे किसी को सजा नहीं दी | इतना तक नहीं बताया की हम क्यों सजा नहीं दे पाए, तो क्या आप उनसे आशा कर रहें हैं सजा खाने की जिन्होंने, आपके कथनानुसार, दलाली खाई है ?? ये तो आपका विचार ही विचित्र है के दोषी को कहो के खुद ही खुद को सजा दो | मेरे विचार में तो दलाली की बन्दर बाँट में हिस्सा मिल जाने के बाद एन डी ए ने भी येही तय किया के चलनो दो अब हम भी अपनी पूरी ताकत लूट में लगाते हैं और ८० हज़ार से एक लाख तक के भाव से कफन ही खरीद डाले | अगर ये बातें किसी की समझ में न आये तो वो सहानुभूति का पात्र है या नहीं ???

के द्वारा:

आने वाले समय के लिए मेरी एक राय है जो में चाहता हु संसद सदस्योए तक पहुच्ये जाये , निगम पार्षद के लेवल के लिए केवल RETIRED अध्यापक एंड DOCTORS को ही चुनाव लड़ने की अनुमति हो जिससे के वो अपनी सेवाए समाज को दे सके क्योकि वो अपने घर की जिम्मेदारियों से मुक्त हो चुके होते है जिसके कारन वो ब्रश्ताचार की आग में नहीं कूदेंगे तथा अपने जीवन के अच्छे गुणों से समाज को नई दिशा देंगे , विधान सभा के सदस्योए के लिए केवल RETIRED IPS ओफ्फिसर्स एंड मिलिटरी के MEJOR या COLONEL को ही विधान सभा की सीट पर जानने की अनुमति हो जिससे की वो अपनी कार्य शमता से देश सेवा कर सके तथा समाज को भ्रस्ताचार से मुक्त रख सके, अन्य किसी भी क्लास के व्यक्ति को टिकेट न दिया जाये , कयोंकि देश सेवा वोही कर सकता है जिसने देस सेवा में अपनी जिन्दगी गुजारी हो बाकि लोग तो नोट कमाने के लिए ही इलेक्शन लड़ते है.

के द्वारा: tarunkukrejja tarunkukrejja

प्रीतम जी आपकी शंका जायज है क्योकि इसी तरह हिंदुस्तान में आँखों वाले अंधे बहुतायत में पाए जाते है जो कांगेस में तो शत-प्रतिशत तथा गुलामी मसिकता के चलते इस तरह अपने आकाओ के वास्तविक रूप को देखते हुए अंधे बने रहते है और दिग्विजय जैसे विकृत मानसिकता से ग्रसित लोगो की मिलते ही दिमागी खुजली मिटने को सही-गलत और नैतिकता अनैतिकता के प्रश्नों को दर-किनार अपने चरण वंदना में लीं होजाते है.चाहे किसी संवैधानिक संस्थाओद्वारा प्रश्न उठाया गया हो या किसी नागरिक द्वारा इन्हें दोनों एक जैसे ही लगते है ये लोग इतने अंधभक्त होते है कि अपनी जानकारी में इजाफा भी नहीं होने देते कि देविओ और देवताओ की छवि कही दागदार निकल आयी तो किसकी चरणवंदना करेगे या फिर अपने को क्या जबाब देगे आप जैसे लोग किसी अन्य के नहीं सिर्फ सहानिभूति और दया के पात्र है.धन्यवाद /

के द्वारा:

सबसे पहले तो मै यह कहना चाहूँगा की दिग्विजय सिंह जी भारतीय नागरिक होने से पहले कांग्रेस आलाकमान के नागरिक है ... और जबकि यह सभी जान चुके है की क्वात्रोची के सम्बन्ध राजिव सोनिया से किस हद तक पारिवारिक रहे है तो हमें दिग्विजय सिंह जी जैसे अति समर्पित कांग्रेसियों की निष्ठां पर सवाल ही नहीं खड़े करने चाहिए उनके लिए तो क्वात्रोची देवतुल्य अतिथि ही है .. क्योकि आलाकमान के प्रति निष्ठां दिखाने के लिए वह एक जरिया है ,,, अब जबकि सिब्बल साहब ने राजा को पाक साफ और कैग को ही झूठा बना दिया तो साफ़ है की चारण परंपरा के समर्पित वाहक किसी भी हद तक जा सकते है... मेरा विचार है की हमें भी क्वात्रोची को भारत रत्न देकर विदा कर देना चाहिए .... ताकि बोफोर्स का ये भूत मुक्ति पाए और कुछ और नए मुद्दे पर बात हो...

के द्वारा:

महोदय जी ! इस प्रकरण पर २२ साल से भी ज्यादा कितनी राजनीति हुई है वो भी गिन्नेस बुक आफ़ रिकार्ड्स में दर्ज हो ही जानी चाहिए !! घोटले की रकम से कई गुना रकम तो इसकी छानबीन पर खर्च की जा चुकी है | सब से ज्यादा खर्च NDA के ५ साल १३ माह और १३ दिन में हुआ जो ३०० करोड़ से भी ज्यादा बताया गया है | मुझे इस बात पर हैरानी है कि जो गठबंधन सिर्फ इसी मुद्दे को लेकर सत्ता में आया उसने इतने अरसे में क्यों नहीं कुछ किया | सीबीआई के कितने ही लोगों ने इस बहाने विदेश भ्रमण किये | पैसा तो खर्च किया ही गया [ खजाने से वेतन पाने वाले अफसर सारा काम छोड़ कर विदेश रसीदें या लैटर रोगेटरी लेने के लिए भ्रमण करते रहे | अगर ऐसे लोगों के वेतन और भत्तों को भी जोड़ा जाये तो ये खर्च कई हज़ार करोड़ तक पहुंचेगा | सीबीआई के चीफ खुद लैटर रोगेटरी लेने गए जो काम एक इंस्पेक्टर के करने का है | इस बात की आलोचना मिडिया में कई दिन तक होती रही | इस मुद्दे पर दहाड़ते हुए बाजपाई क्यों अचानक चुप हो गए? इस बात पर आश्चर्य है | अगर वो कुछ नहीं कर पाए तो क्यों नहीं कर पाए ? अगर उन्हें यकीन हो गया है कि घोटाला सिर्फ नज़र आ रहा था वास्तव में बात कुछ और है तो बार बार सिर्फ मतदान निकट आते देख कर क्यों यह जिन बाहर निकला जाता है ? धन्यवाद | प्रीतम |

के द्वारा:

सर,शानदार ब्लॉग के लिए बधाई!क्या भारत में वाकई भगवा आतंकवाद पनप रहा है? 04-01-11 (06:38 PM)rishika budawanwala हा भाई पनप रहा हे और उसे पनपने कौन दे रहा हे?और उसे खत्म करने कि जवाबदारी किसकी हे?और ये बयांन देने वाले अपने दल कि तरफ़ से बयान दे रहे हे या ये उनके निजी विचार हे? जरा खुल कर तो बताइये जनाब!!! ऋषिका बुदावन वाला,खाचरोद[म्प] 04-01-11 (06:33 PM)subhash budawanwala आंताकवाद का कोई रंग नहीं होता हे और जो भग्वाआंतक्वाद कि बात करते हे वे अप्रतक्श्य रूप से हरे आंतक्वाद को पाक्साफ मानते हे जब सरकार कह रही हे कि भगाँव आंतक वाद पनप रहा हे तो वह अधिकार संपन्न होने के बावजूद उसे खत्म क्यों नहीं करती जाहिर हे कि वह सिर्फ़ राजनैतिक पेत्रेबाजी दिखा रही हे!सुभाष बुदावन वाला,18,शांतिनाथ कार्नर,खाचरोद[म्प] 04-01-11 (06:48 PM)mayuri r chajed आंतक्वाद पनप रहा हे और आगे अधिक विकराल रूप धारण करेगा क्योकि यदि किसी पर ग़लत तोह्मत लगाई जाती हे तो वह तोह्मत लगाने वाले को मजा तो जरूर च्खाएगा ही! मयूरी रितेश छाजेद,रतलाम[म्प] 04-01-11 (06:44 PM)shilpa r bupkya यह हमारे देश का दुर्भाग्य हे कि देश कि सर्वाधिक आबादी वाले हिंदुओं पर हमारे नेता बेखौफ कुछ भी उलटा सीधा आरोप लगा देते हे और हम चुप छाप सुनकर बेथे रहते हे कब्तक हम अपनी एकजुटता वावाज़ बुलंद करेंगे ताकि कोई आगे ऐसी गुस्ताखी करने का साहस नहीं कर सके. शिल्पा रितेश बुपक्या,खाचरोद[म्प]

के द्वारा: hash hash

ड्रामा करने वालों को तो एक दिन सच का सामना करना ही पड़ता है | चाहे काठ के कफन का करोड़ खाने वालों को या तसला उठाने वालों को | इन सब के बीच कुछ इमानदार लोग देश के लिए अच्छा काम कर रहे हैं | उनको गाली गलौच करते रहना बुरा बोलते रहना अभिव्यक्ति की आजादी का गैर जिम्मेदाराना इस्तेमाल है | कभी कभी दीरघ लाख्श्य को पूरा करने के लिए घटिया लोगों को बर्दाश्त करना पड़ता है | अगर जनता किसी चोर को चुन कर अपना MP बना कर मंत्री बनाने की जिद्द कर ले तो उस लोकतंतर का ये हाल होना ही है | अगर उस को उस वक़्त प्रधान मंत्री निकाल देते तो सरकार चली जाती , मध्यावधि चुनाव होते, कितना खर्च होता और वो आदमी hero बन कर ज्यादा मतों से जीत कर आता | ये सोचना आप भी जानते हैं पर वोट की राजनीति से मजबूर होकर अपनी साख बनाने के लिए संसद का करोड़ों का नुकसान कर दिया | ये न सोचा के देश में मेरी सोच रखने वाले भी करोड़ों लोग हैं जिन्हें किसी पार्टी से नहीं देश से प्यार है | प्रीतम

के द्वारा:

संपादक महोदय ,नमस्कार ,वैसे मई अखबारों के सम्पादकीय पैर प्रतिकूल टिप्पड़ी से बचाता हु .लेकिन अफ़सोस के साथ कहना पड़ता है जब तटस्थ पत्रों के लिए उचित नहीं है कि यह न बताया जय कि आखिर वह क्या वजह थी कि तीन चौथाई बहुमत के बाद भी दूसरा कार्यकाल में उनकी पार्टी कांग्रेस बहुमत भी नहीं प़ा सकी दूसरी बात यह कि भोपाल गैस त्रसदी के असली अभिउक्त को सम्मान सहित सरकारी सुविधाओ के मदद से विमान तक उपलब्ध कराया गया क्या उनकी इस कार्य में आपराधिक मौन स्वीकृत नहीं थी? कैबिनेट सचिव और विमान के पायलट और तत्कालीन पुलिस के अधिकारियो ने बयां भी दिया है.मई आपके अखबार का उस समय से पाठक हु जब यह प्रकाशित होना प्ररुभ हुआ और खलीला बाद तक तरण से जाता था क्योकि हमारे पिताजी वहा के एक नात्र एअजेंसी थी और हुम लोगो का उस चेत्र में इसके प्रचार में आज और नवजीवन जैसे स्थापित समाचार पत्रों के तुलना में वरीयता दी है,महोदय अगेर कोई गलती हो गयी हो तो छमा कीजियेगा क्योकि मै कोंई अध्धाजिवी नहीं हु. आदर सहित /

के द्वारा: shuklaom shuklaom

के द्वारा: manojbijnori manojbijnori

प्रधान मंत्री दलालों द्वारा नियंत्रित होते हैं. मंत्रिमंडल में इसको क्या मंत्रालय मिलेगा यह लाबीइस्ट और मीडिया में सत्ता के दलाल तय करते हैं राजा को टेलीकाम मंत्री बनाने का मतलब है प्रजा के 1,76 ,000 करोड़ की लूट पूर्वनियोजित थी. यह सब प्रधानमंत्री की जानकारी में और सहमति से हुआ. मीडिया और नेता प्रतिपक्ष के विरोध के बावजूद प्रधानमंत्री ने दागदार थामस को मुख्य सतर्कता आयुक्त नियुक्त किया जब कि नियमानुसार इस पद पर नियुक्ति नेता प्रतिपक्ष की सहमति से की जाती है. इसके लिए तो स्वयं प्रधानमंत्री उत्तरदायी हैं. प्रश्न उठता है की नियमों का उल्लंघन कर मुख्य सतर्कता आयुक्त जैसे पद पर एक दागदार व्यक्ति की नियुक्ति क्यों की गयी. आशंका होती है कि यह सब 2 G Spectrum घोटाले को दबाने के लिए किया गया. मुख्य सतर्कता आयुक्त की देख रेख में 2 G स्पेक्ट्रम घोटाले की सी बी आई द्वारा जांच की विश्वसनीयता पर सुप्रीम कोर्ट लगातार सवाल उठा रहा है. स्वयं प्रधानमंत्री का आचरण संदेह के घेरे में है. फिर भी कहा जाता है कि प्रधानमंत्री बड़े ही इमानदार व्यक्ति हैं.

के द्वारा:

अत्यंत यथार्थपरक विश्लेषण से युक्त एक समीचीन आलेख । सचमुच इधर काफ़ी कुछ सकारात्मक दिखना शुरू हो गया है, और भारत के वास्तविक स्वरूप को प्रकट करने की दिशा में शुभ लक्षण दिखाई देने लगे हैं, इसमें कोई संदेह नहीं है । हर उत्थान का पतन सुनिश्चित है, इसका एक कालखंड होता है । भ्रष्टाचार व नैतिक गिरावट का उत्थान अपने चरम पर आने के बाद पतनगामी तो होना ही है । फ़िर भी लालू प्रसाद सदृश नेताओं को समझा पाना अत्यंत कठिन है । आत्मनिरीक्षण कर बदलाव की आंधी का संकेत समझते हुए अपने पार्टी संगठन को समय की मांग के अनुरूप ढालने का प्रयास करने की बजाय ये नेता विकास के मुद्दे पर बहुमत भी मिल सकता है, इसको अभी भी मानने के लिये तैयार नहीं हैं । सौ-सौ जूते खाने के लिये तैयार बैठे ये लोग शायद ही जातीय समीकरण से ऊपर उठकर कुछ सोच पाएं । घर में नई पीढ़ी के बच्चे हैं जिनकी सोच इनकी सोच से काफ़ी प्रगतिशील है, परन्तु इन्हें दिखाई नहीं देता, या फ़िर इनका अहंकार इन्हें देखने नहीं देता । उन्हें भी अपने रंग में ही रंगने को आतुर हैं । आपके आलेख में दिये गए दृष्टांत, सर्वोच्च न्यायालय द्वारा न्यायपालिका में व्याप्त भ्रष्टाचार को हतोत्साहित करने के सापेक्ष उठाए गए क़दम, तथा बिहार चुनावों के परिणाम यही संकेत करते हैं, कि आपका विश्लेषण तथ्यपरक और अकाट्य है । साधुवाद ।

के द्वारा: आर. एन. शाही आर. एन. शाही

के द्वारा:

स्वप्न दस जी अपने बिलकुल सही लिखा है, जनता विकल्प तलाश रही है क्योकि उसे राहुल की नौटंकी भी नहीं भा रही है क्योकि वे बिना कुछ किये और देश की समस्यों पैर खामोसी अख्तियार कर जनता को मुर्ख बनाना चाहते है जो इनके बाप दादों ने किया अज देश को गिरोहबंदी कर जबर्दुस्त तरीके से लूटा जा रहा है और सोनिया गाँधी या तो हिस्सा प् रही है या अपने बेटे को प्रधानमंत्री बावने की चाह में अपने विदेशी होने पर मुहर लगवा रही है क्योकि एक राष्ट्रिय सोच का आदमी सिर्फ और सिर्फ अपने बेटे के लिए लाखो करोड़ उस देश का लुटावा रही है जहा आदमी कुपोषण और भूख से मर रहा है.पूरी दुनिया के किसी लोकतान्त्रिक देश में अपने व्यतिगत स्वार्थ के लिए ऐसा अंधेर सिर्फ यही संभव है.क्योकि यहाँ के कांग्रेसी एक नंबर के चापलूस,दरबारी,दलाल और लुटेरे हो९ चुके है जो कुर्सी के लिए अपने देश का ही नहीं अपने बहन---बेटी का भी -----------

के द्वारा: shuklaom shuklaom

There is a story perfactly fit on BJP...... परेशान थी चिंटू की wife Non-happening थी जो उसकी life चिंटू को न मिलता था आराम Office मैं करता काम ही काम चिंटू के boss भी थे बड़े cool Promotion को हर बार जाते थे भूल पर भूलते नहीं थे वो deadline काम तो करवाते थे रोज़ till nine चिंटू भी बनना चाहता था best इसलिए तो वो नहीं करता था rest दिन रात करता वो boss की गुलामी Position की उम्मीद मैं देता सलामी दिन गुज़रे और गुज़रे फिर साल बुरा होता गया चिंटू का हाल चिंटू को अब कुछ याद न रहता था गलती से बीवी को बेहेंजी कहता था आखिर एक दिन चिंटू को समझ आया और छोड़ दी उसने position की मोह माया बॉस से बोला , "तुम क्यों सताते हो ?" "Position के लड्डू से बुद्दू बनाते हो " "Promotion दो वरना चला जाऊंगा " "Position देने पर भी वापिस न आऊंगा " Boss हँस के बोला "नहीं कोई बात " "अभी और भी चिंटू है मेरे पास " "यह दुनिया चिन्तुओं से भरी है " "सबको बस आगे बढ़ने की पड़ी है " "तुम न करोगे तो किसी और से करूँगा " "तुम्हारी तरह एक और चिंटू बनाऊंगा " If BJP really wants to root out congress, they have to clean themselves first.

के द्वारा:

"हमारा साझा इतिहास, हमारी संस्कृति हमारे मुसलमानों को यह इजाजत नहीं देती कि वे मंदिरों शिवालों को किसी गैर का कहें। वे हमारे पूर्वजों के हैं, आपके हैं। हम सभी साथ ही 12वीं से 17वीं शताब्दी तक इन्हीं मंदिरों, मठों को बचाने के लिए मरे थे, हमारे ही कटे हुए रक्तरंजित सिरों की मीनारें मंदिरों के खंडरों के सामने आक्त्राताओं द्वारा सजाई जाती रहीं हैं। ये 15 पीढि़या हमारी हजारों साल की संस्कृति सभ्यता पर भारी नहीं पड़ सकतीं।" विक्रम सिंह जी सादर प्रणाम. मुझे बहुत ही ख़ुशी है की जिन को में कई सालों से अख़बार में नियमित पढ़ रहा हूँ उनको आज ब्लॉग पर टिप्पड़ी कर सकता हूँ. आपका यह लेख मेरी फाइल में जा चुका है. ऐसे लेखों से नयी पीढ़ी के पत्रकारों को विचार मिलते हैं. आपका बहुत बहुत आभारी हूँ.

के द्वारा:

हमारे देश के क्र्दाधार ओबामा के द्वोड़े को भी तुष्टिकरण से जोड़ने में में लगे थे कि मुसलमानों में तुष्टिकरण का सन्देश जाय इसी लिए मुख्यमन्त्रियो में सिर्फ उम्र अब्दुल्ला को आमंत्रित किया गया,जिसका कोई अधर नहीं था सिवाय मुस्लमान होने के इसी प्रकार पूरी फिल्म उद्योग में सिर्फ आमिर खान,जावेद अख्त्तर और शबाना आजमी ही दिखाई दिए अमिताभ बच्चन से लेकर एक से बढ़ कर एक वरिषठ लोग है लेकिन उनका कोई मूल्य कों ग्रेस के लिए नहीं है क्यों कि वे मुस्लमान नहीं है.यह है हमारे मनमोहन ,सोनिया के धर्म्निर्पचाता कि वास्तविकता. और आप अम्बेडकर कि बात कर रहे है जिन्हें नेहरू ने अपने जिन्दा रहते ही मंत्रिमंडल से स्थिपा देने को बाध्य किया था.

के द्वारा: shuklaom shuklaom

मैंने तो सुना था कि इस्लाम में स्त्रियों की इतनी इज्ज़त है कि अन्य धर्मों की स्त्रियाँ इस्लाम की ओर आकर्षित हो रही हैं| लेकिन ब्रिटेन के इस चैनल ने तो उलटी गंगा बहाना शुरू कर दी है| ये जरूर गैर इस्लामिक लोगों की साजिश है क्योंकि जानकारों के अनुसार इस्लाम तो मोहब्बत का दूसरा नाम है और ये दुनिया के सबसे सहिष्णु मानवीय धर्मों में से एक है| ऐसे में किसी का ये कहना कि "घरेलू हिंसा और वैवाहिक बलात्कार सही है और कहा कि जो औरतें परफ़्यूम लगाती हैं वो वेश्याएँ हैं" ऐसे प्रयासों पर कुठाराघात है जो लगातार कोशिश कर रहे हैं कि इस्लाम को एक अच्छे और सहिष्णु धर्म के रूप में दुनिया में एक सम्मानजनक दर्ज़ा दिलाया जा सके| एडिटोरियल को ५/५

के द्वारा: chaatak chaatak

नंदा दीप जलाना होगा| अंध तमस फिर से मंडराया, मेधा पर संकट है छाया| फटी जेब और हाँथ है खाली, बोलो कैसे मने दिवाली ? कोई देव नहीं आएगा, अब खुद ही तुल जाना होगा| नंदा दीप जलाना होगा|| केहरी के गह्वर में गर्जन, अरि-ललकार सुनी कितने जन? भेंड, भेड़िया बनकर आया, जिसका खाया,उसका गाया| मात्स्य-न्याय फिर से प्रचलन में, यह दुश्चक्र मिटाना होगा| नंदा-दीप जलाना होगा| नयनों से भी नहीं दीखता, जो हँसता था आज चीखता| घरियालों के नेत्र ताकते, कई शतक हम रहे झांकते| रक्त हुआ ठंडा या बंजर भूमि, नहीं, गरमाना होगा| नंदा दीप जलाना होगा ||..................................मनोज कुमार सिंह ''मयंक'' आदरणीय संपादक जी, आपको और आपके सारे परिवार को ज्योति पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं || वन्देमातरम

के द्वारा: atharvavedamanoj atharvavedamanoj

यूँ तो रतन टाटा ने एक स्कूटर सवार को बीबी बच्चे सहित बारिश में भीगते देख कर उसके लिए एक सपना देखा की ऐसे लोगो के लिए भी छोटी कार हो जिसकी कीमत एक लाख से कम होनी चाहिए और लग गए जमीन हड़पने में ( मै सरकार द्वारा अधिगृहित की गई जमीन को हड़पना ही कहता हूँ) कभी बंगाल तो कभी उत्तराखंड और फिर गुजरात - लेकिन जब उस गरीब की कार धरातल पर आई तो उसकी उसकी कीमत एक लाख से कहीं अधिक है | सपने तो वह भारतीय को दिखाते है लेकिन उच्च शिक्षा के लिए ढाई अरब रूपये का दान हार्वर्ड स्कूल आफ मैनेजमेंट को देते है - क्या ऐसे लोंगो को भारत में कोई शिक्षा संसथान नहीं दिखाई देता जिसकी सहायता की जरुरत हो - लगता है उनका एक ही मंतव्य है कि वहां उनके व्यापारिक हितो की रक्षा हो| हर व्यक्ति अपनी इच्छा से जहा चाहें दान देने के लिए स्वतंत्र हैं, परंतु एक भारतीय के नाते दान देते हुए यह विचार अवश्य करना चाहिए कि दान प्राप्त करने वाला संस्थान दानदाता के देश और उसकी संस्कृति की अवमानना न करे। धन्यवाद

के द्वारा:

आज  कल हर कोई अल्पसंखक अल्पसंखक चीख रहा है और उनकी पैरवी में लगा हुआ है चांहे वोह कांग्रेस हो बसपा हो या फिर सपा हर कोई अल्पसंखक का वोट बैंक हस्सिल करना चाहता है बहुसंखक की किसी को परवाह नहीं है क्यों? क्या अल्पसंखक जिसको कहा जा रहा है वोहि बहुसंखक हो गया है और इसका किसी को पता ही नहीं या फिर इन लोगो को बहुसंखक वोट से कोई डर नहीं ? हाँ अब अल्पसंखक ही बहुसंखक है और बहुसंखक को जतिसंखाक बना दिया गया है और हिंदुस्तान में बहुत जातिया है. तो अब बचा है बहुमत वाला अल्पसंखक इसलिए जिसे देखो वो अल्पसंखक का गुण गा रहा है अब वोह समय आ गया है जब हमें जातिवाद से उपर उठकर आना होगा तभी इस बहुसंखक सुद्ध भाषा हे हिंदू का उद्धार हो सकता है नहीं तो बहुसंखक का अस्तित्व mit jaega

के द्वारा:

मीडिया के बारे में एक बात बताना चाहूँगा हमारे यहाँ एक सरकारी विद्यालय एक माह से बंद था अधिकारीयों से शिकायत करने पर मामला रिश्वत के सहारे रफा दफा कर दिया गया.मेरे एक दोस्त इलेक्ट्रोनिक मीडिया से सम्बंधित थे हमने उन्हें अवगत कराया तो उन्होंने मुझसे भरी भरकम रकम की मांग कर डाली और दोस्ती के नाम पर कुछ कम कर देने की बात भी कही.भ्रस्टाचार में लिप्त मीडिया देश को भ्रस्टाचार से क्या बचाएगा. मीडिया देश का भला कर रही है पर इलेक्ट्रोनिक मीडिया देश के लोगों कहीं न कहीं भ्रमित भी कर रही है और लोग सही गलत का फैसला नहीं कर पा रहे है.अभी हाल में ही मीडिया के हवाले से खबर आई थी पुलिस इंस्पेक्टर अभय यादव को नक्सालियों ने मार दिया है यह खबर काफी समय तक दिखाई जाती रही.उस समय अभय यादव के परिवार वालों पर क्या बीती होगी बाद में पता चला की अभय यादव नहीं लुकास टेटे को मार दिया गया है.एक तरह से मीडिया ने अभय यादव के परिवार वालों को मानसिक रूप से प्रताड़ित किया है.आखिर बिना किसी ठोस सबूत के कोई खबर पूरे देश के सामने घंटो दिखाई जाती.आखिर ऐसी ख़बरें कब तक दिखाई जाती रहेंगी जब तक लोगों का मीडिया पर से भरोसा नहीं उठ जायेगा.

के द्वारा:

इस बात के कोई सबूत नहीं हैं की मंदिर तोड़ कर मस्जिद बनायीं गयी, कोर्ट ने भी एक्सेप्ट किया, और वो अगर राम जन्म भूमि होती तो १५२८ में ही वहा मस्जिद नहीं बनती और अगर बनती तो उसे कोई मुस्लिम एक्सेप्ट नहीं करता. दूसरी बात भारत हमेशा से ऋषि मुनियों का देश रहा है, जिन्हें आज से ज्यादा प्यार था राम से, अगर मंदिर तोडा जाता तो वो ऐसी अनहोनी होने नहीं देते. १९४९ मुर्तिया राखी गयी, और एक झूठ को सच बनाने का नाटक शुरू हुआ और अब कोर्ट ने उस झूठ पर सच की मुहर लगाने की कोशिश की है. और कुछ लोगो ने अपना राजनितिक स्वार्थ सिद्ध करने के लिए उस झूट का सहारा लिया जिसका कोई सबूत नहीं है. अगर किसी शशक ने ऐसा कोई काम किया होता तो इतिहास इसका गवाह होता. कोर्ट का ये सेकंड decision है jsine ये साबित किया की dange karane walo का वो समर्थन karti है. तुम उस सच की baat कर rahe हो jise tumhara कोर्ट भी nahi मानता. tum jin अंग्रेजो की bat kar rahe ho उनका तो siddhant yahi tha logo धर्म ke naam par ladao aur शाशन करो.

के द्वारा:

Sir! (The transliteration server is NA, submitting in English). The editorial is extremely to the point and timely depiction of this lingering problem of Kashmir. A saying in Hindi, " Ik ghadi ka bhoola koson nikal jata hai" which conveys that one step in wrong direction and you have lost your objective. The root cause of this problem lies with the delay by Raja Hari Singh in signing the paper for merger with union of India. Those two or three days have left a permanent soar of cancer on our beloved country. Had he signed it timely India would got the legality to launch forces on the border of Kashmir with Pakistan. India behaved gentlemanly way. Kashmir was a separate State till 27 Oct 47 whereas the last date for signing the treaty was 24 Oct. Pakistan took advantage of this situation and accupied larged part by sending its Army in the garb of Kashmiri freedom fighters. The later mistakes are the offshoots of this blunder. One's decision is as good as one's information. The leaders of that time might have taken the best decision pn the basis of information available to them at that time. There is no use condemning the decision of the leaders of yesteryears but it is very important now to take a firm decision without fearing the consequences of political gains or loss. Peaple sacrifice their lives for the nation. Then leaders cannot not sacrifice small political gains for the nation of which they claim to be the BHAQT (DEVOTEES)? A very small segment of public of the velley concentrated around Lalchawk of Srinagar is extremely Pro-Pak. Jammu and Laddakh are completely Pro-India. The separatists may not be more than 5%. The condition of Pakistan is so worse now that no sane muslim of Kashmir will like to be part of that quagmire. This is the right time for the policy and decision makers of India to take a final and stern decision to abolish 370 and make Kashmir integeral part of India. there will be protests but there will also be jubbilations so great that the protests will not be audible. thanks for such eye opener.

के द्वारा:

प्रिय साही जी, नमस्कार मैं आपसे पूरी तरह सहमत हूँ. मुझे यह देखकर अपार दुःख होता है कि हमारे देश में आतंकवादियों के हिमायती ज्यादा हैं, उनके द्वारा मारे और सताए गए मासूम लोगों और सुरक्षाकर्मियों के कोई नहीं. एकदिन तो हद हो गई जब टी वी के किसी चैनल पर एक discussion के दौरान मानवाधिकारवादी गौतम नौलखा नें एक प्रश्न के उत्तर में कहा कि वे आतंकवादियों के शिकार सुरक्षाकर्मियों और मासूमों को इंसान नहीं मानते. न तो इन मारे गए लोगों के कोई मानवाधिकार होते हैं. इन मानसिक तौर से विक्षिप्त लोगों के बारे में क्या कहा जाय. ऐसे अनेक से \' स्वयंभुव \' मानवाधिकारवादी बरसाती मेढक की की तरह प्रकट हो गए हैं. इनकी सहानुभूति आतंकवादियों के साथ है. इनके विरुद्ध क्यों न एक सामाजिक आन्दोलन चलाया जाना चाहिए. क्यों न इनका सामाजिक बहिष्कार होना चाहिए. अरुंधती राय, मेधा पाटकर, स्वामी अग्निवेश और कई एनी नित्यप्रति माओवादी आतंकवादियों के पक्ष में ऊल जलूल बयान देते रहते हैं. .ये लोग अपने क्रिया कलापों से सुरक्षाकर्मियों को हतोत्साहित और आतंकवादियों का मनोबल बढाते रहते हैं. इसका क्या समाधान होना चाहिए. यह आतंकवादियों से बड़ा खतरा है..

के द्वारा:

'क्या किसी आतंकवादी का भी कोई धर्म विशेष होता है या कि आतंकवाद रंग के अनुसार अपना चोला बदल सकता है. उत्तर सीधा है कि किसी आतंकवादी का कोई धर्म नहीं होता इसलिए उसका कोई मानवाधिकार भी नहीं हो सकता क्योंकि वो इंसान नहीं होता साथ ही आतंकवाद का केवल एक रंग है वह है क्रूर हिंसात्मक मानद्रोही रंग.' -- यह बेबाक़ परिभाषा ही सही है, बाक़ी सब अपने-अपने मतलब से बनाए जा रहे रंग ही हैं, जिनकी कलई बिना किसी साबुन के समयानुसार स्वत: धुल जाती है । अफ़सोस ये है कि मतलबी राजनीति तो अपना सामयिक स्वार्थ सिद्ध कर ही लेती है । ये बात अलग है कि आगे चलकर उनकी परिभाषाएं उन्हीं के गले की फ़ांस भी बनती आई हैं । ओसामा बिन लादेन और भिंडरांवाले का उदाहरण सर्वविदित है । अच्छे विचारोत्तेजक सम्पादकीय लेख के लिये साधुवाद ।

के द्वारा:

Democracy is a form of government,where power is shared by all the people. Democracy is all about sharing power and not winning power. Then is it not Fascist deception to adopt single representative constituencies based on “Winner take al lVictor to Rule’ feudal concept, depicting war mongering feudal society. The only solution to reclaim democracy from war mongering fascist control is to adopt 36 member multi representative constituencies at taluka/county level to account for 100% mandate of the people and thence to elect Representative Executive ,Legislative and Vigilance bodies there from For detailed Action plan and THESIS Read blog-reformingdemocracyindia.blogspot.com Winning and Defeat are feudal concepts,not democratic concepts. However though 1 By how many votres a winner becomes a looser? 2 Are those voters who changed their voting preferances have paid attention to policies and do they have that deep perception of electoral system? and why majority voters do not change their voting preferances/ Are they enslaved insomeway by political mafia? 3 Only political leadership knows how to manipulate elction process and analysts just fathom in the dark to ascribe and bring rationality to irrationality of voters. Read BLOG:reformingdemocracyindia.blogspot.com ACTION PLAN for reforming democracy infested with fascist elements -with multi representative constituencies to give due representation to- WOMREN,YOUTHS, MINORITIES,SC\\ST/ Without subservience to political parties and political mafia.

के द्वारा:

आरम्भ से आज तक बंगाल की राजनीति का विश्लेषण और सामयिक स्थिति पर विवेचनात्मक एक उम्दा निबन्ध के लिये साधुवाद । राजनीतिक अवसरवादिता ने भविष्य की चिन्ता न तो भूत में कभी की है, न वर्तमान में करेगी, ये भारतीय राजनीति का कटु सत्य है । कश्मीर से कन्याकुमारी और महाराष्ट्र से पूर्वोत्तर तक आज की जितनी भी समस्याएँ और जटिलताएँ हैं, सब इसी अवसरवादिता की ही तो देन हैं । ममता भी उसी राह पर चल रही हैं जिसपर पं. नेहरू, श्रीमती गाँधी और दूसरे लोग चलते आए हैं । नेहरू जी को शांतिपूर्ण प्रधानमंत्रित्व चाहिये था, जिसने कश्मीर समस्या को जन्म दिया । श्रीमती गाँधी की नीतियों ने कालान्तर में पंजाब में अलगाववादियों को जन्म दिया, अब ममता यदि माओवादी उग्रवाद को अक्षुण्ण रखना चाहती हैं, तो कुछ नया नहीं है ।

के द्वारा:

के द्वारा:

जब तक हमारे नेताओ को यह समझ में nahi आएगा की हम भारत माँ की संतान है.. इस देश के बेटे है तब तक आतंकवादी aur पाकिस्तान, अमेरिका, नक्सलवाद जैसे tatv हमारे देश me यूही dashhat failate rahege.. आज jarurat इसे नेताओ की जो अपने swarth और कुर्सी से ऊपर उठकर soche.. देशहित में कम करे.. chand कट्टरपंथी नेता चाहे वो पाकिस्तान के हो या हुर्रिएयt के.. उनके लिए sarkar बातचीत के लिए पेशकश करती है.. क्या हम उन्हें जवाब देने में समर्थ नहीं है.. क्या हमारे paas veer सैनिको की kami है.. आतंकवाद और नक्सलवाद को hatane का एक हे मंत्र है.. और वो है... फंड एंड शूट... धुन्धो और मारो.. कुछ वतनपरस्त लोग इन आतंकवाद को सहारा देते.. उन्हें हथियार.. पैसा.. बम और बारूद सुप्प्ली करते है...... पहले इन लोगो को हमें धुधना होगा.. क्योकि.. बिना सुप्पोर्ट के atankwadi.. kuch नहीं kar सकते है..... जब भी कोई पुलिसवाला.. या कोई सैनिक.. किसी एइसे आदमी पर हाथ डालता है.. या उन्हें सजा दिलवाने की कोशी करता है.. और तो बहुत से नेता.. उनके बचाव में आ जाते है..... और एक बात... विशेष... जिस दिन भी नरेन्द्र मोदीजी इस देश के प्रधानमंत्री बनेगे.. उस दिन ये फ़ॉर्मूला shuru हो जायेगा.. फंड एंड शूट.. क्योकि आज हमें जरुरत है एक इसे नेता की.. जिसके irade फौलादी.. हो.. जिसमे दम हो.. दुनिया से लड़ने का.. और वो सिर्फ एक ही है... नरेन्द्र मोदी....

के द्वारा:

कांग्रेस की रजनीर का मूल आधार ही मुस्लिम तुष्तिकरद है आजादी के बाद से ही कांग्रेस इसी के बदुओलत १९७७ तक लगातार सत्ता में बनी रही और देश की समस्याओ को नजरंदाज केर के भी देशद्रोही तत्यो को आर्थिक,नातिक और सामाजिक समरथन देती रही.और बदले में उनके वोटो की तिजारत कराती रही और स्विस बांको में अपने नेताओ के खातो को समृद्ध कराती रही.मुसलमानों को जानबूझ केर अशिक्चित और पिचादा बनाये रखा गया इसके बदले में आम मुसलमानों को असमान नागरिक कानून का तोहफा दिया गया जो आम मुसलमानों को जाहिल और कट्टर मुओलानाओ के रहमो करम पैर छोड़ दिया गया जिससे आम मुस्लमान अपना भला बुरा सोचने से महुम केर दिया गया और इसतरह उन्हें मात्र एक वोत्बंक में तब्दील केर दिया गया और बार -बार बटवारे की यद् दिला आर.अस.अस.का भय दिखा केर अपना स्थायी समर्थक बना लिया गया.जिसका नतीजा है की अज कांग्रेस और उसके अपराधिक नीतिओ के चलते तमाम दल अपने अस्तित्य्व के लिए मुस्लिम तुष्टिकरण की नीतिओ को मानाने और लागु करने को बाध्य हो चुके है.अज देश की सत्ता इनकी बंधक हो चुकी है.संसद पैर हमला काआरने वाले फासी की सजा पाए अफजल गुरु जेल में बिरयानी खा रहे है और संसद की रक्चा में शहीद हुए जवानों की विधवाए बीरता के लिए मिले सम्मान को वापस केर सजा के क्रियान्ययं के लिए आन्दोलन और विलाप कर रही है.एक मनोनीत प्रधान मंत्री जो जनता का सामना करने की हिम्मत कभी नहीं जूता पाया लेकिन बढचढ केर बयां देता है की देश के संशाधनो पैर पहला हक मुसलमानों को है.कैसे यह बताने की जरुरत नाटो वह समझता है और नहीं उसे पड़ा करने वाली उसकी शैडो मोम और युवराज की तो उम्र ही नहीं हुयी इस तरह की गूढ़ बातो पैर प्रतिक्रिया देने की.इससे बड़ी कांग्रेस की दोगली नीत क्या होगी की एक तरफ शहीद मूलचंद्र शर्मा को बतला हाउस मुठभेड़ के लिए बीरता पदक देती है और दूसरी तरफ अर्ध्विदेशी युवराज अपने हरकारे एक अपने ही महामंत्री को बाटला हाउस में मरे गए आतंकवादी के दरवाजे पैर हाजिरी लगा केर युवराज के दुओरे के लिए माहोल तयार करने के लिए भेज केर सर्वोच्च न्यायलय के निर्दय की धज्जिय उडाता जाँच की मग करता है.महान्राश्त्रावादी गुजरात के मुख्य मंत्री मोदी को आतंकवादियो के खिलाफ लड़ाई लड़ने में हेर तरह से हतोत्साहित किया जाता है.कभी आतंक के खिलफ उनके द्वारा भेजे गेर कानूनों को लुओताता है कभी इशरत जहा जैसे फियादीन को मासूम बना केर मोदी की छवि धूमिल किया जाता है और इस देश के सत्ता की चरण वंदना करने वाली मीडिया के माध्यम से गुजरात के झूठी सही अफवाहों फलाया जाता है लेकिन वही ५० से अधिक कारसेवको को जिन्दा जला देने की घटना को भूल केर भी यद् नहीं किया जाता.जो कांग्रेस अपने नक् के नीचे हजारो सिख्खो का नर्संघर कराती है और २५सल बाद भी न्याय के लिए एक को भी सजा नहीं दिला सकी उसे क्या अधिकार है गुजरात या दुसरे मामलो पैर बात करे जो कांग्रेस हजारो लोगो को भोपाल में मरने के लिए छोड़ उसके अपराधी को भागने में लगी रहती है वह मानवता की अपराधी है कांग्रेस बहाया हो चुकी है बेशर्मी इसका पर्दा हो चुकी है इसी लिए तमाम देशी विदेशी अखबारों में नेहरू गाँधी खंडन के स्विस बैंक खतो के बारे में नो. सहित पुरद विवरण आने के बाद भी कोई स्पष्टीकरण देने की जरुरत नहीं समझती.बेशर्मी से छत्तीसगढ़ और झारखण्ड में नीरीह आदिवासियो के नर्संघर पैर कोई जाँच की बात नहीं कराती एक कुख्यात अपराधी और देश द्रोही के एन्कोउन्टर पैर सर मचाती है.इस तरह हम इसी निशाकर्स पैर पहुचाते है की कांग्रेस से बड़ी देश तोड़ने वाली अनतिक कोई दल या सर्कार नहीं इसकी जीतनी निंदा भ्रत्शाना की जय वह कम है.धम्निर्पेचाता का ढोग रचाने वाली कांगेस सबसे बड़ी धर्मिक विद्वेष फलने वाली पार्टी ठहरती है.एक तरफ हिन्दू देवी देवताओ की अनावश्यक नंगा चित्र बनाने वाले हुसैन के अभिव्यक्ति के नाम पैर समर्थन कराती है दूसरी तरफ अभिव्यति के लिए ही देश निकला और मुओत के फतवों से बचने के लिए हिंदुस्तान में शरण पाए तसलीमा नसरीन जैसे लेखिका को सामान्य शिस्ताचार की प्रवाह किये बगर हिरासत में ले केर देश निकला देती है एक बेवा शाहबानो के तलक पैर उसके हक में फासला आने पैर मुस्लिम्तुश्तिकरण का सबसे घ्रिदित प्रदर्शन करते हुए संविधान में संशोधन केर उसके तथा उस जैसे तमाम मजलूमों के हक का अपहरण करती है और इसके बाद भी बेशर्मी की पराकाष्ठ करते हुए अपने को धर्म्निर्पेक्चाता का चैम्पियन घोषित करती है.इससे बड़ा विरोधाभास विश्व राजनीत में मिलाना मुश्किल है सच्चर कमिटी और रंगनाथ मिश्र आयोग का गठन केर मुसलमानों के तुष्टिकरण का वधानिक आधार तयार करने वाली कांग्रेस यह बताने की जहात नहीं उठती की इसकी जिम्मेदारी किसकी है जब की इस पैर एक श्वेत पत्र लाना चाहिए क़ि आखिर विकास के दुओद में मुस्लमान इतने पिचादे क्यों रह गए लेकिन कांग्रेस यह कभी नहीं करेगी नहीं तो उसका घ्रिदित चेहरा सामने आ जायेगा,जिसका उसके पास कोई तर्क नहीं होगा सिवाय इसके क़ि उन्हें जानबूझ केर सर्कार अपने आश्रित और अपने रहमोकरम पैर रख उनका वोट लेती रही.कांग्रेस एक बार ही नेहारुगंधी खंडन के पकड़ से चूता और नरसिम्हाराव सत्ता में आये कांग्रेस के छद्म धर्म्निर्पेचाता का नकाब उतर गया मुसलमानों ने ऐसी पथाखानी दी क़ि फिर से अपने पारो पैर खड़ा होने में असमर्थ हो गयी अब बशाखी के सहारे घिसत रही है.इसी लिए अब और आक्रामक तरीके से धर्म्निर्पेचाता का तमाशा खड़ा केर रही है\'अब तो एकही फंदा रह गया है देश और आम आदमी जाय भाद में एकसूत्री कार्यक्रम रह गया है राहुल गाँधी को प्रधान मंत्री को कुर्सी पैर बताना राहुल अपने को अभी इसके काबिल नहीं समझाते वह बार-बार कह चुके लेकिन समझाना जरी है क़ि राहुल बाबा अब आप बड़े हो गए अब आपकी उम्र खिलुओनो से खेलने क़ि नहीं अब आप देश से खेलो चरण प्रधान से लेकर दस तक राग भरवी गा रहे है देखे कब तक बल हथ छोड़ बाबा बड़े होने के स्वांग में आते है.तबतक इंतजार कीजिये. d

के द्वारा:

पाक विदेश मंत्री कुरेशी का असामान्य व्यवहार बगैर किसी उद्देश्य के नहीं किया गया . वार्ता को पटरी से उतारने का काम शायद जानबूझकर पूर्वनिर्धारित रणनीति से किया गया. लगता है पाकिस्तान अपनी धरती से जेहादी और 26 / 11 के अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करने के अपने वादे से बचना चाहता है. पाक विदेश मंत्री ने आक्रामक और उत्तेजक व्यवहार भारतीय दबाव से पीछा छुडाने के उद्देश्य से किया. पाक आतंकवादी जिहादी समूहों, आईएसआई और सेना के आदेश पर भारत-पाक संबंधों में व्याप्त तनाव को खौलते रहते देखना चाहता है. पाकिस्तान को भारत के साथ मैत्रीपूर्ण सम्बन्ध स्थापित करने में कोई रुचि नहीं है. स्पष्ट रूप से पाकिस्तान के इरादे और विश्वसनीयता पर एक सवालिया निशान है. मैं समझ नहीं पाता हूँ कि क्यों हमें पाकिस्तान के हाथों अपमान के बाद अपमान सहना पड़ता है. हम साहस जुटा कर और स्पष्ट शब्दों में पाकिस्तान को क्यों नहीं कह सकते कि अब बहुत हो चुका यह बिल्ली और चूहे का खेल हमेशा के लिए नहीं चल सकता है. यदि पाकिस्तान को विश्वास की कमी दूर करने और शांति स्थापित करने के लिए वार्ता में कोई दिलचस्पी नहीं है तो हम भी बहुत लालायित नहीं हैं. ताली दोनों हाथ से बजती है. शराफत की भी अपनी सीमाएं होती हैं. ' कहने की सीमा होती है, सहने की सीमा होती है . अगर पाकिस्तान अपनी ज़मीन पर चल रहे आतंकवादी कैम्पों को नष्ट करने, अन्य आतंकवादी गतिविधियों को नियंत्रित करने और 26 / 11 के अपराधियों को दण्डित करने संबंधी अपने वादों पर अमल नहीं करता है तो आगे किसी और वार्ता का कोई मतलब नहीं है.

के द्वारा:

के द्वारा:

बात तो सही कही है परन्तु अगर आप बीस साल पुराणी बातों को उठाके तथ्य पेश करे तो शायद मैं पूर्णता इससे सहमत नहीं हु. हम भारतीय हमेशा से चीन के विचारों, उनकी नीतियों कि अवहेलना करते है परन्तु क्या कभी हमने इस बात पर ध्यान दिया क्यों चीन विश्व बाज़ार में एक महाशक्ति बनकर उभरा है. बीसीजी के माने तो चीन 20020 तक विश्व की सबसे बड़ी आर्थिक पूंजी बन जाएगा. चीन ने 1970 के दशक में \"ओपन डोर पोलिसी\" अपनाई थी जिसका फायदा उन्हें आज मिल रहा है. हर क्षेत्र में चीन भारत से कोशों आगे है. जनसंख्या की बात करे तो भले ही चीन भारत से आगे है परन्तु शायद कुछ वर्षों में हम इस विषय में चीन से आगे हो जाए. और शायद हर तरफ़ हो रहे विकाश के कारण चीन के व्यक्तियों को काम की तलाश में दूरसे शहर न जाना पड़े.

के द्वारा:

दोस्तों भारत की जनता और मिडिया सभी भुल्कड़ है! कयोंकि कुछ दिनों पहले तक एंडरसन का मुद्दा कांग्रेस के खिलाफ मिडिया और जनता ने जोरो से उछाला था!जो कांग्रेस के वोट बैंक को बुरी तरह प्रभावित कर रहा था.जनता में कांग्रेस के खिलाफ जबरदस्त आक्रोस था! लेकिन कांग्रेस भी कम चालाक नहीं है.वो जानती है भारत की जनता भुल्लकड़ है? इस मुद्दे को दबाने के लिए और जनता और मिडिया का धयान दूसरी तरफ मोड़ने के लिए सोची समझी चाल के तहत पट्रोल और डीजल के दामो में बढ़ोतरी कर के कांग्रेस अपनी चाल में सफल होगई! आज जनता और मिडिया एंडरसन के मुद्दे को छोड़कर मंहगाई की और चिल्लाने लग गए? ये है भारत की मिडिया और जनता का हाल! इस देश को भगवन ही बचाए? इस मुद्दे की जगह यदि मायावती का कोई मुद्दा होता तो इस देश की मिडिया और मनुवादी लोग हाथ धोकर मायावती के पीछे पड़ जाते! कयोंकि वो दलित समाज में जन्मी एक दलित की बेटी है?देश का मिडिया हमेशा पक्षपात करता है. इसमें कोई शक नहीं है.............

के द्वारा:

कश्मीर का मसला अत्यंत ही संवेदनशील है.बहुसंख्यक कश्मीरी इमानदार, मेहनती, देशभक्त और शांतिप्रिय हैं. थोड़े से शरारती तत्व है जो पाकिस्तान के एजेंट के तौर पर कार्य करते हैं. आजादी के समय से ही पाकिस्तान की मंशा कश्मीर को हड़पने की रही है. इसके लिए उसने कश्मीर में अलगाववादियों की एक पौध पाल पोस कर तैयार की है. ये शरारती तत्व समय कुसमय कभी स्थानीय मुद्दों, कभी धर्म और कभी एनी कारणों से उत्पन्न लोगों के असंतोष का फायदा उठाना चाहते हैं. ये चाहते हैं कश्मीर का मुद्दा हमेशा खौलता रहे. वहाँ कभी शान्ति न स्थापित होने पाए. हमारे सुरक्षाबलों को शरारती तत्वों की इन चालों को समझ कर सावधानी बरतना चाहिए. हमें बहुसंख्यक शांतिप्रिय कश्मीरियों का विश्वास जीतना होगा. जहां तक आर्टिकल 370 का सवाल है, यह आर्टिकल कश्मीर को भारत से जोड़ता है. इसको समाप्त करने से यह रिश्ता टूट जाएगा. यह कश्मीरियों की सभ्यता, संस्कृति, परंपरा, स्वायत्तता की किसी बाहरी घुस पैठ से रक्षा करता है. हरेक को अपनी भाषा, संस्कृति, परंपरा की सुरक्षा को लेकर आशंका रहती है. कश्मीरी इस मामले में कुछ ज्यादा ही संवेदनशील हैं. उनकी आशंका जायज़ है. हमें उनको आश्वस्त करना होगा कि भारत में उनकी स्वायत्तता बरकरार रहेगी भारत में उनकी सभ्यता, संस्कृति, परंपरा और स्वायत्तता को कोई खतरा नहीं है.

के द्वारा:

आपकी बात से संपूर्ण सहमत हुं कि ज़्यादा तर कश्मीर का आवाम एक अलग राज्य या पाकिस्तान में विलय नही चाहता.लेकिन उसका जो शोषण हो रहा है उसका किसी को नहीं पता. मैं कश्मीरीलोगों से जिन से आज तक मिली हुं सभी कहते हैं तुम इंन्डीयन हम कश्मीरीलोगों से बहतर नहिं हो। मैं पूछती हुं कि क्या तुम कोई और मुल्क के हो? तभी वो कहते हैं हम आज़ादकश्मीर के हैं। कभी कभी बहोत गुस्सा आता है उन पर कि वो अपने आप को भारतीय क्यों कहलवाना नहिं चाहते? आज आपकी पोस्ट में उसका जवाब मुझे मिल गया है। मैं भी यही प्रार्थना करती हुं कि"हम एक बार फिर कश्मीर की फिजाओं में रुमानी हवा और शांति का अहसास करना चाहते हैं ताकि जब हम अगली बार कश्मीर जाएं तो बड़े हमें सुरक्षा का ध्यान रखने को न कहें.

के द्वारा:

के द्वारा:

के द्वारा:

वामपंथ के अनुयायी एक ऐसे कोट को ओढे हुए है जो उन्‍होने सिलाया तो था शीत ऋतु के लिये लेकिन जून की दोपहरी मे भी उसे ओढे जा रहे है। वामपंथ उस समय वजूद मे आया था जब पूजी उद्धोग के प्रसार का आधार थी। आज पूजी के साथ साथ ज्ञान आधारित उद्धोग प्रचलित हैं। रही बात पूजीपतियो के शोषण की तो मजदूर क्‍या चहते हैं वे अपने श्रम की कीमत चाहते है पूजीपति अपने पूजी की कीमत चाहता है। हम उससे यह अपेक्षा क्‍यों करते है कि वह पूजी लगाकर लोक कल्‍याण करेगा। उसे भी अपनी पूजी की कीमत चाहिए। सरकारी तंत्र एक असफल प्रयोग रहा है उसें अब पनपाना सम्‍भव नही है। आप वामपंथ को समय काल परिथिति के अनुसार अपने दृष्टिकोण मे परिवर्तन लाना होगा। समय बदल रहा है बरसात मे चमडे का जूता सड जायेगा। कृपया वरसात मे वरसाती जूता पहने नही तो नंगे पांव घूमना पडेगा। कई राज्‍य आपको नकार चुके है। इससे पहले कि आप संग्रहालय की वस्‍तु बन जायें अपने मे परिवर्त लायें। आपसे राजनीतिक पाटियों बहुत कुछ सीख रही हैं।

के द्वारा:

सर आपने जो तथ्‍य प्रस्‍तुत किये है वै आंशिक तौर पर सही हैं। जातीय गणना के लिये जो नेता बवाल मचा रहे है। जातीय गणना उनके लिये भष्‍मासुर सिद्ध होगी। अभी तक जातीय राजनीति मे अन्‍य पिछडा वर्ग की राजनीति मे केवल एक वर्ग का राज है अन्‍य वर्ग केवल आनुमान के आधार पर आकलन लगा रहे है। जब जातीय गणना हो जायेंगी और यह मालूम हो जायेगा कि अमुक चुनाव क्षेत्र मे कितने कुर्मी कितने राजभर कितने नाई कितने कहार कितने धरिकार कितने हैं तो वे लोग भी अपना हक मागेगें ऐसी स्थिति मे केवल यादवों का जो राजनैतिक अधिकार आज व्‍याप्‍त है वह समाप्‍त हो जायेगा। यह गणना यादव राजनीति के पराभव की शुरूआत होगी। लोग अनायास इस पर हाय तौबा मचा रहे है। रही बात जातीय भेदभाव समाप्‍त होने का तो यह समाप्‍त हो रहा है और इसके लिये किसी नेता के प्रयास की जरूरत नही है। समाज अपने आप बदल रहा है। आज कोई किसी की जाति पूछकर होटल पर पानी नही पीता। जो लोग अपना लोटा और वर्तन लेकर जाते थे उनका समय खत्‍म हो चुका है उत्‍तर प्रदेश मे दलित राजनीति ने सबको दलितो के पैरों मे गिरने को मजबूर कर दिया है रही सही कसर सफाई कर्मी की तैनाती ने पूरा कर दिया। आज दलित निर्देश दे रहा है और सर्वण शौचालय साफ कर रहा है। जातीय वर्जनायें टूट चुकी है इन्‍हे जीवित करने का प्रयार राख को फूस बनाने का प्रयास है। कोई कदम अब समाज को पीछे नही ले जा सकता है। समाज आगे बढ रहा है आगे बढता जायेगा। जरूरत है हमे आपको लोगों को जागरूक करने का तो वह कार्य मीडिया बाखूबी कर रहा है।

के द्वारा:

मनोज जी आज किसी नेता को गलत कहने से पहले हमे इस बात पर जरुर गौर करना चाहिए की उसे नेता बनाया किसने, हमने, आपने हमारे ही देश की जनता ने आज जब हम वोट देने जाते हैं हैं तो उम्मीदवार को न देखकर सिर्फ पार्टी के नाम पे ही वोट डालते हैं आज देश का हर तीसरा आदमी किसी न किसी पार्टी का कार्यकर्ता है चुनाव के समय जब नोट बाटें जाते हैं तो शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जो इन पैसों को लेने से मना करता होगा आज हम खुद अपने किसी दोस्त या रिश्तेदार को एक छोटे से चुनाव में जितने के लिए सारे गलत तरीके अपनाते हैं और हम खुद ही नेताओं को गाली देते हैं ये बात सिर्फ आपकी या मेरे नहीं है देश का हर व्यक्ति आज यही कर रह है राजनीती को भ्रष्टाचार का अड्डा बनाने में हमार बहुत बड़ा योगदान है हम अपना काम निकलवाने के लिए नेता का सहारा लेते हैं , हम आज नौकरी के नाम पे लाखों रूपये देने को तैयार रहते हैं आज भ्रष्टाचार देश की जड़ों में इस कदर फ़ैल चूका है की इसे मिटा पाना बहुत मुश्किल है इसे मिटने का सिर्फ एक रास्ता है "हम बदलेंगे युग बदलेगा " और मुझे नहीं लगता आज कोई ऐसा कर सकता है

के द्वारा:

प्रिय मनोज जी आपने राजनी‍ति के बारे मे जो विचार व्‍यक्‍त किये वे समसामयिक है। आज हर व्‍यक्ति राजनीति मे सुधार चाहता है लेकिन सुधार कौन करेगा यही तो विचारणीय विन्‍दु है। यदि आप किसी वाप से पूछेगे कि आप अपने बेटे को क्‍या बनाना चाहते है तो हर कोई उसे सरकारी मुलाजिम बनाने की बात करेगा। कोई अपने बेटे को आई ए एस कोई डाक्‍टर कोई इन्‍जीनियर बनाना चाहेगा; लेकिन कोई अपने बेटे को राजनैतिक नेता; धार्मिक नेता या समाज सेवी बनाना नही चाहता है। जब सभी लोग राजनीति को अछूत समझेगें तो राजनीति मे सुधार कौन करेगा। राजनीति मे सुधार के लिये किसी दूसरे उपग्रह से तो कोई मानव नही आयेगा; राजनीति मे भी हम और आपको ही हस्‍तक्षेप करना होगा।

के द्वारा:

प्रिय मनोज जी एक तरफ तो आप युवाओ को राजनीती से दूर रखने की बात कर रहे है ,वही दूसरी तरफ आज के राजनीतिज्ञों और राजनैतिक व्यवस्था को भ्रष्ट करार दे रहे है तो फिर इस समस्या का तो कोए समाधान ही नहीं निकल सकता आखिर किसी को तो आगे आना ही होगा वैसे भी ये नेता हमारे बीच से ही तो निकलते है अतः ऐसे लोगो को चुनने की जिम्मेदार जनता ही तो है इसलिए अगर आप अमेरिका के व्यवस्था से तुलना कर रहे है तो यहाँ की जनता में भी वैसी ही मानसिकता और समझ होने की आपेछा रखिए जनता में प्रचुर जागरूकता होनी चाहिए , जो राजनैतिक कटाव से तो शायद नहीं आ सकती। हर व्यक्ति अपने कम किसी भी तरीके से अपना काम निकलवाना चाहता है और ये उनपर किये गए चुनावी खर्च ही होते है जो एक सही नेता को भी अपनी लागत निकलने की निति पर चलने को विवश कर देता है और फिर वह धीरे धीरे भ्रष्ट बनता जाता है और बची खुची कसर हमारे कुछ दूषित नौकरशाह पूरी कर देते है अतः हमें हर स्तर से सोचना और सुधर करना पड़ेगा जिसमे युवाशक्ति अनिवार्य है ।

के द्वारा:

मैं आज की भ्रष्ट राजनीति को मात्र भ्रष्टाचार, गंदगी और अनुशासनहीनता की जगह मानत हू. जो राजनेता संसद में लडते हो, सभा में गाली देते हो और अश्लीलता के सारी हदें खुद ही लांघते हो उन्हें क्या कहेंगे. आज की राजनीतिइ के मेरी राय में तो यूवाओं को दूर ही रहना चाहिए वरना वह भी दूसःइअत हो जाएंगे. आज के नेता इतने भ्रष्ट है कि उन्हें देश की कोई चिंता नही कितने दंतेवाडा हो चुके, 26/11 भी हुआ, महंगाई सिर के पार चली गई, विमान हाअदसे हुए, पर मजाल की किसी नेता ने आगे आकर खुद अपने बल पर मदद की हर बार सरकार ने मुआवजे की घोषणा कर दी. और आप जानते है सरकारी घोषणाओं की हकीकत आज तक उपहार सिनेमा कांड के पीडितों का मुआवजा आज तक नही मिला. राजनीति में प्रधानमंत्री और राष्ट्र पति सब्से ऊपर होते है लेकिन भारत में अगर कोई सब्से दब्बु है तो यह मनमोहन सिंह  . इनको सिर्फ दुख व्यक्त करने आता है माना कि वह शा6त स्वभाव के है लेकिन क्या द6तेवाडा और 26/11 जैसे काण्डों पर आप शांत कैसे रह सकते है. राजनीति की बात हो और मायावती, लालू, मुलायम की बात न हो, हो ही नही सकता. भारतीय राजनीति में अगर भ्रष्टाचार का पुरुस्कार मिले तो यकीनन वहां भी इनमें से ही कोई जीतेगा.

के द्वारा:

भोपाल गैस कांड वाकई में भारत के लिए बहुत बड़ी त्रासदी थी और सुप्रिमे कोर्ट का निर्णय देश और हमारे न्यापालिका के लिए भी एक त्रासदी से कम नहीं हैं...इस निर्णय को क्या कहे , इन्साफ या फिर इन्साफ का ढकोसला. लाखो लोग इस त्रासदी में मारे जाते हैं और लाखो या तो लाचार हो जाते हैं या फिर जिंदिगी नयी ढंग से शुरवात करने के लिये जदोजहद करना पढता हैं. और लगभग २० साल के बाद एक निर्णय आता हैं जो उनको या बतलाता हैं कि भइया तुम ठरह गरीब लोग तुमलोगो को इन्साफ केसे मिल सकता हैं......तुमलोगों के इन्साफ का लिए केवल बाते कि जा सकती हैं लकिन सॉरी इन्साफ नहीं किया जा सकता हैं....क्योंकि अगर आपको हम इन्साफ दे देंगे तो फिर उनको क्या देंगे जो हमे fincial हेल्प करते हैं.........आप तो सिर्फ हमे vote देते हैं लकिन वो vote न भी दें लकिन वो सब देते जिसके लिये हम यहाँ हैं.....और रही बात तो लोगो कि समझा देंगे कि दवाब था internationl / National , क़ानून वयवस्था खराब होने का डर था ....काफी कुछ हैं कहने के लिया.... कह देंगे. वो सरकार केसी जो अपने लोगो को एक न्यया भी नहीं दिलवा सकती........रही बात दवाब कि तो कभी एसा समय नहीं आयगा जब आप पर internationl दवाब न हो इसलिय ये सब बेकार कि बाते हैं कि दवाब और क़ानून वयवस्था खराब होने का डर था.

के द्वारा:

भोपाल गैस कांड वाकई में भारत के लिए बहुत बड़ी त्रासदी थी परन्तु एंडरसन को लेकर आज जो आरोप प्रत्यारोप का दौर चल रहा है और जिस तरह से राजीव गाँधी जी और अर्जुन सिंह जी का नाम उछाला जा रहा है ये सही नहीं है आज राजनीती में भावनाओं की कोई क़द्र नहीं होती मई मानता हूँ की एंडरसन को भगाने में इनका हाँथ रहा होगा परन्तु १९८४ के समय के भारत के बारे में एक बार हमे सोचकर देखना चाहिए तब शायद हमे उनका फैसला गलत ना लगे और उस समय की बात तो जाने दो आज भी बहुत सरे फैसले हमे अमेरिका के दबाव में लेने पड़ते हैं मैं आपकी भावनाओं की कद्र करता हूँ और आज मुझे भी भोपाल गैस कांड के बारे में सुनकर बहुत दुःख पहुँचता है परन्तु देश को चलाने के लिए कई बार हमे ऐसे फैसले लेने पड़ते हैं जो जनता के नजरिये से गलत होते हैं परन्तु अप्रत्यक्ष रूप से वे देश हित में होते हैं और देश के हित के साथ ही जनता का हित भी जुड़ा है और ये मेरे अपने विचार हैं शायद आप मेरे इन विचारों से सहमत न भी हों परन्तु सभी को एक बार इस बार में सोचने के जरुरत है दीपक जैन

के द्वारा:

मुझे तरस आता है हमारी संवेदनहीनता पर कि त्रासदी के 26 वर्ष तक हमारे राजनीतिक दल, नेता मानवाधिकारवादी, बुद्धिजीवी और ख़ास तौर से इलेक्ट्रानिक और प्रिंट मीडिया सभी चुप रहे. आज न्यायालय का निर्णय आने के बाद सभी अपने जौहर दिखा रहे है. क्या मीडिया को यह नहीं पता था कि एंडरसन को जान बूझकर \\\' सेफ पैसेज \\\' दिया गया. क्या यह चुप्पी अपराधिक नहीं है. मुझे आश्चर्य होता है कि इस चुप्पी का कारण क्या है. कांग्रेस वाले और सल्तनत के वफादार इसका दायित्व उस समय मध्य प्रदेश के मुख्य मंत्री अर्जुन सिंह पर डाल रहे हैं. माना एंडरसन को हवाई जहाज उपलब्ध कराने में उसके भागने का प्रबंध करने में राज्य सरकार और मुख्य मंत्री की प्रमुख भूमिका थी. उसके विरुद्ध आरोप की गंभीरता को कम किया गया. यह जानना ज़रूरी है कि यह सब किसके इशारे पर किया गया. क्या राज्य का मुख्य मंत्री अपने बल पर किसी अपराधी को देश से बाहर भगाने का निर्णय ले सकता है. इसमें दिल्ली की केन्द्रीय सरकार और तत्कालीन प्रधान मंत्री श्री राजीव गाँधी की क्या भूमिका थी यह जानना ज़रूरी है. क्या यह सब कुछ उनके आदेश पर हुआ, यह बात अविश्वसनीय है कि राज्य का मुख्य मंत्री बिना प्रधान मंत्री की इजाज़त के किसी अपराधी को देश से बाहर भगाने का निर्णय ले सकता है. प्रणब मुख़र्जी की बात हास्यास्पद लगती है कि कानून व्यवस्था को बिगड़ने से बचाने के लिए एंडरसन को भाग जाने दिया गया. राज्य सरकार अगर क़ानून व्यवस्था भी नहीं बनाए रख सकती है तो क्या करेगी. कांग्रेस इस काम में माहिर है. ओट्टावियो क्वात्त्रोची को भी भाग जाने दिया गया था. जब कभी सल्तनत के किसी व्यक्ति का नाम किसी गलत सन्दर्भ में आता है सल्तनत के वफादार और चाटुकार झपट पड़ते हैं. ज़ाहिर है अर्जुन सिंह को बहुत कुछ पता है. लेकिन उन्होंने मौनव्रत धारण कर रखा है. शायद वह चुप रहने की कीमत वसूल करने के बारे में बात चीत कर रहे होंगे. हो सकता है केन्द्रीय मंत्री मंडल में न सही तो कीई प्रदेश के गवर्नर की कुर्सी ही मिल जाय. लगता है एंडरसन को भगाने में अमेरिका का डंडा भी एक कारण हो सकता है. इसमें मध्य प्रदेश की राज्य सरकार से लेकर .दिल्ली की केन्द्रीय सरकार, सी बी आई और पुलिस व नागरिक प्रशासन सभी शामिल थे.

के द्वारा: Dr S Shankar Singh Dr S Shankar Singh

विद्वान् लेखक नें अभी हाल में प्रयोगशाला में उत्पन्न कृत्रिम जीवन संबंधी खोज पर विस्तार से प्रकाश डाला है. मेरी समझ में प्रयोगशाला में कृत्रिम तरीके से बैक्टीरिया के जीनोम का संश्लेषण किया गया है. यह संश्लेषित जीनोम स्वयं में जीवित नहीं था. लेकिन जब इसे जीवित बैक्टीरिया के सेल में स्थानांतरित किया गया तब इसमें सेल विभाजन की प्रक्रिया प्रारम्भ हो गई, जो जीवन का एक सबूत है. इसे सीधे तौर पर तो जीवन का कृत्रिम संश्लेषण नहीं कहा जा सकता क्योंकि संश्लेषित जीनोम में जीवन के कोई लक्षण नहीं थे. उसे जीवित होस्ट सेल का सहारा चाहिए था. फिर भी चाहे किसी तरह होस्ट सेल के सहारे ही प्रयोगशाला में कृत्रिम जीवन पैदा किया जा सकता है, तो निश्चय ही यह एक महान उपलब्धि है. निश्चय ही प्रयोगशाला में कृत्रिम जीवन के संश्लेषण की दिशा में यह एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण कदम है. लेखक नें कृत्रिम जीवन के निर्माण की लाभ और हानियों का विस्तार से विवेचन किया है. जैसा कि हर आविष्कार के साथ होता है इनके उपयोग और दुरूपयोग होते हैं, इसके साथ भी हैं. जहां मानव की आवश्यकताओं के अनुसार कृत्रिम रूप से जीवन का निर्माण किया जा सकता है, वहीं इस बात का खतरा है कि आतंकवादियों के हाथों में या युद्ध के समय यह महाविनाश का अस्त्र भी बन सकता है. हो सकता है चाहे अनचाहे किसी ऐसे बैक्टीरिया का निर्माण हो जाए, जिससे बचाव का हमारे पास कोई साधन उपलब्ध न हो. लेकिन मेरे विचार में लगता है कि कृत्रिम जीवन के निर्माण में ' दिल्ली अभी बहुत दूर है '.

के द्वारा:

यह बात विज्ञान सम्मत है कि मौलिक विचार अपनी मातृभाषा में ही प्रकट होते हैं, किसी आयातित भाषा में नहीं. शिक्षा का माध्यम भी मातृभाषा में होने से जल्दी समझ में आता है. हिन्दी सभी भारतीय भाषाओं के सबसे करीब है. इंग्लिश नहीं. इसके अतिरिक्त इंग्लिश जानने वाले सारे के सारे प्रतिभावान नहीं होते हैं. इंग्लिश जानने वाले ' स्नाब ' ज़रूर होते हैं. प्रतिभा किसी भाषा की कायल नहीं है. गाँव में रहने वाले, हिन्दी या अन्य भारतीय भाषाओं के माध्यम से पढ़ने वाले इंग्लिश माध्यम वालों से ज्यादा प्रतिभावान हो सकते हैं. हमारी भारतीय भाषाएँ बंगाली, तमिल, तेलुगु, मलयालम, कन्नड़ इत्यादि ज्यादा समृद्ध हैं. देश का कल्याण तभी होगा जब गाँव का या साधारण गरीब का बेटा IIT, MBBS, IAS, IPS, MBA में आएगा. मैं इंग्लिश का विरोधी नहीं हूँ. हमें तकनीकी और मेडिकल की शिक्षा के लिए और अंतरराष्ट्रीय सम्बन्ध विकसित करने लिए इंग्लिश का भरपूर उपयोग करना चाहिए. ज्ञान जहां भी जिस भाषा में हो प्राप्त करना चाहिए.

के द्वारा: Dr S Shankar Singh Dr S Shankar Singh

के द्वारा:

बहुत ही अच्छी खबर है.....वैसे हिंदी माध्यम के छात्र किसी भी मामले में अंग्रेजी माध्यम के छात्रों से पीछे नहीं होते है, बस ये है कि ज्यादातर छोटी जगह में रहने के कारण उन्हें सही मार्गदर्शन नहीं मिलता है........अगर उन्हें भी सहीं समय पर सही जानकारी मिल जाएँ तो उच्च तकनीकी संस्थाओं में हिंदी माध्यम के छात्रों का बोलबाला होगा.... पर साथ ही मै ये भी कहना चाहूंगी कि आज के कंप्यूटर के इस आधुनिक युग में हम अंग्रेजी कि महत्ता को भी नहीं नकार सकते.... उच्च शिक्षा तथा एक अच्छी नौकरी के लिए आपको हिंदी के साथ -साथ अंग्रेजी का भी अच्छा ज्ञान होना आवश्यक है........इसलिए हिंदी माध्यम के विद्यालयों में हमें अंग्रेजी के स्तर को सुधारना होगा.....

के द्वारा: aditi kailash aditi kailash

ममता की ये जो जीत हुए है इस से यह अर्थ निकलन की वाम पंथ विफल हो गया है या फिर बंगाल के लिए एक नए युग का प्राम्भ है बेमानी बाते है. काव्म सरकार ने बंगाल को इन्दुस्ट्री के मामले में ५० साल पीछे कर दिया , जाते जाते उन्होंने ने टाटा नेनो के रूप में बदलाव की एक कोशिश की थी जो की ममता ने विफल कर दी . सरे देश में जहा चोतार्फा प्रगति हुई है वही बंगाल इतना पीछे छुट गया हहै की म\ये ममता के बस की बात नहीं है आयर वैसे भी ममता कोई प्रतिवादी नेता नहीं है एक प्रतिक्रियावादी है जिस से कोई जायदा उम्मीद नहीं की जा सकती. चुनाव जितना एक बात है और प्रग्रती कर आदमे की लिए कम करना दूसरी बात. ममता से अगर कोई उम्मीद कर्ट है की वोह हालत सुधर देगी तो ये wishful thinking से ज्यादा और कुछ भी नहीं ! मायावती भी सोसिअल इंजीनियरिंग की बाते लेकर आये थी अब कौन परवर्तन उसने उत्तेर प्रदेश में कर दिया .

के द्वारा: hsunil hsunil

WANTED: BY THE THANE COPS ABSCONDING Criminal Rajarshi Dwivedi. To view the latest photographs of This Criminal Rajarshi Dwivedi please go to sulekha blogs and crimecontrol999.sulekha.com. Rajarshi Dwivedi’s Recent and Latest Photograph when he was arrested in Feb 2006 by the Thane Police from his house 22 New Kherapati Colony, Gwalior. Respected Editor of Dainik Jagran Gwalior, Madhya Pradesh. Sir I send this letter to you with all the details of this Accused Criminal Rajarshi Dwivedi to Arrest him immediately and I humbly pray to you to inform the Thane Police a city near Bombay immediately on the following numbers given below. 1. Rajarshi Dwivedi is a proclaimed History Sheeter in this country and in the city of Gwalior. Rajarshi Dwivedi is a proclaimed Criminal who is Absconding and is wanted by the Thane Police. 2. Rajarshi Dwivedi’s House address: 22, New Kherapati Colony, Ravi Nagar, Padav Area, Gwalior. 3. Anybody who comes across this man or sees this man Rajarshi Dwivedi’s photograph contact the following helpline Nos. Thane Kapurbawdi Police Station No. :- 022-25340098, Thane Crime Branch Control Room Phone No. 022-25442828 immediately. 4. Name: Original Name of this man is Rajarshi Dwivedi but calls himself with different false names also. They are as follows: Dr. Rajarshi Dwivedi, alias Dr. R. Dwivedi, alias Dr. Rajesh Dwivedi, alias Dr. Vishnuputra Dwivedi, alias, Dr. Amit Gupta alias Dr. Rajandra Dwivedi and many more false names. 5. Rajarshi Dwivedi’s height is 5ft 6 inches to 5ft 9 inches. Rajarshi Dwivedi’s complexion is wheatish. Rajarshi Dwivedi’s health is average and is of medium built. Rajarshi Dwivedi’s real age is 59 to 63 years but Rajarshi Dwivedi tells everybody that he is between 50 years of age. (That is what he writes about his age on the marriage portals.) 6. Places where Rajarshi Dwivedi can be seen and spotted Gwalior, Bhopal, Indore, Delhi, Noida and Muzaffarnagar. 7. Rajarshi Dwivedi is a wanted criminal, a wanted culprit in many Cases of Cheating, Conning, Swindling, Forging and Impersonating (presenting himself as a false, fake, fraud foreign returned doctor) which is absolutely false. A magazine or a news paper called SATYA KATHA published an article “Ek Thuug Aisa Bhi” written by K. C. Patayaria in the year March 1992 the Article was written from Police Files. I have written the month year and the name of the Author for your kind reference so that it will be easy for you to search out this Article from Police Files. The Accused Rajarshi Dwivedi’s Photo is also printed on the very first page of the Article. From the year 1981 onwards the Accused Rajarshi Dwivedi has been committing Crimes in Gwalior and his name is in the records of the Gwalior Police. He was practicing in Gwalior in many places as fake Doctor with all fake degrees. The Accused Rajarshi Dwivedi was Arrested on 26th May 1991. Gwalior Ex-Police Officer A. K. Gaud got the news that the Accused travels from Gwalior to Delhi Gwalior to Indore, Gwalior to Bhopal, Gwalior to Muzffarnagar and Gwalior to Noida to and fro at the dead of night in a prefixed vehicle and also travels back home at night in the same pre-fixed vehicle. The ex-police officer kept a watch on the Accused Rajarshi Dwivedi and as the Accused Rajarshi Dwivedi sat in the auto rickshaw A. K. Gaud Arrested him and took him to Gwalior Padaw Police Station. On searching his bag Officer A. K. Gaud found Fake false counterfeit seals and letterheads of various Government institutions, Government hospitals, Government organizations private hospitals. Fake false counterfeit seals as a Doctor in his own name. Fake Counterfeit seal of the Madhya Pradesh High Court Gwalior Bench. 8. Rajarshi Dwivedi’s Profile is on all the Marriage Portals stating that he is a doctor of Neurology. He has authored 2 to 3 books on Neurology and has 350 medical research papers to his credit (all lies nothing but lies) 9. Rajarshi Dwivedi States the names of different countries around the Globe such as USA, UK, Australia and so forth. He mentions the names of the cities in these countries and says that he is a permanent citizen of these countries drawing a handsome salary of 200,000 dollars and above. (Lies nothing but lies.) . 10. Rajarshi Dwivedi uploads fake false photographs of young handsome looking boys in the age of 30 to 35 years because Rajarshi Dwivedi is very ugly in looking. He looks like a pig but now Rajarshi Dwivedi has found new method of uploading his fake false photographs. He uploads fake, false photographs, locks/hides the photographs with a password. And continues with his devilish and Satanic modus Operandi to cheat, Con, Swindle huge amount of money from dignified ladies who belong to Good cultured homes by impersonating. (Presenting himself as a foreign returned doctor). Rajarshi Dwivedi has cheated once such lady of Rupees 10 Lakhs in January 2004 11. For the Last 35 years Rajarshi Dwivedi’s main occupation is criminal activities (Crime). He was arrested twice. But the bails have proved a boon to Rajarshi Dwivedi to carry on his criminal activities. He is a Habitual Criminal and a Habitual offender. 12. Rajarshi Dwivedi’s fathers name is Radhakrishna Dwivedi who is dead. Rajarshi Dwivedi’s wife’s name is Sudha Dwivedi. (She is alive and lives with him in Gwalior, Madhya Pradesh). 13. Rajarshi Dwivedi has grown up sons and daughters. Rajarshi Dwivedi’s daughter’s name is Priyanka Dwivedi working in a Call Center in Noida, Uttar Pradesh. She could be living either in Sec. 22 or Sec. 35, in NOIDA. Rajarshi Dwivedi is a frequent visitor to this place. 14. One sister of Rajarshi Dwivedi whose name is Jayshree Dinesh Dwivedi (Sharma) lives in Gwalior in the same house where Rajarshi Dwivedi lives. She calls herself an Eye doctor in the Radhakrishna Hospital, 33/A, Krishna Nagar, Gole ka Mandir, Morar Gwalior. Jayshree Dwivedi and Rajarshi Dwivedi has rented out the Radhakrishna Hospital to four or five other doctors who are practicing at the Radhakrishna Hospital. Jayshree Dwivedi and Rajarshi Dwivedi are earning huge profits from the Radhakrishna Hospital. (The Radhakrishna Hospital has been constructed by the huge amount of money stolen and looted from one of the ladies). Jayshree Dinesh Dwivedi (sharma) is conspirator, partner and an Accomplice is involved in all the criminal activities of Rajarshi Dwivedi. 15. Jayshree Dinesh Dwivedi Sharma's husband (Dr. Dinesh Chandra Sharma.) who resides at Muzaffarnagar has a Nursing Home at Muzaffarnagar with the following address: Basanti Nursing Home, G. T. Road, Near Ghanta Ghar, Khatauli, District- Muzaffarnagar, Pin-251201. 16. Rajarshi Dwivedi’s another sister whose name is Shree Dwivedi (Khaddar) lives in Indore. Her husband is Vijay Kumar Khaddar the entire family is a notorious family. Anybody or any Citizen or any Police station or any Police man who comes across this man who is a Criminal and a Culprit and sees the photograph of Rajarshi Dwivedi can arrest Rajarshi Dwivedi immediately and Contact the following helpline 022-25340098, 022-25442828 immediately. Rajarshi Dwivedi is a Wild Beast a Wild Animal in the Society. We publish this article on Rajarshi Dwivedi's serious Crimes along with his photographs to warn people especiallly ladies and women and young girls. Anybody or anyone who comes across this notorious criminal inform immediately to the given telephone nos. mentioned above and STOP CRIME and SEND THIS NOTORIOUS CRIMINAL RAJARSHI DWIVEDI BEHIND THE BARS. THE PRISON IS HIS PLACE. Jayshree Dinesh Dwivedi Sharma is a Consipirator and an Accomplice in all the Crimes of her brother Rajarshi Dwivedi. Jayshree Dinesh Dwivedi Sharma's husband lives in Muzaffarnagar in Uttar Pradesh. Jayshree Dinesh Dwivedi Sharma does not live with her husband but she is not divorced either. Jayshree Dinesh Dwivedi Sharma is harbouring and sheltering her Criminal brother Rajarshi Dwivedi. Criminals like Rajarshi Dwivedi and his sister Jayshree Dinesh Dwivedi Sharma are like Poisonous Snakes and Parasites in the society. They deserve no mercy. If they are allowed to roam freely in the society the innocent women are never safe even in their houses. I request, plead and pray to all the citizens of this Nation to help us to put a FULL STOP to all his Criminal Activities which he his still carrying on and will carry on unless he is put behind the Locked Prison BARs. Dear Citizens Help us in the Endeavour to Arrest This Absconding Criminal the Devil and the satan Rajarshi Dwivedi. A victim suffering miserably for the last seven years. After being cheated a huge amount of rupees 10 lakhs

के द्वारा:

के द्वारा:

आपने बहुत मह्त्वापुर्द प्रश्न उठाया है हमारे यहाँ के सभी महान नेता जाति प्रथा के खिलाफ थे डॉ. भीमराव अम्बेडकर तो इसी जातिवाद के चलते हिन्दू धर्म का परित्याग तक किये थे और अज देश का इससे बड़ा दुर्भाग्य क्या होगा की डॉ. लोहिया और जय प्रकाश नारायेंन के नाम पैर राजनीत करने वाले मुलयम ,लालू और शरद यादव को जातिवादी राजनीत करते देख ker sharm aati है.Sonia Gandhi और Manmohan की jodi gair rajneetic dhang se sochati है और दूरदर्शिता का भी abhaw है और कांग्रेस सरकार दबाव me भी है नाक्सस्ल्वाद,मूल्य वृद्धि ,आइपिल.डी.raja का bhrastachar etyadi की wajah se virodhi dalo का virodh करने की स्थिति में nahi है tatha sarkar और sahayogiyo में भी एकमत नहीं है .अपने बिलकुल ठीक likha है isaka duragami prabhaw padega jo देश के लिए atyant durbhagyashali होगा अभी भी समय है सर्कार को चाहिए की लोकसभा का विशेष सत्र बुला ker khuli bahas kara ker hikoi nirday le.

के द्वारा: omprakashshukla omprakashshukla

जागरण ने दो टूक बिलकुल सही बात कही है, मैं स्वयं संयम एवं अहिंसा का कट्टर पक्षधर हूँ लेकिन यहाँ पर मेरे विचार पता नहीं क्यों अपने आदर्श महात्मा गांधीजी से बिलकुल विपरीत दिशा में चले जाते हैं. कोई भी हमारे देश के जवानों को, निरीह जनता को यदि राजनैतिक या सामरिक इच्छापूर्ति के लिए क़त्ल करता है तो हम चुप बैठ कर अपनी नपुंसकता दिखा रहे हैं, इस मुद्दे पर कोई बहस या किसी प्रकार का मानवादिकारवादी विचार ही बेमानी हो जाता है. जीवों पर दया करना जायज़ है लेकिन जब कुत्ता पागल हो जाये तो उसे गोली मारना भी उसके ऊपर रहम करना ही है. हमारे जवान किसी भी नक्सली प्रभाव को मसलने में सक्षम हैं लेकिन नपुंसक नेता और शिखंडी सरकार मानो अभी भी बेगुनाहों कि बलि पर राजनीति के कोठे पर रक्स करना चाहती है, राजनैतिक प्रतिबधता मानो इन दलालों के दिलो-दिमाग में ही दम तोड़ चुकी है, मेरे इन असम्मान जनक शब्दों को मेरी मातृभूमि क्षमा करे.

के द्वारा:

बलबीर जी अपने बहुत बढ़िया लेख लिख है इसीलिए ये तथाकथित धर्म्निर्पेच जमात आपको गली देती है क्योकि आपकी बात का उनलोगों के पास कोई कजब नहीं होता हमारी सर्कार तो मुसलमानों के तुस्तिकरद की चैम्पियन है मनमोहन जी चाहे जनता का सामना करने की हिम्मत कभी na juta lekin मुसलमानों का पहला haq hone की ghosda karne me sabse age है ajamgadh ko is desh का media bhale hi atank की nursari kahe lekin sattarudh party के mahasachiv अपने uvraj के swagat katane का mahuol banane farar atanki के darwaje per hajri lagane pahuch jate है...aur hamare grihmantri un atankvas\dio के ghar walo se jarur milate है.kaha jata है की सभी musalman atankvadi नहीं है लेकिन आतंकवादी सभी मुसल्मंजरुर है.ये राथाकथित सेकुलर हुसेन के लिए अपने माँ का नंगा rup dekh ker bhi usake लिए sabako dosh dete rahe aur wahi husain inake muh per thuk ker ek muslim desh katar की nagrikata le leta है aur ये सभी basharmi se usake thuke jane ko bhi nyayaochit thaharane me lage huye है.

के द्वारा: omprakashshukla omprakashshukla

के द्वारा:

कम्‍यूनिस्‍ट शुरू से ही चीजों को अपने हिसाब से परिभाषित करते रहे हैं। वे चीजों को अपने फायदे के हिसाब से परिभाषित करते रहे हैं। इस क्रम में उन्‍होंने अपने आदि देवता मार्क्‍स के विचारों तक बदल दिया। मार्क्‍स ने सर्वहारा वर्ग के क्रान्ति की बात की थी। उन्‍होंने कहा था कि दुनिया भर के मजदूर पूजीपतियों के शोषण से एक दिन इतना उब जायेंगे कि वे एक साथ क्रांति कर देंगे। सत्‍ता उनके हाथ में आ जायेगी। सर्वहारा वर्ग का अधिनायकत्‍व स्‍थापित होगा। वह पूजी का समान वितरण करेगा। जिसके बाद साम्‍यावादी व्‍यवस्‍था स्‍थापित होगी। मार्क्‍स के इस सिदधांत के बडे ध्‍वज वाहक लेनिन ने अपने फायदे के लिये मार्क के इस सिदधांत को सिर के बल खडा कर दिया, कहा सर्वहारा वर्ग नहीं बल्कि सर्वहारा पार्टी का अधिनायकत्‍व स्‍थापित होगा। बाद में स्‍टालिन महोदय ने इस सिदांधत को अपने हिसाब से परिभाषित करते हुये कहा कि न तो सर्वहारा वर्ग और न ही सर्वहारा पार्टी बल्कि सर्वहारा व्‍यक्ति का अधिनायकत्‍व स्‍थापित होगा। यह परिभाषा देने के बाद स्‍टालिन महोदय एक तरह से रूस के तानाशाह बन गये। साम्‍यवाद के मात्रि देश सोवियत रूस में उसका जनाजा उठ जाने के बाद भी खुद को सबसे बडा बुदिध्‍जीवी और अपने विचारों को अंतिम सच मानने वाले भारतीय साम्‍यवादी नक्‍सल और माओवाद जैसी असभ्‍य धारणाओं के साथ खडे हाकर साम्‍यवाद की लाश में जान फूकने की तंत्र साधना करते नजर आ रहे हैं। वे बुदिधजीवी जो लोगों की हत्‍याओं को भी सही करार देने से पीछे नहीं हट रहे।

के द्वारा:

देश एक बहुत बड़ी धर्मशाला बन गया है और जिनको हमने इसके प्रबंध का जिम्मा सोंपा है वो ही सारे कुकर्म कर रहे हैं,उन्हें सिर्फ अपनी और अपनों की चिंता है सारे देश की नहीं,अपने स्वार्थों की पूर्ति के लिए वो कुछ भी कर सकते हैं,भले ही इससे देश टूटता है तो उनकी बला से,हमने बौनों को बड़ा काम सोंप रखा है,हम भी बेपरवाह हैं,अब तो देश की जनता जो की इस देश की मालिक है उसे सारे जाति,धर्म,भाषा,क्षेत्र आदि के भेद भूलकर उठ खड़ा होना होगा और निर्णयों मैं सीधी भागीदारी रखनी होगी,एक और स्वतंत्रता संग्राम की जरूरत है इन भारतियों के भेष में "फूट डालो और राज करो" की अंग्रेजों की नीति को हो आगे बढ़ने वाले देश-द्रोहियों से, जब हमारा उद्देश्य सभी खासकर पीछे रह गए सभी लोगों का विकास है तो उसमें जाति कहाँ से आ गयी?आये तो आर्थिक स्थिति आये,शैक्षणिक स्थिति आये,सरकार कमजोर,गिद्ध तैयार कब देश मरे और उनको भोजन मिले, मालिक से ज्यादा होशियार मुनीम मालिक को ही खाता है,वोही हो रहा है,मालिक {जनता } बेपरवाह और मुनीम {नेता} दुष्ट,

के द्वारा:

Vikram Singh ji ko mai baraber padhata hu lekin is lekh me virodhabhaso ki bharamar hai ,jaise ap ka kahana hai ki bharat arthic mahashakti ban raha hai lekin manaw vikas suchank per hum kaha hai Pakistan,Ravanda aur bagla desh se bhi gaegujre hai.Pure desh ke adhe kuposhit hamare yaha hai.Arjun Sen Gupta Samiti ka kahana haiki 77 karod log 20 rupaya roj per jiwan yapan ker rahe hai.37%log garibi rekha ke neeche kisi tarah jinda hai,ek tihai se adhik bache pada hone ke ek sal ke bhitar mer jate hai.shayad Ambanio,Bildao ke pragati ko desh ki pragati man rahe hai.Ap bhi wahi itihas ke samapt hone ki bat man rahe hai,lekin isi mandi ne pujiwad ko bhi man na ko vivas ker diya hai ki itihas kabhi khatam nahi hota.jis tarah kuch logo ke pas puji ka sangrah ho raha hai tatha kodh me khaj ki tarah vilasita ka bhoda ashleel pradarshan ho raha hai uska natija vahi hoga jo Carl Marks ne vagyanic vishleshad se bataya hai natija vaisa hi kuch hoga nam chahe jo rakhle Mao,Lenin.logo ke santpshki ek seems hoti hai.Akhir isi vikas ki bhet lakho kisan tatha hast shilpy atmhatya ker rahe hai.ye sab bahut din chalne wala nahi.ye to swabhawik prakriya hai.agar puji ka uchit batawara nahi hota to kya sochjate hai janta yu hi muk darshak ban ker tamasha dekhati rahegi,aisa ab hone wala nahi.adivasio ne apne huq ke liye bigul baja diya hai aur dekhiye aj unaki samsya prathamik agende per agaya hai.Ab janta samajhadar ho gayi hai Singur,Lalgadh aur ab dantewada,se le ker tamam jagah sarkar ke najayaj kamo ka khul ker virodh hi nahi vidroh ker rahe hai,abhi samay hai sirf pujipatio ki dalali band ker sarkar ko garibo, banchito ke taraf dhyan dena chahiye.

के द्वारा: omprakashshukla omprakashshukla

आतंकवाद और नक्कसलवाद से जूझ रहे भारत के लिए चीन का साईबर वार भारतीय अर्थव्यवस्था और आत्मरक्षा के लिए निहायत ही एक अति चिंता का विषय है इस आलेख ने मुझको बुरी तरह से झकझोर कर रख दिया है क्योकि बीते दिनों पाकिस्तान में विदेश सचिव स्तर की अधिकारी माधुरी गुप्ता की दिल्ली में हुई गिफ्तारी ने तो अब हमलोगों को बहुत ही हताशा की दशा में ला छोड़ा है।इसके अलावा पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी के लिए जासूसी के आरोप में गृहमंत्राल्राय के कुछ अन्य अधिकारियों का भी गिरफ्तार होना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है। जब उच्चपदों पर आसीन भारतीय नागरिक पाकिस्तान के लिए चंद पैसों में राष्ट्रीयता को बेच रहे है, तो चीन की बात...पर कुछ भी नहीं कहा जा सकता है। वास्तव में ऐसा लग रहा है कि देश में सभी लोग व्यापारी है, नागरिक कोई नहीं। जो अपने लाभ के लिए कुछ भी कर सकता है। आलेख के लिए चिंतक को साधुवाद। ऐसे विचारों से राष्ट्रभक्त लोग अब और भी ज्यादा सक्रिय होंगे।  

के द्वारा:

हमारे देश में भ्रष्टाचार बहुत पुरानी और बड़ी बीमारी है. अब यह कैंसर का रूप धारण कर चुकी है. उम्र में वरिष्ठ होने के कारण मुझे कुछ पुराने भ्रष्टाचार के मामले याद आते हैं. जब मैं छोटा था स्कूल में पढ़ता था तब नेहरु जी प्रधानमंत्री होते थे. उन दिनों टी प्रकासम, कृष्ण मेनन का जीप स्कैंडल, टी टी कृष्णामचारी का मूंधड़ा काण्ड, रवि शंकर शुक्ल, प्रताप सिंह कैरों, बख्शी गुलाम मोहम्मद, केशव देव मालवीय का सिराजुद्दीन काण्ड इत्यादि अनगिनत काण्ड चर्चा में रहते थे. आधुनिक समय में बोफोर्स, हर्षद मेहता काण्ड और अब आई पी एल अब लोगों का ध्यान आकर्षित कर रहे हैं. तब से अब तक क्या स्थिति में कोई परिवर्तन आया. लेशमात्र भी नहीं. इसको रोकने का कभी कोई प्रयत्न भी नहीं हुआ क्योंकि हमारी राजनीतिक व्यवस्था इस भ्रष्टाचार से पोषण ग्रहण करती है. बल्कि बीमारी द्रौपदी की साड़ी की तरह और बढ़ती ही गई है. मर्ज़ बढ़ता ही गया ज्यों ज्यों दवा की. आचार्य विनोबा भावे जी को कहना पड़ा था की " भष्टाचार शिष्टाचार बन गया है ". इसको रोकने के लिए एक मेजर सर्जरी की आवश्यकता है. मेरे विचार से भ्रष्ट तरीकों से कमाया हुआ धन और संपत्ति जिसका हिसाब किताब न दिया जा सके, ज़ब्त कर लेना चाहिए और भ्रष्टाचारियों के लिए क़ानून में आजन्म कारावास का प्रावधान होना चाहिए.

के द्वारा:

के द्वारा:

tarud vajai ji apka lekh apke pratibadhtao ke anukul hi hai.Jab aplog Gujrat ke narsanghar ko nyayochit thahra sakte hai to naxsalvadio ke bare me apse kya apekcha ki ja sakti hai.Is desh me loktantra hai,yaha fasivadisoch ke liye koi jagah nahi honi chahiye Kya tarud ji kepas dr. Sen ki giraftari per sarvoch nyayalaya ki fatkar ke bad surajcha balo ke nam per ki ja rahi jyatatio ke bare mwkisi tarah ke spashti keran ki jarurat nahi rah jati hai.Raman singh sarakar adivasio ke adhikar per daka dal rahi hai.Hajaro sal se apne sanskritiaur ahinsa ke sath rahane ke badale sarkaro se kya mila yahi ki Padit Jawahar LalNeharu ne sarvpratham badh ka udghatan karate samay jise vikas ka mandir bataya tha uske muavaje ka mukadama aj bhi nyayalay me vicharadhin hai.kis nyay ki bat karate hai ap do-do bar visthapit logoko na hi muavaja diya gaya aur na hi unakevisthapan ki vyavstha ki gayi..Abhi 9 feb. ko sarvocha nyayalay ke do sadsya wali peeth ne apradh aur garibi per kahaMuotki saja sunate samaya nyalay ko abhiyuct ka arthic satar bhi dekhana bahut jaruri hai,. unho ne char logo ko marne wale Guddu aur Mulla ki muot ki saja ko kewal isliye maf ker diya aur unhe umra kaid ki saja di,kyo ki unhone garibi ke karad hi banduk uthai thi.Unho kaha ki umrakaid ki saja bhi unake liye bahut adhik hai.Yadi unake pas pet bharane ke liye anaj hota to we bamduk nahi uthatr.Unhone kahaki har garib apradhi nahi banta lekin her apradhi ki prashth bhumi me garibi ka sthan hoya hai.Naxcalvad ke sabhi karado ko darkinar ker diya jai to garibi apneap me ek majboot karad samane sts hai.Pareshani tab aur vikaral rup dharas ker leti hai jab garibo ke adhikaro ke virudha pakch vipakcha hi utpidak nitio ki himayat karne wali ho.Aj y dono takate garibo ke huk per daka dalne wale gang ki tarah kam ker rahe hai.Akhir sarkar kyo nahi batati ki udygikarad aur khanij ke dohan ke liye adivasio ko darane dhamkane aur kisi kimat per unako unake nivas se khadedane ka kam kiya ja raha hai,akhir yah bat kaise mani ja sakati haikisarkar us chetra ke vikas keliyrpratibadh hai jab usi chetra se lage tamam jile vikas ki bat joh rahe hai jo Naxsalio ke nayantarad m nahi hai.Kyo nahi sarkar in chetro ko vikasit ker sarkar vikas ka modle baker adivasio ka viswas jitane ki kosis karati hai.Jab Digvijai singh kahate hai to unaki bat kyo nahi suni jati akhi we saucta Madhya pradesh ke do bar mukhya mantri rahe hai.Jab we ya koi bhi badhajivi kahata hai ki yah rajneetic aur samajic mamla hai na ki kanun vyavastha ka to isper isi kod se vichar karana chahiye.Taya,Bilada,MittalAUrVedanta Pasko etc.itane pavitra kyo ho gaye hai ki unakeliye nirih adivasio ko goliyo se bhuna ja raha hai.Litte,Afganistan,Irak desho ne lok laj ke chalte hi sahi dunia ke samane hinsa ka auchitya sidha karane ke liye media ko prabhavit chetro n\\me jane ki anumati deti thi.Hamare yaha kyo nahi adivasio ke utpidan ki khabaro ko covaer karane ke liye media ko anumati di ja rahi hai.Sawal hinsa ki taeafdari karane ka nahi hai,lekin ek bat gath badh leni chahiye ki Moivadip ki hinsa ka mukabala hinsa se nahi kiya ja sakata.Akhi sarkar ya usaki hinsa dwara adivasio per niyantrad pane kaprayaso ko kaise samarthan diya ja sakata hai jab pratyajcha dikhayi de raha hai ki Vedanta ke Board Of Director pad se sthifa DE KER AYE cHIDUMBRUM MAHODAI APNA VYACTIGAT AGENDA CHALAYE BAGAR RADNRRT KE GARIB JAWANO KO AMANVIYA PARITHITIO ME PUJIPATIO AUR VIDESHIOKE HIT ME GAJAR MULI KI TARAH MARWANE PER BADHYA KSRE,AUR HAMARE SURACHA BAL JO KHUD UNHI PARISTHITIO SE ATE HAI UNHE NUOKARI KI KEEMAT PER MARANE KE LIYE BADHYA KARE.SABHYA SAMAJ ISAKI IJAJAT NAHI DE SAKATA. OPERATION GREEN HUNT TURUNT BAND HONA CHAHIYE AUR SARKAR KO ADIVASIO KI SAMASYAO KO PRATHAMIKATA KE ADHAR PER NIVARAD HONA CHAHIYE.sAMVEVANSHEL LOGO KI YAHI RAI HAI,WAH CHAHE BUDHJIVI HO,SARVOCHA NYAYALAY HO YA SENA KE JAWAN.hAME EK BAT AUR DHYAN ME RAKHANA HOGA KI NAXSALWADI ALGAWVADI NAHI HAI UNLOGO NE KABHI ALAG DESH KI MAG NAHI KI.YAH VICHARO KI LADAYI HAI SATTA WE LOG BHI PANA CHAHATE HAI UNAKA TARIKA GALAT HO SAKATA HAI .AGAR MAOVADIO KA MUKABALA KARANA HAI TO HAME IS BAT PER SABASE PAHALE VICHAR KARANA CHAHIE KI ADIVASIO KA SAMARTHAN MAOVADIO KO HI KYO MILTA HAI AKHIR KYA VAJAH HAI KI ADIVASI SARAKAR AUR PRASHASAN PER KYO 1% BHI VISYOS NAHI KARATE HAI.IS SAMBANDH ME JITANI JYATATI KI JAYEGI UTANI HI SAMSYA ULAJHATI JAYEGI KYOKI IS OURE PRAKRAD ME SARKAR KI NEEYAT SANDIGDHA HAI.,ISI LIYE CHIDUMBERUNM JI LOKSABHA ME SAFAI DETE DIKHE KI KOI OPRATION GREEN HUNT NAHI CHALAYA JA RAHA HAI.

के द्वारा:

Sharma ji mai apke lekh ko jagaran me padha hai aur meramanana haiki is bat sekoi inkar nahi ker sakta.Apnejo prastav kiya hai wah vastav bahut upyogi hai,lekin hamare desh kadurbhgya hai is chatra ke vishagyo ki rai ko mane ki parumpara hamare yaha nahi hai yaha to sab chij ke vashegyo ka upchar sirf nuoker shahi per chod diya jata hai apnebilkul sahi likh haiki is bahasko janta ke beech le jana chahiye,lekin yah tabhi sambhaw hai jab imandari aur majboot icha shkti ho aur sabase badh ker bhukhke sath samvedanshilatake sath mil bath ker kum se kum is tarah ke mudo per am rai banai jai.lekin hamare yaha nakak ko hi apneliye adarsh man liyajata hai aur wah bhi apni suvidha ke anusar ham her mamleme amerika ki tarah ka hi madal chahte hailekin jaisa ki apne bataya khadyan niryat ke sambandh me hum apne pujipatio ka hit sadhane pahale awasyak samjhate hai.in videshi soch ke liye bhukha adami bajh hi nahi gali ki tarah hai.in nrtao ko na desh se matalab hai aur na bhukho se hai to sirf aur sirf kursi se wah inhe mil jane ki garanti ho toinlogo ko bhukho ko goli mar ker shunya bhukha ka lakchya hasil ker ke dikha de.aj jin logo ke hath me satta ki bagdor haiwe tamam samasyao jaise mulyavridhi,atankvad,naxsalvad,mandi,vikas ityadi ko bhul ker sirf chaplusi me ekdum anubhawheen aur desh ki samasyao se dur-dur tak sambandh na rakhane wale Rahul Gandhi ko anavasyak rup se pradhan mantri ke liye sabse yagya sabit karne me apni sari urja lagye hue hai aur Rahul bhi bajai iske ki yaha ke bare me jane padhe we ghum ghum ker sirf mahuo banane me lage hai desh sari neetia unhe sthapit karne ke matalab se banai ja rahi.ib\n jaise logo se kya imandari aur samvedanshilata ki un\mid ki ja sakati hai.Vaise apka sujhaw itana vawaharik aur sujh bujh wala hai iske bare me tatkal vichar karane ki awasyakata hai

के द्वारा:

maine apne coment me sena ke prayog per kuch nahi likha hai to maine soch ki is per bhi apne vicharo ko rakhana chahiye maovadio ke khilaf sena ke prayog ko sahi isliye nahi tjaraya ja sakta hai kyoki we desh ke algav ki rajneet nahi karate hai.jabki kashmire ya purvottar ke vidrohi algawvad ki rjneet karate hai.jis tarah bhartiya janta party ya koi bhi virodhi dal satta pane ki rajneet karte hai usi tarah maovadi bhi desh todne ki nahi satta pane ki rajneet karte hai.unaka tarika galat ho sakata hai lekin unke virodhko algavwadi nahi kaha ja sakata.Akhir unake pratirodh ki vajah se hi aj sarkar un chetro ke vikaski bat ker rahi hai jaha kabhi sattapahuchi hi nahi.aur isi liye surachabal kamyab nahi ho pa rahe hai ki sarkaro ne na to waha sadak banwai hai aur na vikas ka koi nishan waha muojud hai.is bat ka bhi bahut halla hai we kuon sa vikas chahte hai we to schoolo ko bum se uda rahe hai are bhi mai dur to nahi janta lekin isi uttar pradesh me kitane vidyalay hai jaha ek hi adhyapak 4 class ko padha raha hai aur sath hi me jangadna bhi ker raha hai aur mavbeshio ki gadna ker raha hai pahale unhe to yhik karo ek purdkalik adgyapak do shichamitro ke bharose shicha jinaka padhaya 5class ka ladaka nam likh le yahi bahut haiusper na in chati pitane walo ki nigah jati hai aur jati bhi hai to usaki upecha ker dete hai.kuoki unhe adivasio ke hito se kuch lena dena nahi sirf laffaji karani hai.agar sarakar inlogo ko bagar muawaja diye inke gharo se khadedne lage to inhe bhi naovadio ki upyogita samajh a jayegi\' Tata,Mittal,Vedanta aur tamam deshi videshi pujipatio ki dalali ker rahi hai sarakar wah bhi sirf 6%roylity ke liye baki to undertable len den ho chuka hoga isi liye bagar taiyari ,radneet aur samabjasya ke suracha balo ki ahuti de ja rahi hai sarkar ko bahut jaldi hai 62 sal ka vikas 62 dino me ker dikhana hai aur pure desh ko viksit ker chuke ab sirf wahi chetra bacha rah gaya hai.padhe likhe log jab is tarah ki bat karte hai to sharmidagi hoti hai ki sabhya hone ka yahi matalab hai ki agar bhukha adami roti magata hai to inhe gali lagati hai.

के द्वारा:

bahut badhia vishleshad kiya hai apne badhai ho.isaki ek prati Chidumbrum ji ko jarur bhejiega shayed unhe budhi a jai aur we soche ki samashya ki jad kaha hai.jab aj se dasko pahale ke visthapito ko nyay nahi mila fir kis adhar per ye jaberjasti ho rahi hai.Ap carporate vakil ho sakate hai ya carooporate dalal dono ek sath nahi chalne wala.loktantra ka matalab jaberdasti nahi ho sakta .samajh nahi ata ki abhi pichale grih mantri shivraj oopatil kah rahe the ki vastav me naxsalvadi utana bada khatara nahi jitana badha ker bataya ja raha hai.fir ekaek kya ho gayaki antaric suracha ke liye we sabse bada khatara ban gaye.Chidmbrum ko videshi atankvadio se nipatane ke liye laya gaya tha aur we apna ajenda lagu karane lage.Vedanta ke bord of director ki kursi isi liye chod ker to samaj seva ka natak karane to nahi aye hai ki bagar prashikchad ke aur bagar radneet ke bagar rajyo se samanjasya bathae suracha balo ko merwane per utaru hai.itani jaldi bhi kya haiadivasio ka sab kuch to samvidhan dwara hi loot ker unhe apne jangal aur jamin se bedakhal ker diya gaya aur ab unhe mar ker jaberdasti bhagaya ja raha hai.aj kaha ja raha hai ki adivasio ke hitasi naxsalvadi nahi ho sakte lekin inhi adivasio ko tendu patte ki todai ki keemat 2paise bandal thekedaro se milta tha to ye tathakathit naxsalvadi hi the ki usi bandal ka ab 1rupia unhe mil raha hai.to sawal naxsalvadio ke samarthan ka nahi hai bali garibo ke shoshad ka hai jisame sabhi shamil hai sarkar bhi.isiliye aj jarurat hai garibo aur vanchito ke pach me khade hone ki jo is mahati jimedari se bhagega use bhavishya maf nahi karega.

के द्वारा:

श्रीमान संपादक महोदय,मैं आपकी बात से सहमत हूँ,{१}ठीक है कमीं हरेक व्यवस्था में होती है लेकिन क्या उन कमियों की आढ़ में हिंसा जायज है, क्या माओवादी उस व्यवस्था का हिस्सा बनकर उस व्यवस्था को बेहतर करने की कोशिश नहीं कर सकते?{२}क्या कभी माओवादियों ने विकास का वैकल्पिक मॉडल सामने रखा? सही सोचा रखनेवाला कौन भारतीय नहीं चाहता की हिंदुस्तान के हर क्षेत्र का विकास हो?ये तो माओवादी ही हैं जो विकास की हरेक निशानी स्कूल,सड़कें,पुल,सरकारी इमारतें आदि को उड़ा रहे हैं,क्या ऐसे विकास होगा ?{३}वास्तव में माओवादी सिर्फ सत्ता हथियाना चाहते हैं वो भी बंदूक के बल पर,ये तो माओ भी कहता था क़ि "सत्ता बन्दूक की गोली से निकलती है "और इनका नेता किशनजी भी कहता है,क्या ये माओवादी उन क्षेत्र का विकास कर रहे हैं जहाँ ये प्रभावी हैं?वास्तव में माओवादी गरीब जनता को गुमराह करते हैं,मानवाधिकारवादी मओवादिओं को भारतीय नागरिक बताकर उनके खिलाफ सरकार की कड़ी कार्यवाही का विरोध करते हैं तो क्या जिनको माओवादी मारते हैं वो चीनी हैं या बर्मी हैं या पाकिस्तानी हैं वो भी भारतीय नागरिक ही हैं उनके लिए मानवाधिकारवादी माओवादियों को नहीं समझाते ? बंदूक चलाने वालों से कोई रहम नहीं रखते हुए सरकार को पिछड़े क्षेत्रों के विकास पर युध्धस्तर पर कार्यवाही करनी होगी,हत्यारों को पिछड़े क्षेत्रों और गरीब आदिवासिओं का प्रतिनिधि नहीं माना जा सकता है , मओवादिओं का agenda सिर्फ पोलिटिकल है ,हत्यारों को बंदूक का जवाब बंदूक से ही देना पड़ेगा और भारतीय जनता का बहुमत इसमें सरकार के साथ है ,

के द्वारा:

wait wait everybody just think for a moment please and answer few questions pl. what naxalites are doing? Are they fighting for secular society? What our government is doing to stop them from last 40 years? Whether there is honesty in our political thinking for naxals ? Why our people(specialy poor) are joining and supporting them ? Why few intellectuals are shedding tears on death of both our brave jawans(sahid/scapegoat of our indecisive government) and people who die on the name of naxalites . These are creation of unequal distribution of money.Poor people are not getting their share ,they are starving,fighting for their day to day business.The gap between rich and poor are getting widened day by day.Our P.M. is not worried for the increasind prices of commodities.Our agriculture minister is justifying it. Nobody questions how our politicians are becoming millionaire in a span of 4-5 years. Why no court/no government questions them.Why we are spending huge money on IPL. When IPL was held in south africa lalit modi was seen distributing cheques to schools for upliftment. Why he is not doing the same in India.We are spendind crores and crores on parties and cheergirls from foriegn in IPL but not on the poor girls who are also semi naked(due to poverty) like cheerleaders.Is it necessary.Sir we indians only know to blame others.Naxals are also not going to change the thing ,they are also sharing the pie in this loot and they are showing dream to poors and downtrodden which are government is not doing.Our bureaucracy has got no fear of law.they think themselves above law. We the common man will have to first fight against them, we will have to first give respect to our law which most of us are not doing. the time has come to awaken and for a freedom struggle from our corrupt and ill attitude. Jago india Jago otherwise it will be too late.

के द्वारा:

apka kahana bilkul sahi hai,lekin ek bat per dhyan nahi haiki kya mao vadio ki paribhasha pulice tay karegi ya adalat.is desh me kanun ka shashan hai.Ap log manvadhikarvadio ko kosate hai,lekin wahi suprim court se saja paye Afjal guru ki biryani se koi etraj bhi nahi. ek pakistani jisane sakdo logo k samne golio ki barsat ker hadkamp macha diya lekin uske uper mukadma chala ker saja ka drama चल रहा hai aur wahi dr.sen jaise logo ko jise suprimcourt ne bhi fatkar lagai ki bagar dosh 2sal jail ke peche dal dete ho.Yahi sab harkate manwadhikarwadio ko muoka deti hai hastchep karne ka.Rahi bat jantaki to unhe kyo nahi chidumberum mahodai batate hai ki vedanta ka unase kya rishta tha ya hai.aur pardarshi tarike se yah bhi batana chahiye ki khanij ka theka kise kin sharto per diya gaya hai.aur jin adivasio ki jamin ja rahi hai unake visthapan ki kya vyavstha hai.In khayepiye aghaye logo ko to her bhukh gali hai.kya yahi loktantra hai. maovadi aj se nahi hai,we to 30 sal se gatiwidhi chala rahe hai,lekin khanij ke liye theka videshio ko abhi diya gaya hai.kyo nahi chidumburum mahodai apna aur paryawaran nash ke liye puri dunia me kukhyat Vedanta se unaka kya rishta hai.samajh nahi ata ki khani ke liye ujade jane ka virodh karane per unhe pardarshita ke sath batana chahiye aur unake punrwas ka prabandh karana chahiye aur aisa na hone per awaj uthegi hi usase khaye oiye aghaye logo ko kitani bhi apatti kyo na ho.kya loktantra ka yahi matalab hai ki jo mar diya gaya wah nacsalwadi hai.ya usaki jach ki bhi koi vyavstha hai.yah to saf fasiwad hai ki bagar mukadama chalaye goli mar do aur kaho ki yah to nacsalwadi tha aur sab log man le jo nahi manega ki marane wala nacsawadi tha wah bhi nacsalwadi hai.wah bhi wah hidustani loktantras kijai ho.

के द्वारा:

तथाकथित मानवाधिकारावादी और बुद्धिजीवी छद्म वेश में माओवादी ही हैं. ये सिविल सोसाइटी में माओवादियों की हिंसक गतिविधियों के लिए भूमि तैयार करते हैं, उनके हिंसक कार्यों को उचित ठहराने के लिए कुतर्क गढ़ते हैं और समाज में भ्रम के स्थिति पैदा करते हैं. वर्त्तमान असंतोष में घी डालने का काम करते हैं सरकार और प्रशासन को भटकाने का काम करते हैं. मानवाधिकारवादी माओवादियों का सिविल चेहरा है. मानवाधिकार और बुद्धिजीवी होने का आवरण ओढ़ने से इनको समाज में प्रतिष्ठा मिलती है जिसका दुरूपयोग ये अपने घृणित उद्देश्यों की पूर्ति के लिए करते हैं. आदिवासी तो इनके हाथ में मोहरे मात्र हैं. इलेक्ट्रानिक और प्रिंट मीडिया को चाहिए इनको एक्सपोज़ करे और इनका बहिष्कार करे. इनको सामाजिक प्रतिष्ठा तो बिलकुल नहीं मिलनी चाहिए. इनका सामाजिक बहिष्कार होना चाहिए.

के द्वारा:

ये समस्या अब हमरे देश की सुरक्षा के लिए खतरा बन गई है .. सरकार की कमजोरी इस युद्ध को और खतरनाक बनाती जा रही है , ये भी मुश्किल नहीं की ये नक्सली देश के दुश्मनों के साथ मिलकर भारत की आतंरिक सुरक्षा के लिए बहुत बड़ा खतरा बन जाये... और उसका खामियाजा हमें तब भुगतना पड़े जब (कभी ईश्वर न करे) हम किसी बाहरी समस्या से उलझ रहे हो ... पडोसी सम्बन्ध अभी सामान्य नहीं हुए है .. ऐसे में आतंरिक व्यवस्था को नियंत्रण में रखने सबसे ज्यादा जरुरी है अन्यथा खतरनाक परिस्थितिया खड़ी हो सकती है ,, राज्य और केंद्र सरकारों का रवैया देश के साथ साथ सुरक्षा एजेंसियों का मनोबल भी तोड़ने वाला है ..इससे वे हतोत्साहित होंगे.... सबसे पहले तो इन पाखंडी मानवाधिकार वादियों का इलाज करने की जरुरत है ....ये भी एक खतरा बने हुए है ..क्योकि इनकी मानवाधिकार की भावना तभी जगती है जब कोई आतंकवादी या अपराधी मरता है , या नक्सली मरता है ... तमाम आम लोग और सुरशाकर्मियो के मरने पर ये झंडे समेत गायब रहते है.....

के द्वारा: NIKHIL PANDEY NIKHIL PANDEY

आपका कहना बिलकुल सही है. वास्तव में देश अपने ही कई गद्दारों से घिर चुका है. ऐसे लोग निर्दोष लोगों के विरुद्ध की जा रही ज्यादतियों के खिलाफ नपुंसक बन जाते हैं और आतंकियों का समर्थन कर उनके लिए सहानुभूति पैदा करने की कोशिश करते हैं. याद रहे कि देश ऐसे लोगों को ज्यादा समय तक बर्दाश्त करने की हालत में नहीं है. जब विस्फोट होगा तो सबसे पहले ऐसे ही समर्थकों का सफाया होगा क्योंकि ऐसे लोग नक्सलियों और आतंकियों तथा अपराधियों के हित में काम कर रहे हैं. देश में इन्हें पनाह देने वाली ताकते सावधान हो जाएं क्योंकि अब पानी सर से ऊपर चढ़ चुका है. भगवान् श्रीकृष्ण ने कहा है कि किसी भी रीति से युद्ध में विजय पाना ही धर्म है. और अब इस धर्म को निभाने का समय आ चुका है.

के द्वारा:

देश में तमाम ऐसे द्रोही हैं जो नक्सलवादियों से मिले हुए है. ऐसे लोगों ने सफेद्पोशी का चोला ओढ़ रखा है. इनमें से कुछ नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में कार्य करने के नाम पर नक्सलियों के मुखबिर बने हुए हैं और कुछ मीडिया और बौद्धिक जगत में पैठ बना कर नक्सलियों के लिए आर्थिक-रणनीतिक साधन जुटा रहे है. यही लोग अन्य अपराधियो और आतंकवादियों के लिए भी ढाल का काम करते हैं. ये लोग देश और विदेश में इन राक्षसी शक्तियों के हित में माहौल बनाते हैं ताकि भारत बदनाम हो और इनका शासन कायम हो सके. श्री लंका में लिट्टे के लिए ऐसे ही लोग काम कर रहे थे जिससे भारत सहित कई देश प्रभावित हो चुके थे. किन्तु अंततः श्री लंका की सरकार ने दृढ़ता दिखा कर लिट्टे का समूल नाश कर ही दिया. क्या भारत सरकार को यही नीति नहीं अपनानी चाहिए ताकि देश को युद्ध की आग में झोकने वाले दुष्टों का समूल संहार हो सके और आमजन सुरक्षित महसूस कर सके. वक्त आ चुका है जब की सेना को विशेष अधिकारों से लैस कर नक्सलियों के सफाए की छूट दी जाए और एक सशक्त नीति अपना कर इनका समर्थन करने वाले लोगों, छद्म मानवाधिकारवादियों, छद्म बुद्धिजीवियों के दुष्प्रचार पर रोक लगाई जा सके.

के द्वारा:

 सर जी इस सम्बन्धय मे मै आपको एक कहानी सुनाता हू एक गांव मे दो पडोसी रहते थे। एक पडोसी बडा खुर्राट था वह दूसरे को अक्सर परेशान करता रहता था। एक वार उसने एक कुतिया पाला उस कुतिया का एक पिल्ला था वह पिल्ला अक्सकर पडोसी को काटने की जुगत लगाया करता था। एक दिन उस पिल्ले ने पडोसी को काट लिया। पडोसी इस घटना से सावधान हो गया एक दिन वह पिल्लास दौडते दौडते पडोसी के घर मे आ गया। पडोसी ने उसे घर मे बन्द कर दिया और दूसरे पडोसी से शिकायत करता है कि आप अपने कुत्ते को मारें क्योकि उसने मुझे काटने के लिये अपने पिल्ले को हमारे घर मे भेजा है। और पडोसी साहब उस पिल्ले को दूध घी मुर्गा और विरयानी खिला रहे है। जो पिल्ला पकउ है उसे तो मार नही रहे है और जिसका कुछ विगाड नही सकते उसके लिये हल्लार मचा रहे है। सजा पाये अफजल गुरूवार को सजा दे नही पा रहे है अजमल कसाब को बिरयानी खिला रहे है और सईद के प्रर्त्यिपण की बात कर रहे हैं किसी दिन कोई और विमान अपहरित हो जायेगा और इन्हे वाइज्जित सरहद पार भेज दिया जायेगा और फिर प्रपण की मांग की जायेगी। यह तो वास्ताविक चारित्र है हमारे नेताओं का जब तक इन आतंकवादियों को चौराहे पर उल्‍टा लटका कर गोली नही मारी जायेगी आतंकवाद पर नियंत्रण नही होगा। आतंकवादियों को विरयानी खिलाना शायद भारत को ही भाता है अन्य देश होता तो कब की फांसी लग चुकी होती। हम ठहरे धर्म निरपेक्ष देश एक मुसलमान को कैसे फासी दें जबकि मुसलमान उसे मुसलमान मानने को तैयार नही है और हम है कि बिरयानी खिलाये जा रहे है। आतंकवादियों को सरेआम फासी दो देखों कैसे आतंकवाद नियत्रित नही हो जाता है। आवश्यकता है दृढ इच्छा शक्ति की जो हमारे राजनेताओं मे नही है।

के द्वारा:

Sonia congress to sas bahu ko mat dene wali gharelu rajneet kar rahi hai.aur chapluso ke fuoj se tali bajawa ker anndit ho rahi hai.Sonia Rahul ki rajneet dekh ker to lagata haiki ye log desh ko kaise chala rahe hai.suotiha dah ki mari sonia bechjari isake siwai Amitabh bachan ka kuch ker bhi to nahi sakati.ye sadi ke mahanayak apne bute bane hai,aj jo puri dunia me unaka danka baj raha hai wahi unaki ahmiyat sabit karne ke liye kafi hai.dusari taraf bechari sonia jo gandhi khandan ki vadhawa ki hasiyat se cngress ki sadar bani baithi hai.Inhe rajneet ke bare me kuch nahi malum lekin sas,bahu ,dewarani jethani ki rajneet ki champian lagati hai akhi Menaka Gandhi ko kab ka nibta hi chuki hai.Hamare yaha ek deshi kahawa kahi jati haijo sonia gandhi kemuojuda kriyakalapo per ekdum sateek bathati hai,Jab maug adami mardata hai to pahale apne syaji ko hi lalkaratahai.Hamne to yah bhi suna hai ki shadi ke pahle sonia Amitabh ke ghar hi rahi thi aur Jaia bachan ne unhe sadi pahanana aur hindustani reet riwaj seekha tha.congressi to haihi aise ki unhe bathane ke liye kaha jata hai to we let jate hai.nahi to Thakreki alochanakis muh se karte hai jab khudunase neechtame bahut age dikhtr\\e hai Thakre ka to ek stand tha inaka to wah bhi nahi.Modi ke sath hindustan ke uchchatam nyayalay ke mukhya nyayadhish ko bathane me koi apatti nahi aur in emerjency laga ker desh ko karagar me badalne walo aur dilli me hajaro sikho ko muot ke dhat utarne walo ko koi natik adhikar nahi ki sadi ke mahanayak jise hindustan ki janta ne salo se ser,ankho per bitha rakhahai ke bare me ochi harkat kare ye to pata nahi ki alakaman se unhe uphar milata hai ya nahi lrkin janta unaka swagat juto se karane ki sochne lagi hai.In congesio ka kya jab ala kaman ko lagega ki ulti pad gayi to kutte ki tarah dutkare jayege aur fir khamosh ho jayege.inaki yahi harkat Rahu ko pradhan mantri ke liye sabse yigya batane per Arjun singh vagarah ke sath hua.

के द्वारा:

ambedker ke mahati prayaso seanuikched 45 me 1-14 sal ke bacho ko muft shilcha deneanuckched 45ke rajya ke neet nirdesho ke khand 4 me rakha gaya.guar करने wali bat ye ki khand char me matra Anukched hai jisake liye samay seema nirdharit hai samvadhan lagu hone ke 10 sal ke bhitar ho jana chaiye thadusara 14 sal ke umra ke bachu me 1-6 sal ke bache bhi shamil the jinake shikcha swasth poshad ki jimmedari rajyo ko karani thi.tatitanahi nahi 8sal muft gudvacta yuct shikcha ka pravidhan samvidhan me kiyya gaya tha aur iseanukched 46 ke sath padha jana tha jisame dalito,pichade aur adivasio ka vishesh khyaj rakhana tha IS pure shikcha ke bahas me naya mod uchchatam nyayala ne 1993 me unnikrishdan mamle me vyavstha di kianuched 45 ko khand3 ke jiwan ke haq wale ached 21 ke sath padha jana chahiye kyo ki gyan dene wali shikcha ke bagar insan ka jiwan nirrathak hai. Is prakar badi adalat ne 1se 14 sal ke bacho ko aniwarya aur muft shikcha pane ka muolic adhikar ka darja de diya. tabhi se bharat sarkar unnikrishadan fasale ko kamjor ya vikrit करने ka daw-pech chalta raha san 2002 me loksabha me 86 va sanshodhan vadheyak pesh huya natija yah hua ki jo adhikar sarvach nyayalay se mile the unaka bhi apharad kar liya gaya.is sashodhan ke jariye khand3 me 21 k joda gaya jisake madhyam se sirf 6-14 sal ke bacho ko aniwarya shikcha ka muolik adhikar sasa\\hart diya gaya pure khand 3 me yah akela muolik adhiksar hai jo sharto ke sath diya gaya hai.shart yah hai ki is prakar hum dekhte haiki jo adhikar sarvacha nyayalay ne 1993 me diya tha use is sarkar ne adhe adhyre man se muolik adhikaro me shamil kiya hai aur iske liye kisi ki gudgan करने kijarurat nahi balki inaka pardafas hona chahiye.

के द्वारा:

अभिवादन, आधा पानी से भरा हुआ गिलास है. सकारात्मक और नकारात्मक, दोनों ही दृष्टिकोद वाले लोग इसे देख सकते है. केंद्र ने अपनी झोली में एक और लड्डू डाल लिया है. ०-६ और १४-१८ वर्ष के बच्चों के लिए खुला आसमान है. अपने दम पर कुछ करेंगे. पूंजीपतियों द्वारा चलाये जा रहे निजी स्कूल तो लाखो को करोड़ों में तब्दील करने वाली मशीन है. ऐसे में २५ प्रतिशत गरीब बच्चे वहां कैसे अपना मुंह दिखायेंगे ? क्या कोई निजी स्कूल समाज सेवा के नाम पर भी चल रहा है ? कोई बच्चा महीने-दो महीने की फीस किसी कारन नहीं दे पाता है तो इसके लिए कुछ निजी स्कूलों ने अड्मिसन के समय ही सिकुरिटी राशी लेने की परंपरा चला दी है, जो ३-४ महीने की फीस की पूर्ती कर सकता है. नए-२ कानून बनाने से ज्यादा पहले से बने कानूनों को अधिक प्रभावी ढंग से लागू करने की अधिक जरुरत है. खैर कानून बनाने वाले कानून ही बनायेंगे. उसे लागू करने वाले उनके गुलाम थोड़े ही है. वो देखेंगे की कहाँ कितना लागू करना है, है भी या नहीं. वैसे भी दुनिया उम्मीद पर ही तो कायम है. धन्यवाद.

के द्वारा:

यह निहायत ही घटिया कार्य है। इसकी जितनी भी निंदा की जाए, कमतर ही होगी। कांग्रेस बजाय कोई प्रशंसनीय कार्य करने से रही। अलबत्‍ता, मुख्‍यमंत्री नरेन्‍द्र मोदी को हर समय कोसने से नहीं बाज आ रही है। मोदी जी तो ऐसे व्‍यक्ति हैं जिनकी जितनी भी तारीफ की जाए कम ही होगी। उनकी अगुवाई में गुजरात उ‍तरोत्‍तर प्रगति के पथ पर अग्रसर है। कांग्रेस महज इसीलिए नाराज है क्‍योंकि वे भाजपा पार्टी से जुडे हुए हैं। मेरा संदेश है उन कांग्रेसी मंत्रियों व नेताओं को, जो नाहक ही निंदा पर उतारु हैं। उन्‍हें व्‍यक्ति से घृणा के बजाय अच्‍छे कार्य की तारीफ करनी चाहिए। आखिर उन्‍होंने देश व प्रदेश की नीतियां बनाने का जिम्‍मा जो लिया है। लवलेश कुमार मिश्र, रायबरेली।

के द्वारा:

मैं बात कर रहा हु बरेली में चल रहे दंगो की. आखिर कब तक हम यु ही आपस में लड़ते मरते रहेंगे और हमारी धार्मिक भावनाओ प ये नेता लोग अपनी राजनितिक रोटी सकते रहेंगे? अज जरुरत है बस देश के विकास की परन्तु ये धर्म के नाम पे हम सिर्फ अपनों का ही नहीं बल्कि अपने देश का भी सर शर्म से नीचा कर रहे है. मैं पूछता हु उस बेकसूर जनता से क्या कोई नेता उस समय आपके आगे खड़ा होता है जब आपके परिवार को दंगे में धकेल दिया जाता है? वास्तव में बहुत दुःख पहुचता उस खुदा को, उस भगवान् को, जब उसके बन्दे और अनुयायी आपस में मर कट मचाते है. aap सभी से मेरी यही विनती है, कृपया इस घोर अनर्थ का विरोध करे और देश सेवा को सर्वोपरी रखे.

के द्वारा:

महिला आरक्षण विधेयक का सर्वाधिक नुक्सान मुस्लिम समाज को होगा क्योकि उनकी महिलाये राजनीती में कम ही निकलती है लगता है बीजेपी इसी कारण कांग्रेस के साथ वोट करने से परहेज नहीं कर रही है, कांग्रेस भी बीजेपी का काम ही करती नज़र आ रही है, लेकिन चाणक्य से लेकर आज तक एक बात सत्य है कि महिलाओ के लिए जमाना कभी नहीं बदल सकता दुनिया पुरुषो की है, इसे पुरुष ही चलाये तो बेहतर है, महिलाओ की शरीर रचना ऐसी नहीं है की वो ज़माने के जोखिमो को झेल सके और दुनिया में जोखिम अब पहले से बढे है ऐसे में पुरुषो का काम पुरुष और महिलाओ का काम महिलाये ही करे तो बेहतर है, एक रिपोर्ट के अनुसार देखा जा रहा है की सार्वजनिक जीवन में रहने वाली महिलाओ के कारण उनके बच्चे सफ़र कर रहे है, वे ममता, शिक्षा और मार्ग दर्शन के अभाव व दिशा हीनता का शिकार बने है, नारी परिवार को बनाती है उसे राज काज के झंझट में मत डालो

के द्वारा: drdeepakdhama drdeepakdhama

सर, आपने अत्यंत ज्वलंत समस्या को उठाया है। इस पर राष्ट्रव्यापी बहस और फौरी कदम उठाए जाने की जरूरत है। सचमुच नक्सलियों का दुस्साहस बढ़ता जा रहा है। पश्चिम बंगाल के मिदनापुर में 24 जवानों की बेरहमी से हत्या के दो दिन बाद ही बिहार के जमुई जिले में एक गांव में तांडव मचाकर नक्सलियों ने हमारी शासन व्यवस्था को खुली चुनौती दी है। एक तरफ हम दुनिया की बड़ी महाशक्ति बनने का दावा करते हैं, दूसरी ओर हमारे घर में ही मौजूद मुट्ठी भर माओवादी हमें बार-बार हमारी ताकत का अहसास करा रहे हैं। विभिन्न राज्यों में नक्सलियों की बढ़ती ताकत और उनके पास आधुनिक हथियारों का होना इस बात की ओर साफ इशारा कर रहे हैं कि उनकी सांठगांठ कुछ ऐसी ताकतों के साथ हो चुकी है, जो भारत को अस्थिर करना चाहती हैं। आंकड़े बताते हैं कि भारत में पिछले तीन वर्षों में आतंकी हमलों में कुल 436 लोग मारे गए हैं, जबकि नक्सली हमलों में मारे गए लोगों की संख्या 1,500 से ज्यादा है। ऐसी स्थिति में अब भी नक्सलियों के हिंसा छोड़ने और वार्ता के माध्यम से समस्या का समाधान सोचने की बात बेमानी ही होगी। नक्सलियों ने तो माओ से एक ही बात सीखी है कि ताकत बंदूक की नली से आती है। अब समय रहते उन्हें ईंट का जवाब पत्थर से नहीं दिया गया तो देर हो जाएगी। नक्सली समस्या ने भारत में संसदीय लोकतंत्र के लिए खतरा पैदा कर दिया है, लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण यह है कि निहित स्वार्थ में कुछ बड़े नेता अकसर वामपंथियों के सुर में सुर मिलाते हुए नक्सलियों के लिए ढाल बनकर खड़े हो जा रहे हैं। पश्चिम बंगाल में राज्य सरकार के साथ-साथ रेल मंत्री ममता बनर्जी तो झारखंड में खुद मुख्यमंत्री शिबू सोरेन नक्सलियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं चाहते। यह समय की मांग है कि सरकारों के साथ-साथ सभी दलों के नेता, जिनमें थोड़ी भी देशभक्ति बची है, अपने निहित स्वार्थों से ऊपर उठकर इस समस्या का हल तलाशें। htpp://ranjanrajan.jagranjunction.com

के द्वारा: रंजन राजन रंजन राजन

आदरणीय विक्रम जी आपने बिलकुल ठीक लिखा है कि आखिर इन देश के गद्दारों के गले में फंदा बनकर पड़ने वाली रस्सी न जाने कब तैयार होगी जो कि इस देश को बांटने के लिए कुत्सित इरादे अपने दिलों में लिए हुए हैं। हकीकत में भगवान शिव के नाम पर एक से तरह से कंलंक सी प्रतीत होने वाली शिवसेना व मनसे महाराष्ट्र को भाषा व क्षेत्रवाद के नाम पर तोड़ कर वही काम कर रही है जिसे पाकिस्तान में बैठी पाक समिर्थत एजेंसियां कर रही हैं।जिस तरीके से शिवसेना व मनसे महाराष्टर में काम कर ही है उससे एेसा प्रतीत होता है यह दोनों ही पार्टियां पाक समिथर्त आंतकवाद से जुड़ी हुई हैं और इन दोनों पार्टियों के नेताओं के खिलाफ देशद्रोह के मामले दर्ज िकए जाने चाहिए। सुनील राणा

के द्वारा: